scorecardresearch
 

Parenting Tips: बच्चों पर प्रेशर डालने के होते हैं गंभीर नतीजे, पैरेंट्स सीख लें मोटिवेट करने का ये गुर

Parenting Tips: पेरेंट्स की अच्छी सोच और कोशिशें कभी-कभी उन पर ही भारी पड़ जाती हैं. बच्चों से बहुत ज्यादा उम्मीदें उन पर ऐसा दबाव डालती हैं जिसका असर उनकी पूरी पर्सनालिटी पर पड़ता है. एक्सपर्ट्स के अनुसार पेरेंटल प्रेशर बच्चों को मानिसक तौर पर बहुत प्रभावित करता है. वहीं बच्चों पर सही तरीके का प्रेशर डालने से बच्चों का ट्रांसफॉर्मेशन गजब तरीके से होता है.

X
बच्चों पर बहुत ज्यादा दबाव डालने का असर उनके व्यक्तित्व पर पड़ता है
बच्चों पर बहुत ज्यादा दबाव डालने का असर उनके व्यक्तित्व पर पड़ता है
स्टोरी हाइलाइट्स
  • बच्चों पर बहुत दबाव का मानसिक असर
  • आत्मविश्वास में आती है कमी
  • सकारात्मक तरीके से करें मोटिवेट

Parenting Tips: हर पेरेंट्स की चाहत होती है कि उनके बच्चे हर काम बहुत अच्छे तरीके से करें और जो भी करें उसमें सफल हों. पेरेंट्स की अच्छी सोच और कोशिशें कभी-कभी उन पर ही भारी पड़ जाती हैं. बच्चों से बहुत ज्यादा उम्मीदें उन पर ऐसा दबाव डालती हैं जिसका असर उनकी पूरी पर्सनालिटी पर पड़ता है. एक्सपर्ट्स के अनुसार, पेरेंटल प्रेशर बच्चों को मानिसक तौर पर बहुत प्रभावित करता है. वहीं बच्चों पर सही तरीके का प्रेशर डालने से बच्चों का ट्रांसफॉर्मेशन गजब तरीके से होता है.

बच्चों पर गलत प्रेशर का पड़ता है ऐसा असर- साइकोलॉजिस्ट के अनुसार, पेरेंटल प्रेशर की वजह से बच्चों का तनाव बहुत ज्यादा बढ़ जाता है और आमतौर पर इस दबाव को वो कंट्रोल नहीं कर पाते हैं. ज्यादा दबाव की वजह से वो ठीक से सो नहीं पाते हैं, आत्म विश्वास की कमी हो जाती है जो आगे चलकर डिप्रेशन और अन्य मेंटल कंडीशन में बदल जाता है. इसका असर शारीरिक तौर पर भी पड़ने लगता है. पढ़ाई या एक्टिविटी को लेकर बच्चों पर नेगेटिव प्रेशर का असर (Negative Impact of Unhealthy Pressure) एकदम से नजर नहीं आता है. यही वजह है कि बच्चों में आ रहे बदलाव को पेरेंट्स भी अक्सर नहीं समझ पाते हैं. 

नेगेटिव प्रेशर के बच्चों में लक्षण- बच्चों को बहुत ज्यादा प्रेशर झेलने में दिक्कत होती है और इसका संकेत कुछ लक्षणों से लगाया जा सकता है. जैसे कि बच्चे का बहुत सुस्त हो जाना, अचानक किसी काम से दिलचस्पी खत्म हो जाना, बहुत गुस्सा आना, खुद को बचाने के लिए झूठ बोलना या फिर चीजें छिपाने जैसी आदतें बच्चों में आने लगती हैं. पेरेंट्स को ये बात ध्यान में रखनी चाहिए कि वो बच्चों को इस तरह समझाएं या प्रोत्साहित करें कि बच्चे इसे दबाव की तरह ना लें.

बच्चों को ऐसे करें मोटिवेट- एक्सपर्ट्स का कहना है कि अपने उम्मीदों को उचित नियमों और प्यार के साथ ही बच्चों पर डालें तभी वो दबाव को सकारात्मक तरीक से ले सकेंगे. आपको बच्चे को सही तरीके से प्रोत्साहित (Best type of motivation for kids) करना चाहिए. बच्चे पर दबाव डालने की बजाय उसे उस काम को एंजॉय करने दें, कंट्रोल करने की बजाय चीजों में उनकी दिलचस्पी बढ़ाएं. कोई भी नई चीज बच्चों को एक खेल की तरह सिखाने की कोशिश करें. किसी भी एक्टिविटी को जरूरी काम की तरह देने का दबाव डालने से बचें और छोटे-छोटे निर्णय उन्हें ही लेने दे. इससे बच्चे की पर्सनालिटी में सकारात्मक बदलाव देखने को मिलते हैं.

 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें