scorecardresearch
 

ट्विटर हैकिंग: कर्मचारियों को किया हैक, इंटर्नल टूल्स का एक्सेस, फिर हुई हैकिंग

ट्विटर पर कई पॉपुलर अकाउंट हैक होने के बाद अब कंपनी ने शुरुआती जांच के बाद अपडेट जारी किया है. कंपनी ने स्टेटमेंट में कहा है कि पहले ट्विटर के कर्मचारियों को निशाना बना कर इंटर्नल टूल्स का ऐक्सेस लिया गया है.

Representational Image Representational Image

माइक्रो ब्लॉगिंग वेबसाइट ट्विटर पर सबसे बड़ा साइबर अटैक हुआ है. इस दौरान कई टेक दिग्गज सहित बड़े बिजनेसमैन और पॉलिटिशियन्स के अकाउंट्स हैक कर लिए गए.

इनमें बराक ओबामा, एलन मस्क, बिल गेट्स और ऐपल जैसे अकाउंट्स शामिल हैं. हैकिंग किस तरह की गई इसे किसने अंजाम दिया, आने वाले कुछ समय में ये क्लियर होगा, लेकिन ट्विटर ने एक स्टेटमेंट जारी किया है जिसमें शुरुआती जांच के आधार पर अपेडट शेयर किए गए हैं.

अब सवाल ये है कि सिक्योरिटी को लेकर बड़े दावे करने वाला ट्विटर आखिर हैक कैसे हो गया? हैकिंग कई तरीके से होती है और वजहें भी अलग होती हैं. इस हैकिंग में हैकर ने बिटकॉइन की डिमांड की है, यानी ये सिक्योरिटी टेस्टिंग के लिए की गई हैकिंग नहीं है, बल्कि गलत मकसद से की गई हैकिंग है.

ये है ट्विटर का स्टेटमेंट

ट्विटर ने कहा है कि इसकी जांच चल रही है, लेकिन अब तक जो पता चला है उस आधार पर कंपनी ने एक स्टेटमेंट जारी किया है. कंपनी ने कहा, 'हमने सोशल इंजीनियरिंग अटैक डिटेक्ट किया है. ये उन लोगों ने किया है जिन्होंने हमारे कुछ कर्मचारियों के अकाउंट्स को इंटर्नल सिस्टम्स और टूल्स के सहारे सफलतापूर्वक टारगेट किया है.'

ट्विटर ने कहा है कि अटैकर्स ने इंटर्नल ऐक्सेस को कई पॉपुलर अकाउंट्स, जिनमें वेरिफाइड भी शामिल हैं, इससे अपने कंट्रोल में लिया और उनके बदले ट्वीट किया.

कंपनी के मुताबिक अभी इस मामले की जांच की जा रही है और ये पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि अटैकर्स ने और किस तरह से इन अकाउंट्स का गलत यूज किया है और किस तरह की जानकारियों को ऐक्सेस किया है.

ट्विटर ने कहा है कि जैसे ही इस मामले के बारे में कंपनी को जानकारी मिली, सभी प्रभावित अकाउंट्स को तत्काल लॉक कर दिया गया अटैकर्स द्वारा किए गए ट्वीट्स को डिलीट कर दिया गया.

इतना ही नहीं, कंपनी ने कहा है कि काफी मात्रा में ट्विटर अकाउंट्स के कुछ फंक्शन्स को लिमिट कर दिया गया. जैसे वेरिफाइड अकाउंट्स को, जिनमें हैकिंग नहीं हुई थी उन्हें भी सेफ्टी रीजन्स की वजह से लिमिट कर दिया गया है. जांच चल रही है और इन अकाउंट्स की फंक्शनैलिटी को लिमिट कर दिया गया.

वेरिफाइड अकाउंट्स के यूज को लिमिट कर देना डिसरप्टिव तो था, लेकिन ये रिस्क को कम करने के लिए ये महत्वपूर्ण कदम था. फिलहाल इन अकाउंट्स के ज्यादातर फीचर्स ऐक्टिव कर दिए गए हैं, लेकिन हम आगे भी कदम उठा सकते हैं और अगर ऐसा हुआ तो इसके लिए कंपनी की तरफ अपडेट जारी किया जाएगा.

ट्विटर ने कहा है कि कंपनी ने जो अकाउंट्स हैक हुए हैं उन्हें लॉक कर दिया गया है और उन अकाउंट्स को उसके ओनर रिस्टोर कर सकेंगे. हालांकि ये तब होगा जब ऑरिजनल ट्विटर सिक्योरिटी को लेकर निश्चिंत हो जाएगा.

ट्विटर ने स्टेटमेंट में आगे कहा है कि जांच चलाए जाने तक इंटर्नल सिस्टम और टूल्स को बड़े पैमाने पर लिमिटेड ऐक्सेस के लिए कदम उठाए हैं. कंपनी आने वाले कुछ समय में इस हैकिंग को लेकर और भी अपडेट जारी करेगी.


आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें