जगन्नाथ मिश्रा का रसूख कम हुआ और फिर बिहार में कभी नहीं उभर सकी कांग्रेस

बिहार विश्वविद्यालय में अर्थशास्त्र के प्राध्यापक रहे मिश्रा अपने भाई और रेल मंत्री रहते हुए एक सरकारी आयोजन में हुए बम विस्फोट में जान गंवाने वाले ललित नारायण मिश्रा की मौत के बाद सियासत में ऐसे उभरे कि बिहार कांग्रेस और जगन्नाथ मिश्रा एक-दूसरे के पूरक बन गए.

बिहार के आखिरी कांग्रेसी मुख्यमंत्री थे जगन्नाथ मिश्रा (फोटोः ANI)
बिकेश तिवारी
  • नई दिल्ली,
  • 19 अगस्त 2019,
  • अपडेटेड 4:08 PM IST

  • बिहार के आखिरी कांग्रेसी मुख्यमंत्री थे जगन्नाथ मिश्रा
  • सियासत में ढीली हुई पकड़ तो बिहार में पतली हुई कांग्रेस की हालत
  • भाई ललित नारायण मिश्रा की विरासत पर दी थी अपने सियासी कद को बुलंदी

बिहार की राजनीति में कभी कांग्रेस के मजबूत स्तंभ रहे डॉक्टर जगन्नाथ मिश्रा ने सोमवार को नई दिल्ली में आखिरी सांस ली. उनके निधन पर बिहार सरकार ने तीन दिन के राजकीय शोक की घोषणा की है. वह अंतिम समय में कांग्रेस का हाथ छोड़कर  सत्ताधारी जनता दल यूनाइटेड में शामिल हो गए थे.

बिहार विश्वविद्यालय में अर्थशास्त्र के प्राध्यापक रहे मिश्रा अपने भाई और रेल मंत्री रहते हुए एक सरकारी आयोजन में हुए बम विस्फोट में जान गंवाने वाले ललित नारायण मिश्रा की मौत के बाद सियासत में ऐसे उभरे कि बिहार कांग्रेस और जगन्नाथ मिश्रा एक-दूसरे के पूरक बन गए. भाई की विरासत पर अपने सियासी कद को बुलंदी देने वाले मिश्रा का रसूख कम हुआ, पकड़ ढीली हुई तो प्रदेश की राजनीति में कांग्रेस की हालत भी पतली हो गई. रही-सही कसर पूरी कर दी मंडल कमीशन की रिपोर्ट लागू किए जाने के बाद राजनीति की बदली धारा ने.

जगन्नाथ मिश्रा का सियासी वजूद जातीय राजनीति के दौर में लगभग निष्प्रभावी हो गया और चारा घोटाला, गोलघर और गांधी मैदान को गिरवी रखने के आरोपों ने एक तरह से उन्हें नेपथ्य में धकेल दिया. बिहार के सुपौल जिले के बलुआ बाजार में जन्में डॉक्टर मिश्रा प्रदेश के आखिरी कांग्रेसी मुख्यमंत्री थे.

भाई ललित नारायण मिश्रा की हत्या के बाद उनकी राजनीतिक विरासत को मजबूती से आगे बढ़ाने वाले जगन्नाथ मिश्रा की गिनती बिहार के कद्दावर कांग्रेसियों में होती थी. वह सन् 1975 से 1990 के बीच तीन बार संयुक्त बिहार (तब झारखंड भी बिहार का भाग था) के मुख्यमंत्री रहे. बिहार की सियासत ने वह दौर भी देखा, जब प्रदेश में कांग्रेस और जगन्नाथ मिश्रा एक-दूसरे के पूरक से बन गए थे.

जगन्नाथ मिश्रा युग के अवसान के साथ ही बिहार की सियासत में कांग्रेस के सितारे भी गर्दिश में चले गए. कांग्रेस उसके बाद कभी नहीं उभर सकी. जगन्नाथ मिश्रा के मुजफ्फरपुर स्थित मकान से चंद कदम की दूरी पर पले-बढ़े बिहार के वरिष्ठ पत्रकार अनिल गुप्ता ने जगन्नाथ मिश्रा के जाने के बाद कांग्रेस की दुर्दशा के लिए नेतृत्व शून्यता को मुख्य वजह बताया.

उन्होंने कहा कि कांग्रेस के तत्कालीन शीर्ष नेतृत्व ने प्रदेश के किसी नेता को उभरने ही नहीं दिया. गुटबाजी को प्रश्रय दिया गया. गुप्ता ने कहा कि 1975 से 1990 के बीच 16 साल में कांग्रेस ने कई मुख्यमंत्री बदले. भगवत झा आजाद समेत कुछ और नेताओं को भी मुख्यमंत्री बना दिया गया, जो अपने क्षेत्र के भूप तो थे लेकिन समग्र बिहार में इनकी स्वीकार्यता नहीं थी और इनमें से किसी के भी पास मिश्रा जैसा जनाधार नहीं था.

मंडल कमीशन की छांव में शुरू हुई जातीय राजनीति और लालू यादव के उभार से कांग्रेस के सामने राज्य में मजबूत नेतृत्व का संकट उत्पन्न हो गया. पार्टी लगभग तीन दशक बाद भी बिहार की राजनीति में नेतृत्व के संकट से उबर नहीं पाई है.

Read more!

RECOMMENDED