scorecardresearch
 

नक्शे में लद्दाख को चीन का हिस्सा बताने पर संसदीय कमेटी ने ट्विटर से पूछे सवाल

संसदीय कमेटी ने प्रोटेक्शन बिल को लेकर ट्विटर, अमेजन, गूगल और पेटीएम को समन किया है. बुधवार को कमेटी के सामने ट्विटर के अधिकारी पेश हुए.

संसदीय कमेटी ने पूछे सवाल (फाइल फोटो) संसदीय कमेटी ने पूछे सवाल (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • लद्दाख मसले पर ट्विटर से पूछे गए सवाल
  • संसदीय कमेटी के सामने ट्विटर की पेशी

भारत के लद्दाख को अपने नक्शे में चीन का हिस्सा बताने पर बुधवार को ट्विटर को संसद की पार्लियामेंट्री कमेटी के सवालों का सामना करना पड़ा. इसके अलावा भी पर्सनल डाटा प्रोटेक्शन बिल को लेकर कई सवाल ट्विटर से पूछे गए.

बीते दिनों ये बात सामने आई थी कि ट्विटर पर लद्दाख की लोकेशन दिखाने पर उसे चीन का हिस्सा बताया जा रहा है. अब संसदीय कमेटी ने इस मामले में ट्विटर से लिखित में स्पष्ट जवाब मांगा है. 

देखें: आजतक LIVE TV 

कमेटी ने ट्विटर से पूछा कि वो किस तरह किसी कंटेंट को हटाते हैं, किसी बातचीत को म्यूट करते हैं. इस दौरान ट्विटर से इसकी प्रक्रिया, कानून, नियम और तय करने के तरीके के बारे में पूछा गया. 


अपनी बातचीत में ट्विटर की ओर से ट्विटर और ट्विटर इंडिया को अलग बताया गया है. ऐसे में संसदीय कमेटी ने ट्विटर के कॉर्पोरेट स्ट्रक्चर के बारे में सवाल पूछे. 

पर्सनल डेटा प्रोटेक्शन बिल को लेकर संसद की पार्लियामेंट्री कमेटी ने अमेजन, पेटीएम और गूगल को भी समन दिया है. अमेजन बुधवार को और पेटीएम-गूगल गुरुवार को कमेटी के सामने पेश होंगे. 

जानकारी के मुताबिक, ट्विटर इंडिया की ओर से कमेटी के सामने वरिष्ठ प्रबंधक पब्लिक पॉलिसी शगुफ्ता कामरान, वकील आयुषी कपूर, पॉलिसी संचार अधिकारी पल्लवी वालिया और कॉरपोरेट सुरक्षा अधिकारी मनविंदर बाली उपस्थित हुए. इस दौरान आईटी मंत्रालय के अधिकारी भी मौजूद रहे.


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें