साइंस न्यूज़

20 सेकेंड में 40 रॉकेट दागता है भारतीय हथियार... रूस-यूक्रेन युद्ध में भी हो रहा उपयोग

ऋचीक मिश्रा
  • नई दिल्ली,
  • 27 अप्रैल 2022,
  • अपडेटेड 10:35 AM IST
  • 1/7

सोवियत संघ (Soviet Union) के समय में बने ग्रैड रॉकेट (Grad Rockets) अब भी करीब 100 देश उपयोग कर रहे हैं. ये बेहद भरोसेमंद और भयानक तबाही मचाने वाला हथियार है. इसका असल नाम बीएम-21 (BM-21) है. यह हथियार भारत में भी है. भारत के पास इसका स्वदेशी वर्जन भी है. जो ज्यादा घातक है. फिलहाल जानते हैं बीएम-21 ग्रैड रॉकेट्स के बारे में... (फोटोः रॉयटर्स) 

  • 2/7

बीएम-21 (BM-21) ग्रैड रॉकेट्स को ट्रक के ऊपर लगे लॉन्चर्स से दागा जाता है. पूरी दुनिया में इसके अब तक करीब एक लाख यूनिट्स बनाए गए हैं. एक दर्जन देशों ने इसके अपने वैरिएंट्स यानी वर्जन भी बना लिए हैं. लेकिन यह रॉकेट आज भी किसी भी तरह के युद्ध के दौरान सबसे पहले उपयोग में लाया जाने वाला बेहतरीन हथियार है. क्योंकि इससे दुश्मन का बच पाना मुश्किल होता है. (फोटोः विकिपीडिया)

  • 3/7

एक ट्रक लॉन्चर के ऊपर 40 बैरल लगे होते हैं. यानी 40 बीएम-21 (BM-21) ग्रैड रॉकेट्स को कुछ सेकेंड्स में छोड़ा जा सकता है. एक रॉकेट की लंबाई 24.2 फीट होती है. इसे चलाने के लिए तीन लोगों की जरूरत होती है. इसके लॉन्चर से हर सेकेंड दो रॉकेट दागे जा सकते हैं. अधिकतम फायरिंग रेट 240 रॉकेट प्रति मिनट होती है. यह निर्भर करता है कि कितने लॉन्चर रॉकेट दागने के लिए तैयार किए गए हैं. (फोटोः रॉयटर्स)

  • 4/7

1999 में कारगिल युद्ध के दौरान भारतीय सेना ने इन्हीं बीएम-21 (BM-21) ग्रैड रॉकेट्स का उपयोग करके ऊंचे पहाड़ों पर मौजूद पाकिस्तानी सेना और आतंकियों के छ्क्के छुड़ाए थे. इसकी गति 690 मीटर प्रति सेकेंड है. जबकि, रेंज 0.5 मीटर से लेकर 45 किलोमीटर तक होती है. मजेदार बात ये है कि इस रॉकेट के ऊपर कई तरह के वॉरहेड तैनात किए जा सकते हैं. जैसे- फ्रैगमेंटेशन, एंटी-टैंक माइंस, एंटी-टैंक सबम्यूनिशन, अंडरवॉटर चार्ज और इंसेनडियरी. (फोटोः रॉयटर्स)

  • 5/7

भारत के पास बीएम-21 (BM-21) ग्रैड रॉकेट्स का अपग्रेडेड वर्जन है. जिसे BM-21/LRAR कहते हैं. भारतीय सेना के पास ऐसे करीब 240 लॉन्चर्स हैं. यानी इसमें लगने वाले रॉकेट्स की संख्या कई गुना ज्यादा होगी. यह एक तरह का मल्टी रॉकेट लॉन्चर सिस्टम है. इसका स्वदेशी वर्जन पिनाका मल्टी रॉकेट लॉन्चर सिस्टम (Pinaka Multi Rocket Launcher System) भारतीय सेना के पास सर्विस में है. (फोटोः डीआरडीओ)

  • 6/7

भारत के पास मौजूद बीएम-21 (BM-21) ग्रैड रॉकेट्स 122 मिलीमीटर कैलिबर के हैं. भारत के पास इसके अलावा इसी टेक्नोलॉजी पर आधारित मध्यम रेंज की आकाश मिसाइल (Akash Missile) भी है. यह सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल प्रणाली है. सिर्फ इतना ही नहीं भारत के पास बीएम-30 स्मर्च (BM-30 Smerch) मल्टी रॉकेट लॉन्चर सिस्टम भी है. (फोटोः विकिपीडिया)

  • 7/7

बीएम-30 स्मर्च (BM-30 Smerch) में 12 बैरल होते हैं. यह रॉकेट 39.4 फीट लंबा होता है. यह 300 मिलीमीटर कैलिबर का होता है. इसकी अधिकतम रेंज 90 किलोमीटर है. यह भी ट्रक पर लगाए गए लॉन्चर से दागी जाती है. इसमें क्लस्टर म्यूनिशन, एंटी-पर्सनल, एंटी-टैंक, हीट, थर्मोबेरिक वॉरहेड्स लगाए जा सकते हैं. भारत के पास ऐसे कुल मिलाकर 162 लॉन्चर्स हैं. (फोटोः विकिपीडिया)

लेटेस्ट फोटो