scorecardresearch
 

UP: त्योहारी सीजन में सब्जियों के दाम आसमान पर, बढ़ी कीमत के चलते लोगों का बजट बिगड़ा

सब्जियों की कीमतों में लगातार वृद्धि पिछले दिनों लगातार हुई बारिश के चलते हो रही है क्योंकि लगातार बारिश के चलते सब्जियां खेतों में ही खराब हो गई थीं. सब्जी के व्यापार से जुड़े लोगों का मानना है कि इसमें अभी कोई गिरावट नहीं आने वाली.

देश के अन्य राज्यों की तरह यूपी में भी सब्जियों के दाम में लगातार बढ़ोतरी हो रही देश के अन्य राज्यों की तरह यूपी में भी सब्जियों के दाम में लगातार बढ़ोतरी हो रही
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पिछले एक हफ्ते में डेढ़ गुनी तक महंगी हुई सब्जियां
  • पिछले दिनों लगातार बारिश के चलते सब्जियों का उत्पादन प्रभावित
  • टमाटर, प्याज, परवल और भिंडी सहित कई सब्जियों के दाम बढ़े

एक तरफ जहां डीजल और पेट्रोल की कीमतें आसमान छूने लगी हैं तो वहीं दूसरी तरफ सब्जियों की कीमत में भी आग लग चुकी है. पिछले एक सप्ताह की बात करें तो सब्जियों की कीमत पिछले सप्ताह की तुलना में इस सप्ताह तकरीबन डेढ़ गुनी हो चुकी है.कई सब्जियों के दाम तो 2 गुना तक बढ़ गए हैं.

लगातार बढ़ते दामों की वजह से आम लोगों के किचन का बजट प्रभावित हो रहा है. वहीं दूसरी तरफ सब्जी व्यवसायियों का कहना है कि सब्जी की कीमतों में बढ़ोतरी पिछले दिनों हुई लगातार बारिश की वजह से हुई है.

चंदौली में डेढ़ गुनी से दो गुनी महंगी हुई सब्जियां
पूर्वी उत्तर प्रदेश के चंदौली में सब्जियों के दाम में लगातार वृद्धि हो रही है. शहर के दीनदयाल नगर स्थित सब्जी मंडी में सब्जी की कीमतों में बेतहाशा वृद्धि हो रही है. पिछले 1 सप्ताह की तुलना में प्याज, टमाटर, गोभी, लौकी, तरोई, परवल, भिंडी, खीरा, गाजर, बैगन आदि सब्जियों की कीमतें डेढ़ गुने से ज्यादा बढ़ गई है.

बताया जा रहा है कि सब्जियों की लगातार बढ़ रही कीमत पिछले दिनों लगातार हुई बारिश के चलते हो रही है. क्योंकि लगातार बारिश के चलते सब्जियां खेतों में ही खराब हो गई थीं और नई सब्जी आने में अभी कम से कम 1 से डेढ़ महीने का वक्त लगेगा. यही वजह है कि आवक कम होने के चलते सब्जियों के दाम आसमान छू रहे हैं.

इसे भी क्लिक करें --- महंगाई से त्रस्त जनता, पाकिस्तानी मंत्री बोले- कम खाइए

सब्जियों के दाम बढ़ने की वजह से आम लोगों के किचन का बजट भी गड़बड़ा गया है. लोगों का कहना है कि सब्जी महंगी होने की वजह से उन्हें काफी परेशानी हो रही है.

चंदौली के दीनदयाल नगर सब्जी मंडी के आढ़ती कला प्रसाद सोनकर ने बताया कि सब्जियों के दाम करीब डेढ़ गुना बढ़ गया है और लगातार बरसात होने की वजह से सब्जियां गल गईं, इसलिए दाम बढ़ गया. जैसे देख लीजिए पिछले हफ्ते नैनुवा ₹20 किलो बिक रहा था आज उसका रेट 30 से ₹32 किलो हो गया है. फूल गोभी ₹20 बिक रही थी अब वह 35 से ₹40 हो गया है. टमाटर 30-32 रुपये किलो बिक रहा था जो 50 से ₹60 बिक रहा है. लौकी ₹15 किलो बिक रही थी और आज ₹30 किलो बिक रहा है, लगभग दोगुना हो गया है. इसी तरह खीरा ₹15 बिक रहा था अब 30-32 रुपये बिक रहा है. हरी सब्जियों के दाम लगातार आसमान छू रहे हैं. बिक्री में भी कमी आई है.

आढ़ती ने बताया कि कोरोना संकट के बीच सब्जी काफी महंगी होने के कारण लोग पूरी सब्जी नहीं खरीद पा रहे हैं और कम खरीद रहे हैं. हम समझ रहे हैं कि इस तरह अभी महीने भर लगेगा नई सब्जी आने में. प्याज ₹24 किलो बिक रहा था आज की डेट में ₹40 किलो बिक रहा है. तो तमाम सब्जियों के दाम आसमान छू रहे हैं. बाहर से भी जो आवक हो रही थी वो कम हो रही है. बाहर में भी यही कारण है क्योंकि लगातार बरसात होने से सब्जियों के दाम बढ़ गए.

वहीं मंडी में सब्जी खरीदने आए राजेश कुमार सिंह पिछले 1 सप्ताह के अंदर सब्जियों के दाम 50% से ज्यादा बढ़ गए हैं. पहले जो भी सब्जी हम लोग 20 का लेते 40- 50 का मिल रहा है. बजट पर बहुत असर पड़ रहा है. महंगाई हम लोगों को बहुत परेशान कर रही है.

दानिश नाम के एक अन्य स्थानीय युवक ने बताया कि पहले के मुकाबले रेट काफी बढ़ गया है. आम आदमी के लिए सब्जी खरीदना बहुत मुश्किल हो रहा है. जो रोज डेली कमाने खाने वाला आदमी है उसके लिए रोजमर्रा की जिंदगी में सब्जी बहुत जरूरी चीज है. उसके लिए बहुत मुश्किल हो गया है कि कैसे वह घर का खर्चा चलाएं. खर्चा रोज दिन पर दिन बढ़ता जा रहा है. सरकार को कदम उठाना चाहिए कि सब्जियों के दाम सस्ता करें ताकि आम आदमी को तकलीफ ना हो.

प्रयागराजः सब्जियों के बढ़े दाम, जेब पर कैंची चली
संगम नगरी प्रयागराज में भी सब्जियों की महंगाई ने शहरवासियों को परेशान कर रखा है. सब्जियों के दामों में अचानक उछाल आ गया है. इस वक्त मंडियों में हरी सब्जियां जैसे कि टमाटर, हरा धनिया, हरा प्याज, पालक, फूल गोभी, घीया, टिंडा की बढ़ी हुई कीमतें लोगों की जेब पर कैंची चला रही हैं.

दुकानदारों और लोगों का मानना है कि डीजल और पेट्रोल के बढ़ते दामों के कारण ट्रांसपोर्टेशन की वजह से इन सब्जियों के दाम बढ़े हैं. सब्जियों के बढ़े दामों ने महिलाओं के किचेन का बजट भी गड़बड़ा गया है, जो टमाटर लोग किलो दो किलो लेते थे आज वो पाव भर या आधा किलो से काम चला रहे हैं क्योंकि खाना है तो लेना ही पड़ेगा.

सर्दियों में 20 रुपये के भाव मिलने वाला टमाटर इन दिनों मंडियों में 60 रुपये से 80 रुपये किलो के भाव बिक रहा है. परवल-टिंडा-शिमला मिर्च के दाम 80 से 100 रुपये किलो तक मिल रहे है, जिससे आम लोगों को खासी दिक्कत बढ़ गयी है.

मेरठः रुला रही प्याज की कीमतें, अन्य सब्जियां भी हुईं महंगी

मेरठ में सब्जियों के दामों में लगातार बढ़ोतरी देखने को मिल रही है. पिछले एक सप्ताह में सबसे ज्यादा तेजी टमाटर और प्याज के दामों में देखने को मिली है. मेरठ की सदर बाजार सब्जी मंडी में लोगों का कहना है कि लगभग एक सप्ताह में टमाटर और प्याज के दाम दोगुने हो गए हैं. एक सप्ताह पहले जहां टमाटर के दाम 20 से 25 रुपये किलो थे अब वह 60 रुपये किलो तक पहुंच गए हैं. यही हाल प्याज का है जहां प्याज एक सप्ताह पहले 30 रुपये किलो बिक रही थी अब प्याज 50 से 60 रुपये किलो के आसपास बिक रही है.

लोग अब कम सब्जी खरीदने को मजबूर हुए
लोग अब कम सब्जी खरीदने को मजबूर हुए

महंगाई से लगातार लोग परेशान हैं और उनका कहना है कि सब्जियों के साथ-साथ पेट्रोल डीजल और गैस के दाम भी बढ़ रहे हैं जिस पर सरकार को ध्यान देना चाहिए. जब हमने इस बारे में मंडी के दुकानदार से बात की तो उसका कहना है कि एक सप्ताह में टमाटर और प्याज के दाम दोगुने हो चुके हैं जिससे उनकी दुकानदारी पर फर्क पड़ रहा है और सब्जी कम बिक रही है. दुकानदारों का कहना है कि बरसात का बहाना बनाया जा रहा है और दाम लगातार बढ़ रहे हैं.

त्योहारी सीजन में लोगों के खर्च पहले से कहीं ज्यादा बढ़ जाते हैं तो वहीं रही-सही कसर महंगाई और सब्जियों के बढ़े दामों ने पूरा कर दिया है.

वाराणसीः महंगी हुई सब्जियां, अब कम खरीदी जा रही सब्जी
वाराणसी में भी पिछले हफ्ते भर से लेकर 10 दिनों में सब्जियों के रेट में करीबन डेढ़ से दुगने तक का उछाल आ गया है, जिससे लोगों के घर का बजट बिगड़ गया है. पहले जहां 200 से 300 रुपये में सब्जी आ जाया करती थीं वहां अब लोगों को ₹500 तक खर्च करने पर भी सब्जियां पूरी नहीं पड़ पा रही हैं.

वाराणसी के असी चौराहे के पास ऐसी ही लगी एक सब्जी की दुकान पर जुटे लोगों ने और सब्जी विक्रेता ने अपना दुखड़ा रोया और इस वक्त सब्जी के बढ़ते दामों खासतौर से नवरात्र में प्याज के न उपयोग होने के बावजूद भाव में भी डेढ़ से दोगुने का इजाफा हो जाने पर हैरानी जताई. सब्जी खरीदने आए लोगों ने घर के बिगड़े बजट और त्योहार के मौके पर अन्य खरीदारी में कटौती की बात बताई तो वहीं दुकानदार ने भी पहले से बिक्री और आमदनी आधी हो जाने की जानकारी दी क्योंकि लोग सिर्फ जरूरत भर की ही चीजों को खरीद रहे हैं.

वाराणसी के फुटकर बाजार में सब्जियों के भाव प्रति किलो के हिसाब से लगभग इस प्रकार हैं जो हफ्ते 10 दिन में डेढ़ से दोगुने या उससे भी ज्यादा के दर पर पहुंच गए हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें