कैथल जिले में निर्दलीय का कब्जा, कांग्रेस-बीजेपी के हाथ सिर्फ एक-एक सीट

हरियाणा का कैथल जिला राजनीतिक तौर पर काफी महत्वपूर्ण माना जाता है. कैथल जिले की चार विधानसभा सीटों में से बीजेपी-कांग्रेस के पास महज एक-एक सीट है और दो सीटों पर निर्दलीय का कब्जा है.

कैथल रेलवे स्टेशन
कुबूल अहमद
  • नई दिल्ली,
  • 08 अक्टूबर 2019,
  • अपडेटेड 3:12 PM IST

  • कैथल जिले में चार विधानसभा सीटें आती हैं
  • दो निर्दलीय, बीजेपी-कांग्रेस के एक-एक MLA

हरियाणा का कैथल जिला राजनीतिक तौर पर काफी महत्वपूर्ण माना जाता है. हालांकि यह क्षेत्र पहले कुरुक्षेत्र जिले का हिस्‍सा हुआ करता था, बाद में इसे जिला मुख्‍यालय घोषित कर दिया गया. इस इलाके को भगवान हनुमान के निवास स्‍थान के तौर पर भी माना जाता है. यहां हनुमान जी की माता अंजनी का मंदिर भी है. कैथल जिले की चार विधानसभा सीटों में से बीजेपी-कांग्रेस के पास महज एक-एक सीट है और दो सीटों पर निर्दलीय का कब्जा है.

कैथल सीट

हरियाणा की 90 विधानसभा सीटों में कैथल काफी हाई प्रोफाइल क्षेत्र माना जाता है. इस सीट पर पहली बार 1967 में विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की ओम प्रभा विधायक बनी थीं. इसके बाद लगातार कांग्रेस का ही कब्जा रहा है. 2014 के चुनाव यहां से कांग्रेस के रणदीप सुरजेवाला विधायक चुने गए हैं.  2014 के विधानसभा चुनाव में रणदीप सुरजेवाला को 65,524 वोट मिले थे और इनेलो के कैलाश भगत को 41,849 मिले थे. यह सीट कांग्रेस 23,675 मतों से जीतने में कामयाब रही थी.

गुहला सीट

हरियाणा के कैथल जिले की गुहला विधानसभा सीट पर सियासी संग्राम तेज हो गया है. 1977 में यह सीट वजूद में आई. गुहला सीट पर हुए पहले चुनाव में जनता पार्टी के ईश्‍वर विधायक चुने गए थे, लेकिन मौजूदा समय में यहां से बीजेपी के कुलवंत राम विधायक हैं. 2014 के चुनाव में बीजेपी के कुलवन्त राम को 36,598और कांग्रेस के दिल्लू राम 34,158 वोट मिले थे. इस तरह यह सीट बीजेपी 2,440 मतों से जीत दर्ज की थी.

पुंडरी सीट

कैथल जिले की पुंडरी सीट हरियाणा की एक महत्‍वपूर्ण सीट मानी जाती है. इस सीट पर पहली बार 1967 विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के आरपी सिंह विधायक चुने गए, लेकिन मौजूदा समय में निर्दलीय का कब्जा है. 2014 के विधानसभा चुनाव में निर्दलीय प्रत्याशी दिनेश कौशिक को 38,312 और बीजेपी के रणधीर सिंह गोल्लेन को 33,480 वोट मिले थे. कौशिक को 4,832 मतों से जीत मिली थी.

कलायत सीट

हरियाणा की कलायत विधानसभा सीट कैथल जिले के तहत आती है. इस सीट पर पहली बार 1967 के विधानसभा चुनाव में स्‍वतंत्र पार्टी के मारु ने जीत दर्ज कर विधायक चुने गए थे. मौजूदा समय में इस सीट पर निर्दलीय का कब्जा है. 2014 के विधानसभा चुनाव में कलायत सीट पर निर्दलीय प्रत्‍याशी जयप्रकाश को 51,106 और इनेलो के राम लाल माजरा 42,716 वोट मिले थे. इस तरह से जयप्रकाश ने 8,390 मतों से यह सीट दर्ज की थी.

Read more!

RECOMMENDED