scorecardresearch
 

अर्बन नक्सल पर भड़के पीएम मोदी, कहा- पर्यावरण के नाम पर विकास रोकने वालों को पहचानना जरूरी

पीएम मोदी ने कहा कि अर्बन नक्सलियों, विकास विरोधियों ने इस सरदार सरोवर बांध को रोककर रखा था. इसका शिलान्यास आजादी के तुरंत बाद किया गया था. इसमें सरदार वल्लभ भाई पटेल पटेल ने अहम भूमिका निभाई थी. इसका उद्घाटन जवाहर लाल नेहरू ने किया था. लेकिन सारे अर्बन नक्सल मैदान में आ गए.

X
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (फाइल फोटो) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (फाइल फोटो)

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए गुजरात के एकता नगर में पर्यावरण मंत्रियों के राष्ट्रीय सम्मेलन का उद्घाटन किया. इस दौरान पीएम मोदी ने 'अर्बन नक्सल' पर जमकर निशाना साधा. पीएम मोदी ने एकता नगर में बने सरदार सरोवर डैम का जिक्र करते हुए कहा कि अर्बन नक्सलियों, विकास विरोधियों ने इस डैम को रोककर रखा था. इसका काम नेहरू जी ने शुरू किया था, लेकिन पूरा मेरे आने के बाद हुआ.

पीएम मोदी ने कहा कि अर्बन नक्सलियों, विकास विरोधियों ने इस सरदार सरोवर बांध को रोककर रखा था. इसका शिलान्यास आजादी के तुरंत बाद किया गया था. इसमें सरदार वल्लभ भाई पटेल पटेल ने अहम भूमिका निभाई थी. इसका उद्घाटन जवाहर लाल नेहरू ने किया था. लेकिन सारे अर्बन नक्सल मैदान में आ गए. दुनियाभर के लोग सामने आ गए. कहा गया कि ये पर्यावरण विरोधी है. ये काम नेहरू जी ने शुरू किया था, लेकिन पूरा मेरे आने के बाद हुआ. कितना झूठ चलाया गया. 

पीएम मोदी ने कहा कि आज भी ये अर्बन नक्सल चुप नहीं हैं. इनके खेल जारी हैं. इनके झूठ पकड़े जाते हैं. फिर भी ये मानने को तैयार नहीं हैं. इन लोगों को कुछ राजनीतिक लोगों का समर्थन मिल जाता है. पीएम मोदी ने कहा कि भारत में विकास को रोकने के लिए कई वैश्विक संस्थान भी ऐसे पसंद आने वाले विषय लेकर तूफान खड़ा कर देते हैं. ये अर्बन नक्सल माथे पर लेकर इन्हें नाचने लगते हैं. और हमारे यहां रुकावट आ जाती है. 

 


पीएम मोदी ने राज्यों के पर्यावरण मंत्रियों को संबोधित करते हुए कहा कि ऐसे लोगों की पहचान करना जरूरी है. साथ ही पर्यावरण की चिंता करते हुए ऐसे लोगों की साजिशों को पहचानने की जरूर है. जो वर्ल्ड बैंक तक को,  ज्यूडिशियरी तक को प्रभावित कर देते हैं. 

पीएम मोदी ने कहा कि आज का नया भारत, नई सोच, नई अप्रोच के साथ आगे बढ़ रहा है. आज भारत तेजी से विकसित होती economy भी है, और निरंतर अपनी ecology को भी मजबूत कर रहा है. हमारे forest cover में वृद्धि हुई है और wetlands का दायरा भी तेज़ी से बढ़ रहा है 

उन्होंने कहा कि अपने कमिटमेंट को पूरा करने के हमारे ट्रैक रिकॉर्ड के कारण ही दुनिया आज भारत के साथ जुड़ भी रही है. बीते वर्षों में गीर के शेरों, बाघों, हाथियों, एक सींग के गेंडों और तेंदुओं की संख्या में वृद्धि हुई है, कुछ दिन पहले मध्य प्रदेश में चीता की घर वापसी से एक नया उत्साह लौटा है. 

 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें