scorecardresearch
 

ऑस्ट्रेलिया के प्रवाल का प्रोटीन रोक सकता है HIV इंफेक्शन

अभी तक लाइलाज रही खतरनाक बीमारी एड्स के कारक एचआईवी वायरस के इंफेक्शन की रोकथाम की दिशा में वैज्ञानिकों को सफलता मिल गई है. ऑस्ट्रेलिया के आसपास समुद्र के पानी में पाए जाने वाले मूंगे (प्रवाल) की प्रजाति में पाया जाने वाला प्रोटीन का एक किस्म एचआईवी की रोकथाम में कारगर पाया गया है.

X

अभी तक लाइलाज रही खतरनाक बीमारी एड्स के कारक एचआईवी वायरस के इंफेक्शन की रोकथाम की दिशा में वैज्ञानिकों को सफलता मिल गई है. ऑस्ट्रेलिया के आसपास समुद्र के पानी में पाए जाने वाले मूंगे (प्रवाल) की प्रजाति में पाया जाने वाला प्रोटीन का एक किस्म एचआईवी की रोकथाम में कारगर पाया गया है. यह जानकारी एक अध्ययन में दी गई है.

यह अध्ययन नेशनल कैंसर इंस्टीट्यूट के बैरी ओ कीफे के नेतृत्व में किया गया है. अध्ययन के नतीजे को एक्सपेरिमेंटल बायोलॉजी की सैन डिआगो में हुई वार्षिक बैठक में पेश किया गया है. ‘कैनिडैरिन्स’ नाम का प्रोटीन उत्तरी ऑस्ट्रेलिया के तट से एकत्र किए गए मूंगों में पाया गया. नेशनल कैंसर इंस्टीट्यूट में हजारों जैविक अभिलेखों की जांच करने के बाद अनुसंधानकर्ताओं ने इस प्रोटीन पर ध्यान केंद्रित किया.

ओ कीफे ने कहा, ‘तथ्य यह है कि यह प्रोटीन एचआईवी संक्रमण को रोकने में कारगर साबित हुआ है और यह बिलकुल नए अंदाज में इस काम को करता है, जिससे यह वास्तव में चकित करता है.’

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें