पाकिस्तान संसद मेंं सबकुछ सौर ऊर्जा से चलेगा, दुनिया की ऐसी पहली इमारत

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने मंगलवार को राजधानी इस्लामाबाद स्थित संसद में सौर उर्जा संयंत्र की शुरुआत की. इस बड़े प्रोजेक्ट की घोषणा सबसे पहले साल 2014 में हुई थी.

शरीफ ने कहा- पाकिस्तान-चीन दोस्ती की मिसाल है इमारत
केशव कुमार
  • इस्लामाबाद,
  • 23 फरवरी 2016,
  • अपडेटेड 8:18 PM IST

पाकिस्तान की संसद में अब सभी जरूरतों को सौर ऊर्जा के जरिए पूरा किया जाएगा. यह पूरी तरह से सौर ऊर्जा से संचालित होने वाली दुनिया की पहली इमारत बन गई है. प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने मंगलवार को राजधानी इस्लामाबाद संसद भवन में सौर उर्जा संयंत्र की शुरुआत की. इस बड़े प्रोजेक्ट की घोषणा सबसे पहले साल 2014 में हुई थी. इसके लिए पड़ोसी देश चीन ने 5.5 करोड़ डॉलर की वित्तीय मदद की है.

शरीफ बोले- पाकिस्तान-चीन दोस्ती की मिसालनवाज शरीफ ने इस मौके पर कहा कि 1947 की आजादी के बाद हमारी संसद पहली बार पूरी तरह से सौर ऊर्जा से चलाई जाएगी. देश के प्राइवेट और पब्लिक सेक्टर के दूसरे निकायों को भी इस ओर कदम बढ़ाना चाहिए. संसद को पूरी तरह से सौर ऊर्जा से चलाने के प्रोजेक्ट की शुरुआत साल 2015 में चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग की पाकिस्तान यात्रा के दौरान हुई थी. जिनपिंग ने पाक संसद में भाषण दिया था. शरीफ ने कहा यह इमारत पाकिस्तान और चीन की दोस्ती की एक और मिसाल है. संयंत्र के उद्घाटन के मौके पर शरीफ के साथ चीन के राजदूत भी मौजूद थे.

बाकी देशों में सौर ऊर्जा का आंशिक उपयोग सदन के स्पीकर अयाज सादिक ने बताया कि संसद का सौर उर्जा संयंत्र 80 मेगावाट बिजली पैदा करेगा. उन्होंने कहा कि इमारत के लिए महज 62 मेगावाट बिजली जरूरी है. बाकी 18 मेगावाट बिजली राष्ट्रीय ग्रिड को दी जाएगी. संसद के अधिकारियों ने बताया कि दुनिया के कुछ अन्य संसद इमारत जैसे इस्राइल की संसद भी आंशिक रूप से सौर उर्जा से संचालित है.

Read more!

RECOMMENDED