Online Betting वॉट्सएप पर खेलते थे सट्टा, महिला सिपाही समेत 7 पुलिसकर्मी निलंबित

Online Betting पुलिस ने विकास की निशानदेही पर राहुल चौधरी को धरदबोचा. विकास और राहुल के फोन पुलिस ने जब्त कर लिए. जब दोनों के मोबाइल फोन की जांच की गई तो उनमें एक वॉट्सएप ग्रुप मिला. जिसमें सात पुलिसकर्मियों के नंबर भी मौजूद थे.

महिला सिपाही समेत आरोपी पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है (सांकेतिक चित्र)
परवेज़ सागर
  • रायपुर,
  • 07 जनवरी 2019,
  • अपडेटेड 2:33 PM IST

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में सट्टेबाजी का हैरान करने वाला मामला सामने आया है. जहां सात पुलिसकर्मियों को ऑनलाइन सट्टा लगाने के आरोप में निलंबित कर दिया गया है. आरोपी पुलिसकर्मियों में एक महिला सिपाही भी शामिल है. इन पुलिसवालों की पोल तब खुली, जब पुलिस ने दबिश देकर एक बड़े सट्टेबाज को उसके साथी समेत गिरफ्तार किया. पुलिस ने उनके मोबाइल फोन से पुलिसवालों के नंबर और चैट बरामद किए.

दरअसल, ये पूरा मामला ऑनलाइन और वॉट्सएप के जरिए सट्टेबाजी किए जाने का है. पुलिस ने एक गुप्त सूचना के आधार पर शुक्रवार की देर रात रायपुर के अश्वनी नगर में छापेमारी की. इस दौरान पुलिस ने पुरानी बस्ती के एक मकान पर छापा मारकर विकास तंबोली नामक सट्टेबाज को गिरफ्तार कर लिया. पुलिस ने जब उससे पूछताछ की तो पता चला कि राहुल चौधरी नामक एक शख्स के लिए काम करता है.

पुलिस ने विकास की निशानदेही पर राहुल चौधरी को धर दबोचा. विकास और राहुल के फोन पुलिस ने जब्त कर लिए. जब दोनों के मोबाइल फोन की जांच की गई तो उनमें एक वॉट्सएप ग्रुप मिला, जिसमें सात पुलिसकर्मियों के नंबर भी मौजूद थे. पुलिस ने सभी नंबरों की पुष्टि करने के बाद पुलिसवालों के नाम आला अफसरों को भेज दिए. इन पुलिसकर्मियों में एक महिला सिपाही भी शामिल थी.

जांच अधिकारियों को पता चला कि आरोपी पुलिसकर्मी वॉट्सएप के जरिए राहुल और विकास के नंबर कॉल और चैट करते थे. सभी सट्टा भी लगाते थे, जबकि आरोपी विकास और राहुल ने बताया कि वो इस काम का कमीशन थाने को भी पहुंचाते थे. यही नहीं राहुल ने सट्टे का पैसा वसूल करने के लिए कई एजेंट भी रखे हुए थे. पुलिस के मुताबिक ये ऑनलाइन सट्टा कई माह से चल रहा था.

मामला आला अधिकारियों के संज्ञान में आते ही सभी आरोपी पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है. आरोपियों में पुरानी बस्ती थाने की महिला सिपाही लेखा अग्रवाल के अलावा भगवान सलाम, पुरुषोत्तम द्विवेदी, राजेश ज्योति, रामचरण, दीपक आडिल और विजय बोरकर के नाम शामिल हैं. इस मामले में थाना प्रभारी संजय पुंढीर की भूमिका की जांच भी की जा रही है.

Read more!

RECOMMENDED