scorecardresearch
 

क्या अफगानिस्तान के सत्ता संघर्ष में मारा गया मुल्ला बरादर? जानिए क्या बोला तालिबान

अफगानिस्तान की नई तालिबान सरकार में मुल्ला बरादर के डिप्टी प्रधानमंत्री बनाए जाने के बाद सोशल मीडिया पर तेजी से एक अफवाह फैल रही है, जिस पर अब तालिबान ने सफाई पेश की है.

Mullah Baradar Mullah Baradar
स्टोरी हाइलाइट्स
  • मुल्ला बरादर की मौत की खबरें सोशल मीडिया पर वायरल
  • तालिबान ने खारिज की रिपोर्ट्स, बताया बिल्कुल गलत
  • अफगानिस्तान का नया डिप्टी पीएम है मुल्ला बरादर

अफगानिस्तान की नई तालिबान सरकार में मुल्ला बरादर के डिप्टी प्रधानमंत्री बनाए जाने के बाद सोशल मीडिया पर तेजी से एक अफवाह फैल रही है, जिस पर अब तालिबान ने सफाई पेश की है. कुछ समय पहले से सोशल मीडिया पर तेजी से यह बात फैलनी शुरू हुई कि मुल्ला बरादर की मौत हो गई है.

अब इन अफवाहों को तालिबान ने गलत बताया है. तालिबान प्रवक्ता सुहैल शाहीन ने सोमवार को बताया कि मुल्ला बरादर की मौत या फिर घायल होने की रिपोर्ट्स गलत हैं. इसमें कोई भी तथ्य नहीं है और यह सच भी नहीं है. मैं इसे पूरी तरह से खारिज करता हूं.    

दरअसल, अफगानिस्तान पर कब्जे के बाद दावा किया जा रहा था कि मुल्ला अब्दुल गनी बरादर को देश का नया प्रधानमंत्री बनाया जाएगा, लेकिन जब तालिबान ने अंतरिम सरकार की घोषणा की तब सभी को चौंकाते हुए बरादर की जगह मुल्ला हसन अखुंद को प्रधानमंत्री घोषित कर दिया. दो डिप्टी पीएम भी बनाए गए, जिसमें एक मुल्ला बरादर है.

इसके बाद से ही सोशल मीडिया पर रिपोर्ट्स तेजी से वायरल होने लगीं कि बरादर खुद को प्रधानमंत्री नहीं बनाए जाने से काफी खफा हैं. ट्विटर पर पंजशीर एनआरएफ के नाम वाले अकाउंट ने दावा किया कि हमारे पास विश्वसनीय रिपोर्ट्स हैं कि मुल्ला गनी बरादर की मौत हो गई है और हक्कानी घायल हो गया है. दोनों के बीच में सत्ता संघर्ष को लेकर राष्ट्रपति भवन में लड़ाई हुई, जिसके बाद एक की मौत और दूसरा घायल हो गया. 

सोशल मीडिया पर आगे दावा किया गया कि दोनों पिछले कुछ दिनों से मीडिया में दिखाई भी नहीं दिए हैं. अब तालिबान के प्रवक्ता सुहैल शाहीन ने इन सभी दावों को गलत बताया है. इससे पहले कतर के उप-प्रधानमंत्री व विदेश मंत्री शेख मोहम्मद बिन अब्दुर रहमान अल सानी ने काबुल की यात्रा की.

इस दौरान उन्होंने तालिबान के शीर्ष नेतृत्व से मुलाकात की थी. इसमें अफगानिस्तान के प्रधानमंत्री मुल्ला हसन अखुंद और गृह मंत्री सिराजुद्दीन हक्कानी भी शामिल रहे. हालांकि, इस बैठक में डिप्टी पीएम मुल्ला बरादर और उप-विदेश मंत्री मोहम्मद अब्बास स्टानिकजई शामिल नहीं हुए, जिसके बाद सोशल मीडिया पर अटकलों का बाजार गरम हो गया. कोई दोनों के छोटे पद मिलने की वजह से खफा होने का दावा करने लगा तो कोई बरादर की मौत होने की बात कहने लगा.

बरादर ने मौत की अफवाहों के बाद ऑडियो टेप किया जारी

वहीं, बरादर ने अपनी मौत की अफवाहों के बाद ऑडियो टेप भी जारी किया है. तालिबान के प्रवक्ता मोहम्मद नईम ने अपने ट्विटर अकाउंट पर लिखा कि कुछ मीडिया आउटलेट्स में चल रही अफवाहें कि मुल्ला बरादर मारा गया या घायल हो गया था, वह असत्य हैं.  उन्होंने मौत की अफवाहों के लिए 'फर्जी प्रचार' को जिम्मेदार ठहराया. उन्होंने कहा कि यह सब प्रचार निराधार है. यह दुश्मन की मात्र कोरी अफवाह  है.

 

वहीं, मुल्ला अब्दुल गनी बरादर ने भी मीडिया में चल रहे सभी अफवाहों को खारिज कर दिया है. बरादार ने ऑडियो मैसेज जारी कर कहा कि अफवाहों को बहुत बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया गया है, मैं सुरक्षित और स्वस्थ हूं, मै पिछली कुछ रातों से मैं यात्राओं पर गया हूं. इस समय मैं जहां भी हूं, हम सब ठीक हैं, मेरे सभी भाइयों और दोस्तों मीडिया हमेशा नकली प्रचार प्रकाशित करता है. इसलिए, उन सभी झूठों को बहादुरी से खारिज करें, और मैं आपको 100 प्रतिशत पुष्टि करता हूं कि कोई समस्या नहीं है और हमें कोई समस्या नहीं है.

 

पाकिस्तान ने शुरू की इंटरनेशनल फ्लाइट

अफगानिस्तान में हालात बिगड़ने के बाद दुनियाभर के देशों ने काबुल एयरपोर्ट से कमर्शियल फ्लाइट्स की सेवाओं पर रोक लगा दी थी. लेकिन जैसे ही तालिबान ने अपनी सरकार का गठन किया है, पाकिस्तान ने अफगानिस्तान के लिए फिर से फ्लाइट्स सेवाओं को शुरू कर दिया.

सोमवार को पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस का एक विमान काबुल एयरपोर्ट पर लैंड हुआ, जिसमें 10 लोग सवार थे. यह फ्लाइट इस्लामाबाद से काबुल पहुंचा था. इसके अलावा, पीआईए ने कहा है कि वह जल्द-से-जल्द सभी विमानों को पहले की तरह फिर से शुरू करने की योजना बना रहा है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें