scorecardresearch
 

चूहों को केले से लगता है डर, हैरान करने वाली है वजह 

ये जानकर आपको बहुत हैरानी होगी कि चूहे, केले से डरते हैं. केला देखकर दूर भागते हैं. वैज्ञानिकों ने पता लगाया है कि केले की महक से चूहों में तनाव बढ़ जाता है. जानिए इसके पीछे की वजह.

X
चूहों को केले सख्त नापसंद हैं (Photo: Unsplash)
चूहों को केले सख्त नापसंद हैं (Photo: Unsplash)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • केले की खुशबू से चूहों को होता है तनाव
  • n-pentyl acetate नाम का कंपाउंड है वजह

वैज्ञानिकों को हाल ही में पता चला है कि चूहे केले से दूर भागते हैं. केले की खुशबू उन्हें तनाव देती है. मॉन्ट्रियल, क्यूबेक (Montreal, Quebec) में मैकगिल यूनिवर्सिटी (McGill University) के शोधकर्ताओं ने शोध किया जिसमें उन्होंने चूहों में स्ट्रेस हार्मोन (Stress hormones) का पता चला.

ऐसा तब हुआ जब वे गर्भवती या स्तनपान कराने वाली चुहियों के करीब थे. वैज्ञानिकों ने शोध में पाया कि चुहियों के मूत्र में एन-पेंटाइल एसीटेट (n-pentyl acetate) नाम के कंपाउंड की वजह से, चूहों में हार्मोनल बदलाव शुरू हो गया था. इसी कंपाउंड की वजह से केले में खास खुशबू होती है.  

mice are terrified of bananas
केले से चूहे में स्ट्रेस होता है (Photo: Unsplash)

साइंस एडवांसेज (Science Advances) जर्नल में प्रकाशित शोध के वरिष्ठ लेखक जेफरी मोगिल (Jeffrey Mogil) का कहना है कि यह हमारे लिए आश्चर्य था, क्योंकि हम असल में इसकी खोज नहीं कर रहे थे, ये अचानक ही हमें पता चला. किसी दूसरे प्रयोग के लिए हमारी लैब में गर्भवती चुहियां थीं और हमारे एक छात्र ने महसूस किया कि चूहों ने अजीब तरह से व्यवहार करना शुरू कर दिया था. 

 mice are terrified of bananas
केले की खुशबू के लिए एन-पेंटाइल एसीटेट ही जिम्मेदार है (Photo: Unsplash)

पेपर में, शोधकर्ताओं ने लिखा है कि नर चूहे, खासकर जो वर्जिन होते हैं, वे अपनी अनुवांशिक फिटनेस को आगे बढ़ाने के लिए शिशु हत्या जैसी आक्रामकता (Infanticidal aggression) में शामिल होने के लिए जाने जाते हैं. इन संभावित शिकारियों से अपने बच्चों को बचाने के लिए गर्भवती और स्तनपान कराने वाली चुहियां अपने शरीर से रासायनिक उत्सर्जन करती हैं. इसके जरिए वे चूहों को खुद से दूर रहने का संदेश देती हैं.

 

यह देखने के बाद कि चुहियों के मूत्र में मौजूद कैमिकल की वजह से चूहों में तनाव का स्तर बढ़ गया, शोधकर्ताओं ने सोचा कि अगर यह कैमिकल कहीं और से आए तो भी क्या चूहे इसी तरह का व्यवहार करेंगे. शोधकर्ता केले का तेल लाए और रुई में उसे लगाया. इस रुई को उन्होंने चूहों के पिंजरों में रख दिया. उसकी महक से चूहों में तनाव के स्तर काफी हद तक बढ़ गया, ठीक उसी तरह जैसे मूत्र की वजह से बढ़ा था. शोधकर्ताओं ने यह भी पाया कि तनाव का स्तर वर्जिन चूहों में काफी ज्यादा था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें