साइंस न्यूज़

मगरमच्छ के पेट में कितनी देर जिंदा रहते हैं उसके शिकार? जानिए आपके हर सवाल का जवाब

ऋचीक मिश्रा
  • नई दिल्ली,
  • 12 जुलाई 2022,
  • अपडेटेड 4:01 PM IST
  • 1/7

मध्यप्रदेश के श्योपुर में एक मगरमच्छ ने 8 साल के बच्चे को जिंदा निगल लिया. उसके कुछ दिन पहले उत्तराखंड में भी ऐसा ही हादसा हुआ था. मध्यप्रदेश में लोग मगरमच्छ को काटकर बच्चे को निकालना चाहते थे. लेकिन वन विभाग और पुलिस के समझाने पर पकड़े गए मगरमच्छ को छोड़ दिया. सवाल ये उठता है कि क्या मगरमच्छ भैंस, मवेशी, सांप, अजगर यहां तक इंसान को भी निगल सकता है. लेकिन मगरमच्छ के शिकार उसके पेट में कितनी देर तक जिंदा रहते हैं. क्या आपको ये बात पता है? ये निर्भर करता है शिकार के शरीर के आकार और मजबूती पर. मगरमच्छ का पाचन इतना तगड़ा होता है कि वह 58 किलोग्राम की महिला या जीव को गलाकर 13 किलोग्राम का बना सकता है. इतना वजन मगरमच्छ का पेट भरने के लिए पर्याप्त होता है. (फोटोः डेविड क्लोड/अनस्प्लैश)

  • 2/7

मगरमच्छ कैसे पचाता है अपना खाना? (How Crocodiles diegest their Food)

उटाह यूनिवर्सिटी के बायोलॉजिस्ट सी.जी. फारमर के अनुसार भोजन को पचाने के इस रहस्यमयी तरीके के पीछे मगरमच्छ का हार्ट वॉल्व शामिल होता है जिसे मगरमच्छ दिमाग यानी न्यूरोलॉजिकली नियंत्रित करता है. वह दिल में जाने वाले खून की सप्लाई को बायपास करके सीधे अपने पेट (Stomach) तक पहुंचाता है. इससे ज्यादा तेजी से गैस्ट्रिक एसिड निकलता है. जो किसी अन्य जीव के पेट में निकलने वाले गैस्ट्रिक एसिड से दस गुना ज्यादा होता है. (फोटोः जैक केली/अनस्प्लैश)

  • 3/7

मगरमच्छ क्या खाते हैं? (What Do Crocodiles Eat?)

मगरमच्छ मांसाहारी होते हैं. ये सिर्फ मांस खाते हैं. जंगल में ये मछली, पक्षी, मेंढक, क्रस्टेशियंस, कई बार ये एकदूसरे मगरमच्छ पर भी हमला करके उन्हें खा जाते हैं. बंद जगहों पर चूहे, मछली, आमतौर पर ये अपने जबड़े से शिकार को छोटे-छोटे टुकड़े में तोड़कर उन्हें पेट में डाल लेते हैं. फिर कई दिनों तक उन्हें पचाते रहते हैं. मगरमच्छ किसी भी शिकार को चबा नहीं सकते. न ही उन्हें खाने योग्य छोटे टुकड़ों में बांट सकते हैं. (फोटोः गैटानो सेसाटी/अनस्प्लैश)

  • 4/7

कितना समय लगता है मगरमच्छ को खाना पचाने में (How Long do Crocodiles take to Digest?)

सी.जी. फारमर कहते हैं कि मगरमच्छ अपने वजन के 23 फीसदी हिस्से के बराबर वजनी शिकार को एक बार में खा सकते हैं. यानी इनके जबड़े से तोड़ा गया शिकार पेट के अंदर 10-12 दिन में सड़ता है. यह निर्भर करता है उसके शरीर के आकार और वजन पर. अगर मौसम ने साथ दिया तो इस कोल्ड ब्लडेड जीव के शरीर से निकलने वाले एसिड किसी भी शिकार को 10 से 12 दिन में पचा कर खत्म कर देते हैं. इसलिए जब मगरमच्छ ज्यादा भारी जीव का शिकार करता है, उसके बाद कई दिनों तक शांत बैठा रहता है. (फोटोः थॉमस कोलॉर्ड/अनस्प्लैश)

  • 5/7

क्या मगरमच्छ के चार पेट होते हैं? (Do Crocodiles have four Stomach?)

मगरमच्छ के चार पेट नहीं होते हैं. लेकिन वो दो हिस्सों में बंटे होते हैं. पहला चैंबर बेहद ताकतवर और मांसयुक्त होता है. दूसरा चैंबर ज्यादा एसिडिक होता है. यानी पहले चैंबर में शिकार को तोड़ा-मरोड़ा जाता है. दूसरे चैंबर में एसिड से उसे पिघलाया जाता है. यह दोनों पेट मिलकर शिकार की मांसपेशियां, हड्डियां, पंख या सींग तक पचा सकते हैं. (फोटोः याव तुन/अनस्प्लैश)

  • 6/7

मगरमच्छ कैसे करते हैं शिकार? (How Crocodiles Attack on their Prey?)

मगरमच्छ अपने शिकार को पानी के अंदर से देखते रहते हैं. सही मौके का इंतजार करते हैं. मान लीजिए आप नदी किनारे चल रहे हैं. नदी से मगरमच्छ आपको देख रहा है. लेकिन आप उसे नोटिस नहीं कर पा रहे हैं. अगर कर भी लेते हैं तो भागना मुश्किल है. क्योंकि मगरमच्छ सतह पर 18 से 20 किमी प्रतिघंटा की रफ्तार से दौड़ता है. वह अपने शिकार के पैरों को अपने मजबूत जबड़ों से तोड़ देता है. जबड़ों से पैर तोड़ते समय वह 3500 किलोग्राम वजन के बराबर ताकत लगाता है इसके बाद शिकार या आप भाग नहीं सकते. फिर वह आपको घसीट कर पानी में ले जाएगा. और आराम से खाएगा. (फोटोः काइल नीबर/अन्स्प्लैश)

  • 7/7

मगरमच्छ के पेट में कितनी देर जिंदा रहता है शिकार (How long an organism live in crocodile stomach?)

अगर आप को मगरमच्छ ने पानी के अंदर घसीटा है तो आप पहले तो डूबकर मर जाएंगे. जैसे ही आपका शरीर ठंडा पड़ेगा वह आपको निगल लेगा. अगर मगरमच्छ ने आपको जमीन पर शिकार बनाया है तो भी आपके बचने की उम्मीद न के बराबर है. क्योंकि आप जैसे ही उसके पेट के पहले चैंबर में जाते हैं, उसकी ताकतवर मांसपेशियां आपके शरीर को तोड़ने लगती है. दूसरे चैंबर से निकलने वाले ताकतवर एसिड आपको गलाना शुरू कर देते हैं. पानी में तो भूल ही जाइए कि पेट के अंदर कोई जीव बचेगा. (फोटोः शेली कोलिंस/अन्स्प्लैश)