scorecardresearch
 

IND vs NZ: जब द्रविड़ की कप्तानी में खेले थे रोहित, कोच ने सुनाया 14 साल पुराना किस्सा

भारत और न्यूजीलैंड के बीच तीन मैचों की टी20 सीरीज का पहला मुकाबला बुधवार को खेला जाना है. इस मुकाबले के जरिए भारतीय क्रिकेट के एक नए दौर का प्रादुर्भाव हो रहा है. रोहित शर्मा इस फॉर्मेट में बतौर नियमित कप्तान अपनी पारी का आगाज करने जा रहे हैं. वहीं, नए हेड कोच द्रविड़ के कार्यकाल की शुरुआत हो रही है.

X
Rohit and Dravid (@BCCI) Rohit and Dravid (@BCCI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • हेड कोच राहुल द्रविड़ ने रोहित शर्मा की जमकर तारीफ की 
  • द्रविड़ की कप्तानी में रोहित ने किया था करियर का आगाज 

भारत और न्यूजीलैंड के बीच तीन मैचों की टी20 सीरीज का पहला मुकाबला बुधवार को खेला जाना है. इस मुकाबले के जरिए भारतीय क्रिकेट के एक नए दौर का आगाज हो रहा है. रोहित शर्मा इस फॉर्मेट में बतौर नियमित कप्तान अपनी पारी का आगाज करने जा रहे हैं. वहीं, नए हेड कोच द्रविड़ के कार्यकाल की शुरुआत हो रही है.

मैच की पूर्व संध्या पर मंगलवार को राहुल द्रविड़ ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में भाग लिया, जिसमें टी20 टीम के कप्तान रोहित शर्मा भी मौजूद रहे. द्रविड़ ने इस दौरान रोहित शर्मा की भी जमकर तारीफ की. गौरतलब है कि द्रविड़ की ही कप्तानी में हिटमैन ने 14 साल पहले आयरलैंड दौरे पर अपने इंटरनेशनल करियर की शुरुआत की थी.

राहुल द्रविड़ ने कहा, 'मुझे लगता है कि समय जल्द बीत जाता है, है ना? वास्तव में रोहित को आयरलैंड दौरे के पहले से जानता हूं, जब हम मद्रास में चैलेंजर ट्रॉफी खेल रहे थे. हम सभी जानते थे रोहित काफी स्पेशल होने जा रहा है. हम बस देख सकते थे कि वह एक बहुत ही खास प्रतिभा थी. इतने सालों बाद मैं उनके साथ काम करूंगा, जिसके बारे में मैंने कभी नहीं सोचा था.'

द्रविड़ ने बताया, ' उन्होंने जो किया है वह ईमानदारी से देखने के लिए काफी प्यारा है. जिस तरह से रोहित एक लीडर और एक इंसान के रूप में आगे बढ़े हैं, आप जानते हैं कि अब 14 साल बाद यह क्या है? और देश ने इस खेल में जो हासिल किया है, इसके लिए वास्तव इसका पूरा क्रेडिट रोहित को भी मिलना चाहिए, जिन्होंने एक खिलाड़ी और कप्तान के रूप में हासिल किया है.'

द्रविड़ ने कहा, 'मुंबई इंडियंस के लिए एक कप्तान के रूप में उनकी सफलता भी अभूतपूर्व रही है और वह उस विरासत को आगे ले जाने में सक्षम रहे हैं. यह स्पष्ट रूप से पता है कि मुंबई, क्रिकेट और भारतीय क्रिकेट की विरासत को संभालना आसान नहीं है. और उन्होंने इसे बेहतरीन तरीके से संभाला है और ऐसा होते हुए देखना बहुत अच्छा है.'

उधर, रोहित ने कहा ,‘जब 2007 में मेरा चयन हुआ था तो मुझे बेंगलुरु में एक शिविर में उनसे बात करने का मौका मिला. मैंने उस समय बहुत कम बातचीत की थी और मैं काफी नर्वस था. मैं अपनी उम्र के लोगों से इतनी बात भी नहीं कर पाता था, ऐसे में इन लोगों की बात तो छोड़ ही दीजिए.'

रोहित ने बताया, 'आयरलैंड में पहली बार उन्होंने मुझसे कहा कि मैं मैच खेल रहा हूं. तो मेरे लिए तो वह सपना सच होने जैसा था. उसके बाद से बहुत बातें होती आई हैं. वह सब अच्छी यादें हैं और उम्मीद है कि आगे और भी बनेंगी.' 





 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें