इकबाल कास्कर का खुलासा- PAK में है दाऊद, दुबई मिलने आई थी उसकी पत्नी

पुलिस के हत्थे चढ़े मोस्ट वॉन्टेड अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के भाई इकबाल कास्कर ने पूछताछ में खुलासा किया है कि दाऊद पाकिस्तान में ही है. वहां उसके चार बंगले हैं. इससे भी बड़ा खुलासा ये हुआ कि पिछले साल दाऊद की पहली पत्नी महजबीन दुबई गई थी. जहां उसने कास्कर के परिवार से मुलाकात की थी. वहीं से उसने कास्कर से फोन पर भी बात की थी. बता दें कि पुलिस ने कास्कर को 19 सितंबर को गिरफ्तार किया था.

पुलिस लगातार इकबाल कास्कर से पूछताछ कर रही है
परवेज़ सागर/साहिल जोशी
  • मुंबई,
  • 22 सितंबर 2017,
  • अपडेटेड 7:30 PM IST

पुलिस के हत्थे चढ़े मोस्ट वॉन्टेड अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के भाई इकबाल कास्कर ने पूछताछ में खुलासा किया है कि दाऊद पाकिस्तान में ही है. वहां उसके चार बंगले हैं. इससे भी बड़ा खुलासा ये हुआ कि पिछले साल दाऊद की पहली पत्नी महजबीन दुबई गई थी. जहां उसने कास्कर के परिवार से मुलाकात की थी. वहीं से उसने कास्कर से फोन पर भी बात की थी. बता दें कि पुलिस ने कास्कर को 19 सितंबर को गिरफ्तार किया था.

ठाणे क्राइम ब्रांच की गिरफ्त में दाऊद के भाई इकबाल कास्कर ने दाऊद के पाकिस्तान में होने की बात पुलिस के सामने कबूल की है. ठाणे पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने बताया कि इकबाल ने उन्हें बताया है कि भारत का मोस्ट वांटेड दाऊद पाकिस्तान के कराची में रहता है. उसके वहां चार बंगले हैं. दाऊद इकबाल की नशे की आदत से नाखुश रहता है.

इस मामले में गिरफ्तार हुआ कास्कर

ये घटना 2016 की है. एक बिल्डर को धमकी भरा कॉल आया और उससे चार फ्लैट की फिरौती मांगी गई. डर की वजह से बिल्डर ने पुलिस में केस दर्ज नहीं कराया. वसूली के खिलाफ काम करने वाले ठाणे क्राइम ब्रांच सेल को जांच के दौरान इसकी जानकारी मिली, जिसके बाद इकबाल कास्कर के खिलाफ केस दर्ज किया गया.

बता दें कि हाल ही में दाऊद इब्राहिम की ब्रिटेन स्थित कई प्रॉपर्टी जब्त की गई थीं. साथ ही दाऊद के अलग अलग नामों और ठिकानों की लिस्ट भी जारी की गई थी. भारतीय एजेंसियों ने दाऊद की संपत्ति अटैच करने की कार्रवाई को उसे कमजोर करने और उसकी गिरफ्तारी की दिशा में आगे बढ़ने के तौर पर देखा था.

कास्कर को गिरफ्तार करने का ऑपरेशन को अंजाम देने वाले प्रदीप शर्मा ने इंडिया टुडे से बातचीत के दौरान कहा- हम लंबे समय से इकबाल पर नजर रख रहे थे. वह लगातार ठिकाने बदल रहा था. कुछ दिन पहले वह महाराष्ट्र के रत्नागिरी में अपने गांव चला गया था.

फिर भी नागपाड़ा में हसीना के घर के बाहर हमने 24 घंटे के लिए आदमी लगाया था. खाना कौन देता है? चाय कौन लेकर जाता है? सब पर नजर थी. जिस रात ऑपरेशन हुआ था, कुछ देर पहले ही डिलेवरी मैन ने उसे खाना पहुंचाया था. इसलिए हम श्योर थे कि वह घर के अंदर है.

Read more!

RECOMMENDED