scorecardresearch
 

ओबामा के भारत दौरे पर दुश्मन की नजर, सीमा पार से फिदायीन दस्ते को भेजने की तैयारी

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के भारत दौरे के दौरान पाकिस्तान बड़ी आतंकी साजिश को अंजाम देने की फिराक में है. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, पाक सेना ने 110 स्पेशल सर्विस ग्रुप के कमांडोज को लाइन ऑफ कंट्रोल और अंतरराष्ट्रीय सीमा पर आतंकियों की मदद के लिए तैनात कर दिया है. लश्कर-ए-तैयबा, जैश-ए-मोहम्मद और हिजबुल मुजाहिद्दीन के ये आतंकी देश में घुसपैठ की फिराक में हैं.

symbolic image symbolic image

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के भारत दौरे के दौरान पाकिस्तान बड़ी आतंकी साजिश को अंजाम देने की फिराक में है. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, पाक सेना ने 110 स्पेशल सर्विस ग्रुप के कमांडोज को लाइन ऑफ कंट्रोल और अंतरराष्ट्रीय सीमा पर आतंकियों की मदद के लिए तैनात कर दिया है. लश्कर-ए-तैयबा, जैश-ए-मोहम्मद और हिजबुल मुजाहिद्दीन के ये आतंकी देश में घुसपैठ की फिराक में हैं. खुफिया जानकारी के बाद सेना और बीएसएफ को अलर्ट कर दिया गया है.

खबर है कि लश्कर, जैश और हिजबुल के 70 से 100 आतंकियों को 4 से 5 समूहों में जीरोलाइन के पास देखा गया है. आतंकियों की ये हरकत सियालकोट और शकरगढ़ में देखी गई है. जिनमें मशरूर बड़ा भाई, अबियाल डोगरा, सुखो चक और चक अमरू के अलावा सांबा सेक्टर के पास सुखमा, डरमान, धंदर समेत रामगढ़ सेक्टर, पुरा सेक्टर और पर्गवाल सेक्टर के पास कई हिस्से शामिल हैं.

पाकिस्तानी सेना के एसएसजी कमांडोज आम तौर पर आतंकियों की मदद करने का काम करते हैं. सेना के सूत्रों के बताया कि कारगिल घुसपैठ में भी इन्हीं एसएसजी कमांडोज की भूमिका थी, वहीं 31 दिसंबर 2014 को हुई घुसपैठ के पीछे भी इसी एसएसजी ब्रिगेड का हाथ था. एसएसजी के इन कमांडोज को ब्लैक स्टॉर्क्स या फिर मैरून बेरेट्स भी कहा जाता है. आम तौर पर ऐसे दस्तों को बॉर्डर पर तैनात नहीं किया जाता है.

मंदिरों को निशाना बनाने की तैयारी
खुफिया सूत्रों से आजतक को मिली एक्सक्लूसिव जानकारी के मुताबिक, पाक सेना की मदद से आतंकी संगठन देश में आतंकी साजिश को अंजाम देने की फिराक में हैं. आतंकियों के निशाने पर बड़े मंदिर या भीड़भाड़ वाली जगह हो सकती हैं. इसके लिए बड़ी संख्या में आत्मघाती हमलावरों के दस्ते भारत में भेजने की तैयारी है. लश्कर, जैश और हिजबुल भारत के चार राज्यों को निशाना बनाने की फिराक में हैं. इन राज्यों में ओडिशा, महाराष्ट्र, राजस्थान और उत्तर प्रदेश शामिल हैं. इन राज्यों में ऐसी जगहों को निशाना बनाया जा सकता है, जहां तबाही सबसे ज्यादा हो. आतंकी संगठनों के मंसूबे ओबामा दौरे के दौरान 28 जनवरी से पहले आतंकी हमलों को अंजाम देने के हैं.

सिद्धि विनायक की सुरक्षा बढ़ाई गई
आईबी रिपोर्ट्स के मुताबिक, मुंबई का सिद्धि विनायक मंदिर आतंकियों के निशाने पर है. यहां बड़ी तादाद में श्रद्धालु भगवान सिद्धि विनायक की पूजा के लिए इकट्ठे होते हैं. मुंबई में हमलों को अंजाम देने के लिए अब्दुल्ला अल अंसारी के साथ नासिर अली, जाबेद इकबाल, मोबिद जेमान और शमशेर नाम के आतंकियों को तैनात किया गया है. ये सभी आतंकी 25 साल से कम उम्र के हैं.

ओडिशा में आतंकी हमलों की खुफिया इनपुट के बाद हाई अलर्ट घोषित कर दिया गया है. पूरे राज्य की सुरक्षा एजेंसियां मुस्तैद हैं. ओडिशा पुलिस ने भीड़भाड़ वाली तमाम जगहों को संवेदनशील मानकर चौकसी बढ़ा दी है और कुछ संवेदनशील जिलों पर खास ध्यान रखा जा रहा है.

दिल्ली में ओबामा दौरे को लेकर सुरक्षा कड़ी
शुक्रवार को राजपथ पर गणतंत्र दिवस परेड की फुल ड्रेस रिहर्सल होनी है, वहीं आतंकी हमलों की आशंका के मद्देनजर राष्ट्रीय राजधानी में सुरक्षा बढ़ा दी गई है. अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा की यात्रा को ध्यान में रखते हुए दिल्ली के पास 300 किलोमीटर के दायरे में हवाई उड़ानों पर पाबंदी लगा दी गई है. हालांकि, ये पाबंदी एयरफोर्स, बीएसएस और एआरसी पर लागू नहीं होगी. राज्यपालों और मुख्यमंत्रियों को भी इसमें छूट दी गई है. निजी एयरलाइंस के विमानों की उड़ानों पर इस दौरान पूरी तरह पाबंदी लगा दी गई है.

भारत इस बार हवा में सुरक्षा का सबसे आधुनिक मॉडल इस्तेमाल कर रहा है. एयरबोर्न वार्निंग एंड कंट्रोल सिस्टम की मदद से ओबामा के भारत दौरे के दौरान कोई फाइटर या क्रूज मिसाइल की जानकारी भी 400 किलोमीटर दूर से ही मिल जाएगी. भारतीय विदेश विभाग ने अमेरिकी राष्ट्रपति के भारत दौरे के कार्यक्रम को अंतिम रूप दे दिया है. अमेरिकी राष्ट्रपति 25 जनवरी की सुबह 10 बजे दिल्ली पहुंचेंगे.

जमात-उद-दावा की सफाई
पाकिस्तान सरकार की ओर से बैन लगाए जाने के बाद आतंकी संगठन जमात-उद-दावा ने सफाई पेश की है. जमात-उद-दावा का कहना है कि पाक विदेश मंत्रालय ने अमेरिकी दबाव में आकर उसे बदनाम करने वाले बयान दिए हैं, जबकि उसका संगठन पाकिस्तान में केवल समाजसेवा के काम में लगा हुआ है. पाकिस्तान विदेश विभाग के प्रवक्ता ने इससे पहले कहा था कि पाकिस्तान ने हाफिज सईद के संगठन जमात-उद-दावा के तमाम खाते बंद कर दिए हैं और उस पर पाबंदी लगा दी है, क्योंकि इस संगठन पर अमेरिकी सेंक्शन कमेटी ने पाबंदी लगाई हुई है.

भारत में ओबामा का कार्यक्रम
दिल्ली पहुंचने के बाद 25 जनवरी को बराक ओबामा का सबसे पहले राष्ट्रपति भवन में भव्य स्वागत होगा. इसके बाद वो राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि देने के लिए राजघाट जाएंगे. इसके बाद हैदराबाद हाउस में द्विपक्षीय वार्ता होगी. दोपहर में पीएम मोदी ओबामा को लंच पार्टी देंगे तो शाम को डिनर पर उनकी मुलाकात राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से होगी.

गणतंत्र दिवस के मौके पर 26 जनवरी को ओबामा राजपथ पर गणतंत्र दिवस समारोह के मुख्य अतिथि होंगे. इसके बाद वह राष्ट्रपति भवन जाएंगे. 26 जनवरी को ही ओबामा कारोबारियों से मुलाकात भी करेंगे. 27 जनवरी को ओबामा चुनिंदा लोगों से मुलाकात करेंगे. उसके बाद वह प्रेम की निशानी माने जाने वाले ताज महल को देखने पत्नी मिशेल के साथ आगरा जाएंगे. दौरे के आखि‍री दिन 27 जनवरी को मोदी-ओबामा की जोड़ी एक बार फिर साथ होगी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बराक ओबामा के साथ मिलकर रेडियो पर अपनी 'मन की बात' करेंगे.

अंतरराष्ट्रीय सीमा पर गोलीबारी

जम्मू के सांबा जिले में सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) ने अंतरराष्ट्रीय सीमा पर संदिग्ध गतिविधियों का जवाब देते हुए गोलीबारी की, जिसके बाद सीमा के दोनों तरफ तैनात भारत और पाकिस्तान के जवानों के बीच कुछ देर गोलीबारी हुई. एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने शुक्रवार को बताया कि सांबा जिले के रेगाल सीमा चौकी पर बीएसएफ ने गुरुवार रात 10.55 बजे संदिग्ध गतिविधियों को महसूस किया, जिसके बाद उन्होंने हल्के मशीनगन से चार से पांच चक्र गोलीबारी की. उन्होंने बताया कि धानधर चौकी पर पाकिस्तान रेंजर्स ने भी जवाब में कुछ चक्र गोलीबारी की. अधिकारी ने बताया, दोनों तरफ से गोलीबारी कुछ देर तक चलती रही.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें