थिएटर में राष्ट्रगान गलत, नोटबंदी सही: मंथन 17 में सोनू निगम के 10 बड़े बोल

सोनू निगम ने राष्ट्रीय गान, नोटबंदी, अजान के बारे में खुलकर बातें की हैं. उन्होंने आज तक के कार्यक्रम मुंबई मंथन 2017 में शिरकत किया था. पढ़ें, उन्होंने अजान विवाद, मोदी सरकार, बॉलीवुड इंडस्ट्री और धर्म के बारे में क्या-क्या कहा.

सोनू निगम
स्वाति पांडे
  • नई दिल्ली,
  • 26 अक्टूबर 2017,
  • अपडेटेड 7:49 PM IST

सोनू निगम ने राष्ट्रीय गान, नोटबंदी, अजान के बारे में खुलकर बातें की हैं. उन्होंने आज तक के कॉर्यक्रम मुंबई मंथन 2017 में शिरकत किया था. पढ़ें, उन्होंने अजान विवाद, मोदी सरकार, बॉलीवुड इंडस्ट्री और धर्म के बारे में क्या-क्या कहा.

1. सिनेमा हॉल में राष्ट्र गान के मुद्दे पर सोनू निगम ने कहा- यह हमारे लिए सम्मान की चीज है. इसे आप रेस्टोरेंट, मूवी हॉल में बजाकर छोटा ना करिए. मैं अपने मां-बाप को वहां ले जाऊंगा जहां उनकी इज्जत होगी. मेरे हिसाब से थिएटर में राष्ट्रीय गान नहीं बजना चाहिए और अगर बज रहा है तो सबको खड़ा होना चाहिए. मैं दूसरों के राष्ट्र गान के लिए भी खड़ा होऊंगा. मैं लेफ्टिस्ट नहीं हूं ना राइट विंग में हूं. मैं बीच में हूं.  

2. मुंबई में इस बार हुई भयंकर बारिश पर सरकार द्वारा किए गए इंतजाम पर सोनू ने कहा- मैं नागरिक के तौर पर कह रहा हूं. किसी से गिला शिकवा नहीं है. मुंबई सरकार के 3 साल हुए हैं. इनका प्रयास दिख रहा है. भविष्य में चाहूंगा कि यातायात और सड़क के हालात ठीक हों.

3. नोटबंदी पर उन्होंने कहा- मेरे पापा नोटबंदी के खिलाफ थे, लेकिन मेरे ख्याल से यह ठीक था. कम से कम कोई सोच तो रहा है कुछ ठीक करने का.

4. मोदी सरकार पर उन्होंने कहा कि सरकरा अच्छा काम कर रही है. प्रयास दिख रहा है. कुछ लोग और मीडिया गर्दन पर तलवार लेकर बैठे रहते हैं. हालंकि यह सही भी है, तभी सरकार अच्छे से काम करेगी.

5. अपने करियर के बारे में उन्होंने कहा- मुझे इंडस्ट्री में जल्दी कुछ नहीं मिला. 'अच्छा सिला दिया' अच्छा हिट था. फिर काम नहीं मिल रहा था. फिर 'संदेशे आते हैं' मिला. 'ये दिल दिवाना' से मेरी पहचान बनी. मेरा करियर एक गाने से नहीं बना. जल्दी सफलता मिलती तो मुझसे पचती नहीं. अचानक सब मिलता तो मैं पागल हो जाता.

6. सोनू ने कहा कि पहले लव लेटर्स बहुत आते थे. इंटरनेट के आने के बाद बंद हो गया. पहले खून के लिखे लेटर्स भी आते थे. अब वो जमाना नहीं रहा. अब फेसबुक के जरिए लोग संपर्क करते हैं.

7. आजकल अरिजीत सिंह, अरमान मलिक अच्छा गा रहे हैं. कई सिंगर्स गाना भी नहीं जानते, वो भी गा रहे हैं. मैंने रफी साहब को आदर्श माना, लेकिन उनकी तरह बनने की कोशिश नहीं की. सबकी अलग पहचान होती है. मैं खुद क्या चीज हूं, ये सोचना चाहिए.

8. अजान मामले में सोनू के ट्वीट के बाद जो विवाद हुआ था, उस पर उन्होंने कहा- हर इंसान का फर्ज बनता है कि अगर उसे कुछ गलत दिखता है, तो वो उसके खिलाफ आवाज उठाए.

9. अजान मामले में धर्म भी जुड़ गया था. भारत में लोग बात का मर्म नहीं समझते, उसे ऊपरी तौर पर देखते हैं. उसी ट्वीट में मैंने मंदिर, गुरुद्वारे के बारे में लिखा है, लेकिन अजान को हाइलाइट किया गया. मेरे ट्वीट के बाद बॉलीवुड भी बंट गया था. मैं हैरान हूं. मैं धार्मिक नहीं हूं, लेकिन मैं आस्तिक हूं. मुझे सबमें ईश्वर दिखता है. मैं सारे धर्म में विश्वास रखता हूं मेरे करीबी दोस्त उस समय मेरे विरोध में आ गए. हालांकि सब इसके विरोध में नहीं थे. आज कई लोग मेरे कदम की सराहना करते हैं. मैं ऐसे देश में रहता हूं, जहां बात- बात पर फतवा जारी होता है.

10. विवाद के बाद उन्होंने ट्विटर को छोड़ दिया था. इस पर उन्होंने कहा- मुंबई में मैंने बहुत कुछ देखा और सीखा. मैंने सीखा है कि कभी गलत संगत में नहीं रहना चाहिए. मैं गलत लोगों के साथ नहीं घूमता. गाली देने वालों के साथ नहीं रहता. ट्विटर ऐसा प्लेटफॉर्म है, जहां कोई किसी को भी गाली दे सकता है. इसलिए अब मैं वहां नहीं रहना चाहता.

Read more!

RECOMMENDED