पांचवी शादी में रोड़ा बन रही थी मां, जिंदा जलाने को घर में लगा दी आग

आरोपी मुनुय सोरेन पहले भी चार शादी कर चुका है. लेकिन उसकी कुष्ठ रोगी मां को देखकर उसकी चारों दुल्हन भाग गई. अब वो पांचवी शादी करने की योजना बना रहा था.

पुलिस आरोपी की तलाश में जुट गई है (फाइल फोटो)
परवेज़ सागर
  • दुमका,
  • 20 फरवरी 2019,
  • अपडेटेड 4:49 PM IST

झारखंड के दुमका में शख्स ने शादी में रोड़ा बन रही कुष्ठ रोगी मां और पिता को मौत के घाट उतारने के लिए खौफनाक साजिश रच डाली. जब वो दोनों घर में सो रहे थे, तो उसने अपने घर को आग के हवाले कर दिया. आग लगने के बाद दोनों की नींद खुल गई और वे मदद के लिए चीखने लगे. शोर सुनकर पड़ोसी वहां पहुंचे और दोनों बुजुर्गों को आग से निकालकर उनकी जान बचाई.

ये वारदात दुमका के मसलिया इलाके के नयाडीह गांव की है, जहां आदिवासी मुनुय सोरेन अपने माता-पिता के साथ रहता है. उसकी मां कुष्ठ रोगी हैं. मुनुय पहले ही चार शादी कर चुका था. लेकिन उसकी हर पत्नी उसकी मां को देखकर वहां से भाग गई. अब मुनुय सोरेन पांचवी शादी की योजना बना रहा था.

लेकिन उसके सामने समस्या ये थी कि उसकी मां के कुष्ठ रोगी हो जाने की वजह से कोई लड़की उससे शादी नहीं करना चाह रही थी. लिहाजा उसने अपने माता-पिता को ही रास्ते से हटाने की योजना बना डाली. जिसके चलते रविवार की रात जब उसके बुजुर्ग मां-पिता घर में सो रहे थे.

तभी शातिर मुनुय ने अपने घर में केरोसिन डालकर आग लगा दी. आग बढ़ते ही बुजुर्ग दंपति की नीद खुल गई. वो मदद के लिए चिल्लाने लगे. तभी उनकी आवाज सुनकर पड़ोसी वहां पहुंचे और उन दोनों को आग से सुरक्षित बाहर निकाला. इस दौरान वहां भीड़ बढ़ती देख आरोपी मुनुय वहां से फरार हो गया.

Read more!

RECOMMENDED