scorecardresearch
 

'जुबान फिसल गई तो आलोचना नहीं, समालोचना कीजिए', फटी जींस' पर CM रावत की पत्नी ने किया बचाव

उत्तराखंड के सीएम तीरथ सिंह रावत की पत्नी डॉ. रश्मि त्यागी ने कहा कि सीएम को मालूम है कि महिलाओं के अच्छे के लिए क्या जरूरी है. महिलाओं के प्रति हेल्थ, एजुकेशन जैसी चीजों की बड़ी आवश्यकता है.

X
पत्नी ने CM तीरथ सिंह रावत का किया बचाव (फाइल फोटो) पत्नी ने CM तीरथ सिंह रावत का किया बचाव (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • फटी जींस वाले बयान पर बुरे फंसे सीएम तीरथ सिंह रावत
  • पत्नी डॉ. रश्मि त्यागी ने बयान का किया बचाव

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत महिलाओं के कपड़ों पर कमेंट कर बुरे फंसे हैं. उनके इस बयान को लेकर राजनीति, फिल्म जगत, हर तरफ से उनपर निशाना साधा जा रहा है. आजतक ने मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत की पत्नी डॉ. रश्मि त्यागी से इस मुद्दे को लेकर बात की. सीएम का बचाव करते हुए रश्मि त्यागी ने कहा कि सीएम तीरथ की मानसिकता महिलाओं के पहनावे को लेकर खराब नहीं है. वह भारतीय संस्कृति और वेशभूषा को बढ़ाने की सोच रखते हैं.

डॉ. रश्मि त्यागी ने कहा कि तीरथ सिंह रावत को मालूम है कि महिलाओं के अच्छे के लिए क्या जरूरी है. महिलाओं के प्रति हेल्थ, एजुकेशन जैसी चीजों की बड़ी आवश्यकता है. क्या बीजेपी की पुरानी सरकार के फैसले को ही बदल रहे हैं तीरथ सिंह रावत? इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि कई बार राजनीति में फैसले बदलने पड़ते हैं.

उनसे पूछा गया कि पीएम मोदी की भगवान राम की तरह पूजा क्यों होगी? इसके जवाब में उन्होंने कहा कि मैं वहां मौजूद थी, तीरथ जी ने कहा था कि भगवान राम ने बहुत काम किए. उसी तरह से पीएम मोदी भी काम कर रहे हैं. अपने काम की वजह से वे हर वर्ग और समाज में उनकी चर्चा हो रही है. भविष्य में इसी आधार पर पीएम मोदी की पूजा भी होगी. यानी कि उनकी पूजा भगवान के रूप में नहीं, कार्यो के आधार पर होगी. 

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री के बयान का बचाव करते हुए रश्मि त्यागी ने कहा कि तीरथ सिंह रावत महिलाओं का बेहद सम्मान करते हैं. महिला की भागीदारी को समझते हैं. वो महिलाओं का अपमान नहीं कर सकते हैं. उन्होंने इस परिप्रेक्ष्य में बोला है कि महिलाओं को अपनी नैतिकता को बचाना चाहिए. महिलाओं के कंधों पर ये जिम्मेदारी है कि वो अपनी प्राचीन धरोहर को बचा कर रखें ,अपनी संस्कृति को आगे बढ़ाएं.

उन्होंने कहा कि हमारी ताकत इसी में है कि हम अपने भारत देश के खानपान, वेशभूषा को अपनाते रहेंगे. अगर हम पश्चिमी सभ्यता की ओर आगे बढ़ेंगे तो हमारे देश की संस्कृति को छिन्न भिन्न कर दिया जाएगा. इसी के निहितार्थ उन्होंने ऐसे शब्द कहे होंगे. वो बहुत संस्कारी हैं, एक प्रचारक इस तरह की भाषा नही बोल सकता है. हम अगर अपनी पहचान को विश्वपटल पर लाना चाहते हैं तो हमको ऐसा करना होगा.

डॉ. रश्मि त्यागी ने आगे कहा कि यह जींस वाले  प्रकरण को उछाला जा रहा है. मैं इसे कोई बहुत बड़ा विषय नहीं समझती हूं. अन्य समस्याओं पर चर्चा करनी चाहिये. क्या जींस हमारी समस्या है? हमारे समाज की समस्या है? देश की समस्या है? जो इसे इतना महिमा मंडित किया जा रहा है. उत्तराखंड की अन्य परेशानियों पर चिन्तन और मनन होना चाहिए. 

उन्होंने कहा कि हमारी एक ही बेटी है और मैं खुद एक वर्किंग लेडी हूं. तो मैं कैसे मान सकती हूं कि तीरथ जी भेदभाव जैसी बात करेंगे. एक व्यक्ति ने पिछले चार दिनों में इतने मजबूत निर्णय लिए हैं. इस पर भी चर्चा होनी चाहिए. मैं ये भी कहती हूं कि अगर किसी व्यक्ति की जुबान फिसल भी गयी तो आलोचना नहीं बल्कि समालोचना करिए, उसके गुणों का अवलोकन करिए.

मेरठ का दामाद बना उत्तराखंड का सीएम

मेरठ स्थित कैलाश पूरी में उत्तराखंड के नए सीएम तीरथ सिंह रावत की ससुराल है. मेरठ की रश्मि त्यागी से तीरथ सिंह रावत की शादी 9 दिसंबर 1998 में हुई थी. रश्मि विद्यार्थी परिषद से जुड़ी रही हैं. वह मिस मेरठ और मिस आर जी भी रही हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें