क्राइम न्यूज़

विदेश यात्राएं, लग्जरी कारें, सेलिब्रिटी जैसी जिंदगी- जानें नरेंद्र गिरि केस में गिरफ्तार आनंद गिरि के अनछुए पहलू

परवेज़ सागर
  • नई दिल्ली,
  • 21 सितंबर 2021,
  • अपडेटेड 7:09 PM IST
  • 1/11

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की मौत के बाद उनके शिष्य आनंद गिरि का नाम अचानक सुर्खियों में आ गया. महंत नरेंद्र गिरि ने मरने से पहले मौका-ए-वारदात पर जो सुसाइड नोट छोड़ा है, पुलिस के मुताबिक उसमे आनंद गिरि समेत कई लोगों का जिक्र किया गया है. पुलिस ने पूछताछ के बाद स्वामी आनंद गिरि को गिरफ्तार कर लिया है. असल में महंत के शिष्य स्वामी आनंद गिरि का नाम हमेशा से विवादों में रहा है. बताया जा रहा है कि महंत नरेंद्र गिरि अपने शिष्य आनंद गिरि के क्रिया कलापों से बेहद दुखी थे.

  • 2/11

महंत और उनके शिष्य स्वामी आनंद गिरि के बीच का विवाद काफी चर्चाओं में रहा था. आनंद गिरि पर गंभीर आरोप लगे थे. जिसके बाद उन्हें निरंजनी अखाड़े से निष्कासित कर दिया गया था. आनंद गिरी संगम में लेटे हनुमान मंदिर के छोटे महंत हुआ करते थे. उन्हें महंत नरेंद्र गिरि का प्रिय शिष्य माना जाता था. आनंद गिरि को मंदिर से जुड़े कई अधिकार भी हासिल थे. लेकिन संत परंपरा का निर्वहन न करने की वजह से उन्हें इसी साल निष्काषित कर दिया गया था.

  • 3/11

इसके बाद आनंद गिरि ने अपने गुरु महंत नरेंद्र गिरी पर तमाम तरह के आरोप लगाए थे. जिसका उत्तर देते हुए महंत ने भी आनंद पर गंभीर आरोप लगाकर सनसनी फैला दी थी. दरअसल, आनंद गिरि का विवादों से पुराना नाता रहा है. कुछ मामले तो ऐसे थे, जिनकी वजह से आनंद गिरि का नाम सुर्खियों में छाया रहा. उन मामलों की वजह से ही महंत नरेंद्र गिरि और आनंद के बीच दूरी बढ़ती गई. आरोप था कि आनंद संत समाज के नियमों का उल्लंघन करते रहे. जो महंत के लिए परेशानी का सबब बन गया था.

  • 4/11

यह मामला साल 2018 का है. उस वक्त आनंद गिरि महंत के विश्वासपात्र हुआ करते थे. वे आस्ट्रेलिया गए हुए थे. तभी उन पर होटल के कमरे में दो महिलाओं के साथ छेड़छाड़ और महिलाओं से मारपीट के आरोप लगे थे. उनके खिलाफ महिलाओं ने शिकायत भी दर्ज कराई थी. इसके बाद आनंद गिरि को वहां गिरफ्तार कर लिया गया था. पुलिस ने उन्हें जेल भेज दिया था. इस घटना से आनंद गिरी के चरित्र पर सवाल खड़े हो गए थे. बाद में उन्हें महंत नरेंद्र गिरि के दखल और वकीलों की मदद से रिहा कराया गया था. लेकिन इस घटना की वजह से महंत नरेंद्र गिरि, मंदिर और बाघंबरी मठ की छवि को बहुत नुकसान हुआ था. महंत नरेंद्र गिरी इस घटना से काफी आहत थे. इसी मामले में छूट जाने के बाद आनंद ने अपने गुरु महंत नरेंद्र गिरि पर उन्हें छुड़ाने के लिए कई अमीर लोगों से 4 करोड़ रुपये वसूल करने का आरोप लगाया था.

  • 5/11

यह मामला अक्टूबर 2020 का है. जिसका ताल्लुक एक तस्वीर से था. दरअसल, उस वक्त आनंद गिरि की एक फोटो वायरल हो गई थी. जिसमें वह एक विमान की बिजनेस क्लास में बैठे नजरआ रहे थे. उनके सामने होल्डर पर शराब से भरा एक ग्लास रखा था. इस तस्वीर के वायरल हो जाने पर आमजन और मठ से जुड़े लोगों ने काफी एतराज जताया था. इसके बाद आनंद गिरि धार्मिक लोगों के निशाने पर आ गए थे. हर तरफ लोग उनकी बुराई कर रहे थे. इस बात से परेशान होकर आनंद गिरि ने सफाई देते हुए कहा था कि उस ग्लास में शराब नहीं एप्पल जूस था. तस्वीर को वायरल करना उन्हें बदनाम करने की साजिश थी. 
 

  • 6/11

इसी साल महंत नरेंद्र गिरी ने आनंद गिरि पर चोरी का गंभीर इल्जाम लगाया था. आनंद पर आरोप था कि वो संत परंपरा के खिलाफ अपने परिवार से संबंध रखते थे. प्रयागराज में संगम किनारे बने लेटे हनुमान मंदिर में जो चढ़ावे का पैसा आता है, आनंद वो अपने परिवार पर खर्च करते रहे. इसी आरोप के बाद आनंद को अखाड़े से निकाल दिया गया था. निकाले जाने के बाद आनंद गिरि ने अपने गुरु महंत नरेंद्र गिरी पर पलटवार किया था. और उन पर कई आरोप जड़ दिए थे. उस वक्त महंत नरेंद्र गिरी ने कहा था कि आनंद के खिलाफ की गई कार्रवाई एक दिन का नतीजा नहीं है. बल्कि लगातार उनकी निगरानी की जा रही थी. 

  • 7/11

इसी साल मई में अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि और उनके शिष्य आनंद गिरि के बीच विवाद उस वक्त थम गया था, जब आनंद गिरि ने अपने गुरु महंत नरेंद्र गिरी के पैर पकड़कर माफी मांग ली थी. इसके साथ ही आनंद गिरी ने निरंजनी अखाड़े के पंच परमेश्वर से भी माफी मांगी थी. दोनों के बीच सुलह हो जाने के बाद महंत नरेंद्र गिरि ने आनंद पर मठ और प्रयागराज के हनुमान मंदिर में आने पर लगाई गई पाबंदी हटा दी थी.

  • 8/11

इस दौरान अखाड़े की संपत्ति, करोड़ों की जमीनों की खरीद फरोख्त जैसे कई मामलों को लेकर महंत और आनंद के बीच आरोप प्रत्यारोप का दौर चला था. यहां तक कि आनंद ने एक बार उनके आचरण पर भी सवाल खड़े कर दिए थे. इस पूरे घटनाक्रम को लेकर महंत नरेंद्र गिरि परेशान चल रहे थे. इसी बात का जिक्र उन्होंने अपने सुसाइड नोट में किया है.

  • 9/11

सोशल मीडिया पर आनंद गिरि की अधिकांश तस्वीरें देखकर ऐसा लगता है कि उन्हें लग्जरी कारों और बाइक का बहुत शौक है. आए दिन वे अपनी ऐसी तस्वीरें सोशल मीडिया में पोस्ट करते रहे हैं. विदेश यात्रा हो या भारत में किसी शहर का दौरा, आनंद हमेशा लग्जरी कार में नजर आते है.

  • 10/11

यूपी के नोएडा में ब्रह्मचारी कुटि के स्वामी ओम भारती ने आनंद गिरि को लेकर खुलासा किया है. स्वामी ओम भारती ने आजतक को बताया कि आनंद गिरि एक हिस्ट्रीशीटर है, लॉकडाउन के दौरान उसने नोएडा की सेक्टर 82 में मौजूद ब्रह्मचारी कुटि पर कब्जा करने की कोशिश की थी. स्वामी ओम भारती के मुताबिक, तब आनंद गिरि ने खुद को प्रथम महंत बताया था. उन्होंने इस मामले में एफआईआर कराने की कोशिश की थी, लेकिन किसी ने एफआईआर दर्ज नहीं की थी. इसके बाद स्वामी ओम भारती ने अखाड़ा परिषद के महंत नरेंद्र गिरि से संपर्क किया था और तब जाकर आनंद गिरि ने अपना दावा वापस लिया था.

  • 11/11

गिरफ्तार किए जाने से पहले आनंद गिरि ने महंत नरेंद्र गिरि की मौत को आत्महत्या की बजाय हत्या करार दिया था. आनंद गिरि का आरोप था कि संपत्ति विवाद को लेकर ये सब किया जा सकता है, जिसकी जांच की जानी जरूरी है.