scorecardresearch
 

मुंबई: बाजार में बेरहमी से हत्या के मामले में हाई कोर्ट ने आरोपी को दी जमानत, गवाहों के बयान पर उठाए सवाल 

बॉम्बे हाई कोर्ट में हत्या के मामले में एक आरोपी को जमानत दे दी. कोर्ट ने कहा कि गवाहों के बयानों के आधार पर आरोपी को दोषी नहीं ठहराया जा सकता. हत्या की साजिश कभी भी दिन में और बाजारों में नहीं रची जाती है. इसके साथ ही कोर्ट ने कहा कि आरोपी का मौके से चला जाना ये साबित नहीं करता कि वह दोषी है.

X
फाइल फोटो फाइल फोटो

बॉम्बे हाई कोर्ट ने बाजार में एक शख्स की बेरहमी से हत्या करने के मामले में एक आरोपी को जमानत दे दी. कोर्ट ने उसके खिलाफ बयानों की बारीकी से जांच की और कहा कि आरोपी के अपराध को साबित करने के लिए कुछ ठोस और विश्वसनीय सबूत लाने की जरूरत है. इसके साथ ही कोर्ट ने मुंबई पुलिस द्वारा दर्ज किए गए गवाहों के बयानों पर भी सवाल उठाए.

अदालत ने राजेश यादव नाम के एक आरोपी को जमानत दे दी, जिसे पुलिस ने साजिशकर्ता की भूमिका में दिखाया था. हत्या का ये मामला सामाजिक कार्यकर्ता नितिन गुप्ता नाम के एक गवाह ने दर्ज कराया था. गुप्ता गोरेगांव के लिंक रोड स्थित रुमानिया होटल के बगल में एक होटल में सुरेश उर्फ ​​सूर्या नाम के व्यक्ति से मिलने गए थे. सूर्या, राजेश यादव के साथ बैठे थे तभी गुप्ता एक अन्य दोस्त शरीफ के साथ वहां पहुंचे. उन्होंने 15 से 20 मिनट तक चर्चा की. अपने मोबाइल नंबरों का आदान-प्रदान किया, चाय पी और उसके बाद लगभग 3 बजे वे सभी बाहर निकल गए. 

नितिन गुप्ता के मुताबिक, जब वो होटल से सटे एक खोखे में स्मोक कर रहे थे, तभी उन्होंने देखा कि यादव ने अपना स्कूटर स्टार्ट किया तभी अचानक लाल रंग की शर्ट और टोपी पहने हुए एक शख्स ने सुरेश को हथौड़े से मारा, जिससे वह गिर गया. इसी तरह दो अन्य लोगों ने उनके सीने में चाकू वगैरह से हमला किया. शरीफ ने सुरेश को बचाने की कोशिश की, लेकिन उन्हें हस्तक्षेप न करने की धमकी दी गई. वो बेहद डरे हुए थे और पीछे हट गए. गुप्ता ने पुलिस को फोन किया, हालांकि इतनी देर में हमलावर भाग गए. यादव भी अपनी स्कूटी पर भाग गए थे और अपना फोन स्विच ऑफ कर लिया था. 

हत्या की साजिशें खुले में नहीं रची जातीं: कोर्ट

यादव की ओर से पेश हुए वकील प्रशांत पांडे ने दो गवाहों के बयानों के माध्यम से अदालत का रुख किया, जिन्होंने कहा था कि यादव को सह-आरोपियों के साथ देखा गया था और उन्होंने उसे सुरेश को खत्म करने के बारे में बात करते हुए सुना था क्योंकि वह प्रसिद्ध हो रहा था और क्षेत्र में वजन बढ़ा रहा था. इस मामले में सुनवाई के दौरान न्यायमूर्ति भारती डांगरे ने कहा, "आपराधिक साजिश के सबूत स्थापित करना बहुत मुश्किल है क्योंकि साजिशें आम तौर पर रात के अंधेरे में गुप्त तरीके से रची जाती हैं, लेकिन यहां दो गवाह हैं, जो दिन में मृतक को खत्म करने की साजिश रच रहे थे यानी 15 दिन पहले या एक महीने वह सह-आरोपी के साथ मृतक को खत्म करने के लिए खुलेआम बाजार में साजिश रच रहा था. 

कोर्ट ने आरोपी को दी जमानत

न्यायमूर्ति डांगरे ने कहा कि गवाह अपने बयान की सत्यता साबित करने में विफल हुए और जब अभियोजन पक्ष आईपीसी की धारा 120बी के तहत अपना आरोप स्थापित करने में सफल होता है तो यादव को दोषी ठहराया जा सकता है. अभियोजन पक्ष ने यादव के मौके से भागने का मुद्दा उठाया था, लेकिन जज ने कहा कि यह परिस्थिति, साबित करने के लिए पर्याप्त नहीं है कि आरोपी दोषी है. इसके कई कारण हो सकते हैं कि वह मौके से क्यों चला गया. अदालत ने यह भी देखा कि पहले अभियोजन पक्ष ने कहा कि उनके पास घटना का सीसीटीवी फुटेज है, लेकिन बाद में कहा कि नहीं है. 

अभियोजन पक्ष ने कहा था कि यादव ने एक दुकान से हथौड़ा खरीदा था और दुकानदार ने उसे पहचान लिया. हालांकि कोर्ट ने कहा कि आरोप-पत्र में संकलित सामग्री के मद्देनजर इस मामले में आरोपी को निरंतर हिरासत में रखने के लिए पर्याप्त नहीं, जांच पूरी होने पर आरोप-पत्र दायर किया गया. इसलिए आरोपी अपनी स्वतंत्रता का पात्र है. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें