ट्रेंडिंग

कोरोना वॉरियर्स पर बुरा असर डाल रही ये महामारी, 8 महीने में बदल गया नर्स का चेहरा

  • 1/5

अमेरिका के टेनेसी में एक नर्स आठ महीनों से कोरोना वायरस पीड़ितों की सेवा में लगी रही लेकिन इस दौरान वो इस जानलेवा महामारी के प्रभाव से नहीं बच सकी. संक्रमण और उसके प्रभाव की वजह से नर्स के चेहरे और शरीर में कई बदलाव आ गए जिसके बाद उसने खुद ट्विटर पर तस्वीरें शेयर कर लोगों को बताया कि इन 8 महीनों में कोरोना वायरस ने कैसे उसकी पूरी सूरत ही बदल दी.

  • 2/5

करीब दस महीनों से लगातार दुनिया भर के डॉक्टर और नर्स निजी और सरकारी अस्पतालों में बिना थके रोगियों के इलाज में जुटे हुए हैं. इस दौरान कई नर्स और डॉक्टरों की जान तक चली गई. चौबीसों घंटे स्वास्थ्य सेवाओं के बावजूद भी रोगियों की संख्या दुनिया के कई हिस्सों में लगातार बढ़ती जा रही है. दूसरे शब्दों में अगर कोरोना वायरस को एक युद्ध मान लें तो डॉक्टर, नर्स और चिकित्सा सहायक घातक युद्ध से निपटने के लिए उपकरणों से लैस होकर युद्ध के मैदान पर सैनिकों की तरह लड़ रहे हैं. नर्स ने अपने ट्विटर हैंडल @kathryniveyy पर अपनी दो तस्वीरें शेयर कर पूरे मामले की जानकारी दी है

  • 3/5

स्वास्थ्य सेवाओं में लगे लोगों को हर समय अपनी सुरक्षा और अपने सहयोगियों और अन्य लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए पीपीई किट पहननी पड़ती है. लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि हर दिन 10-12 घंटे के लिए मास्क और दस्ताने के साथ प्लास्टिक सूट पहनने से उन्हें कितनी दिक्कत होती है.

  • 4/5

टेनेसी की एक नर्स ने आठ महीने तक COVID-19 के खिलाफ अग्रिम मोर्चे पर काम करने के प्रभाव और शारीरिक तकलीफों को उजागर करने के लिए पहले और बाद की तस्वीरों को साझा किया है. टेनेसी राज्य में पहले से ही 4,200 से अधिक मौतों के साथ 3,30,000 से अधिक कोरोना संक्रमण के मामले दर्ज हो चुके हैं. 

  • 5/5

कैथरीन राज्य के कई चिकित्साकर्मियों में से एक हैं जो महामारी से निपटने के लिए अग्रिम मोर्चे पर काम कर रही हैं. उसकी आठ महीने की खींची गई तस्वीरों से पता चलता है कि काम का तनाव उस पर कितना हावी हो गया है. पहली तस्वीर में 27 वर्षीय नर्स को मुस्कुराते हुए और उसके स्नातक होने के बाद दिखाया गया है जबकि दूसरी तस्वीर में पीपीई किट और मास्क पहनने से लेकर घंटों काम करने के बाद उसके चेहरे पर आए निशानों को दिखाया गया है.

लेटेस्ट फोटो