क्राइम न्यूज़

राजस्थान: सात फेरों से पहले दूल्हे ने कर दी ऐसी डिमांड, ब‍िना दुल्‍हन के लौटी बारात

aajtak.in
  • सीकर ,
  • 05 जुलाई 2021,
  • अपडेटेड 9:43 PM IST
  • 1/5

राजस्थान के सीकर जिले से दहेज न मिलने के कारण बारात लौटने का मामला सामने आया है. बताया जा रहा है कि शादी के सभी कार्यक्रम शांतिपूर्ण तरीके चल रहे थे. अचानक फेरों के समय लड़के के परिजनों ने लड़की के पिता से नगद और बाइक की मांग कर डाली.  इस पर दुल्हन के पिता ने कहा कि वो एक गरीब किसान है, इतना नहीं दे सकते. इस बात पर दोनों पक्षों में विवाद हुआ और लड़के वाले बारात लेकर चले गए. 

(इनपुट- सुशील जोशी)

  • 2/5

इस दौरान पीड़ित परिवार ने सामाजिक स्तर पर बारात को रोकने की पूरी कोशिश की पर लड़के वालों ने किसी की एक न सुनी और चले गए. कैश और बाइक की मांग करते रहे. पीड़ित परिवार ने सीकर जिला पुलिस अधीक्षक एवं जिला कलेक्टर को ज्ञापन देकर न्याय की मांग की है. 
 

  • 3/5

पीड़ित दुल्हन का कहना है कि उसकी शादी तीन जुलाई को बुगाला गांव के रहने वाले अजय से हो रही थी. बारात हमारे गांव तारपुरा आई और सभी बारातियों ने खाना खाया और जब वरमाला की बारी आई तो लड़के के परिवार वालों ने कहा कि माला के साथ हर की चीज की व्यवस्था उन्हें की करनी होगी. फिर दुल्हन का भाई जल्दी से बाजार से  वरमाला लेकर आया.  

  • 4/5

दुल्हन ने बताया कि फेरों के समय दूल्हा अपने एक दोस्त के साथ बाहर चला गया और लड़के का पिता मेरे पिताजी से गली गलौच करने लगे. दुल्हन का आरोप है कि लकड़े के पिता ने कहा कि नगद पैसे, गहने और बाइक मिलेगी तभी फेरे होंगे.  फिर मेरे पिता ने कहा कि वो एक गरीब किसान हैं, उनके पास इतना कुछ नहीं है देने के लिए और वो बारात लेकर चले गए.  इस संबंध में जब हम पुलिस में शिकायत दर्ज कराने गए तो वहां हमें कहा गया कि लड़के ने अपनी मर्जी से शादी छोड़ी है ऐसे में हम कुछ नहीं कर सकते. 

  • 5/5

वहीं दुल्हन के पिता सुरजाराम ने बताया कि तीन जुलाई को उनकी बेटी की शादी बुगाला गांव के महेश कुमार जांगिड़ के पुत्र अजय से थी. बारात हमारे गांव तारपुरा आई पहले  बारातियों ने खाना खाया और उसके बाद जब वरमाला की बारी आई तो उन्होंने कहा कि हम कुछ भी नहीं लेकर आए हैं और आपको ही इसकी सारी व्यवस्था करनी होगी.  जिसके बाद वरमाला होने के बाद लड़के का पिता मुझे साइड लेकर गया और कहने लगा कि पहले मुझे एक मोटरसाइकिल और एक लाख तीस हजार रुपये नगद दो उसके बाद ही फेरे होंगे.