scorecardresearch
 

BT Mind Rush: अगले दशक में 7% तक की दर से बढ़ेगी इंडियन इकोनॉमी, बोले कॉरपोरेट दिग्गज

Business today mind rush 2022: सरकार के इन्फ्रास्ट्रक्चर पर निवेश के साथ-साथ प्राइवेट सेक्टर को भी निवेश करना होगा. पिछले 5 साल में प्राइवेट सेक्टर का पूंजीगत निवेश देश में धीमा हुआ है. हालांकि अगले दशक में भारत की अर्थव्यवस्था के 6.5% से लेकर 7% की दर से बढ़ने की उम्मीद है.

X
क्रिसिल के एमडी और सीईओ अमीश मेहता (Photo : Hemant Rawat) क्रिसिल के एमडी और सीईओ अमीश मेहता (Photo : Hemant Rawat)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • निजी निवेश बढ़ाने की जरूरत
  • संकट के लिए पहले से तैयार हम

इंडियन इकोनॉमी की मौजूदा हालात पर आज बिजनेस टुडे के माइंड रश (BT Mind Rush) में कॉरपोरेट दिग्गजों ने अपनी बात रखी. इस दौरान कई दिग्गजों ने भारतीय अर्थव्यवस्था की हालिया परेशानियों के लिए वैश्विक घटनाक्रमों को जिम्मेदार ठहराया, तो वहीं अगले दशक में भारतीय अर्थव्यवस्था के 7% तक की दर से बढ़ने की बात भी कही.

Tata Steel के सीईओ और एमडी टी.वी. नरेंद्रन से जब देश की अर्थव्यवस्था के मौजूदा कर्व (हालात) को लेकर सवाल किया गया, तो उन्होंने कहा-हमें मान लेना चाहिए कि आर्थिक हालात हमेशा बदलते रहते हैं. महत्वपूर्ण ये है कि हम इन हालातों पर प्रतिक्रिया कैसे देते हैं. दूसरा अब हम एक ज्यादा कनेक्टेड दुनिया में रहते हैं, इसलिए भू-राजनैतिक स्तर पर होने वाली किसी भी घटना का अब पहले से ज्यादा असर होता है. जब कोविड आया, तो हमें लगा कि ये चीन की समस्या है, वहीं जब रूस और यूक्रेन का युद्ध (Russia Ukraine War) शुरू हुआ, तो हमें लगा कि ये यूरोप का प्रॉब्लम है, लेकिन इनका वैश्विक असर पड़ा है.

7% तक की दर से बढ़ेगी इकोनॉमी
वहीं Crisil के एमडी और सीईओ अमीश मेहता ने भी कहा कि अभी अनिश्चिता का दौर है. महंगाई से लेकर आर्थिक वृद्धि तक पर दुनिया की घटनाओं का हम पर असर पड़ता है. इसी के साथ उन्होंने देश में निवेश की जरूरत पर जोर दिया. उन्होंने कहा कि सरकार के इन्फ्रास्ट्रक्चर पर निवेश के साथ-साथ प्राइवेट सेक्टर को भी निवेश करना होगा. पिछले 5 साल में प्राइवेट सेक्टर का पूंजीगत निवेश देश में धीमा हुआ है. हालांकि अगले दशक में भारत की अर्थव्यवस्था के 6.5% से लेकर 7%  की दर से बढ़ने की उम्मीद है.

हम पहले से बेहतर तरीके से तैयार
The Winning Formula: Staying ahead of the curve सत्र में ही NSDL की एमडी और सीईओ पद्मजा चुंदरू ने कहा कि कोविड ने अर्थव्यवस्था को हर तरह से प्रभावित किया. इसके अलावा मौजूदा वैश्विक हालातों का भी असर पड़ रहा है, लेकिन पिछले आर्थिक संकटों की अपेक्षा इस बार हम पहले से बेहतर तरीके से तैयार हैं. सरकार से लेकर आरबीआई तक इस पर सजग है. 

ये भी पढ़ें: 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें