scorecardresearch
 

कानपुर: हर तरफ कैश ही कैश, जानें कारोबारी के घर से निकला कितना धन?

कानपुर के कारोबारी पीयूष जैन के घर पर छापेमारी करके जीएसटी इंटेलिजेंस महानिदेशालय (डीजीजीआई) के अधिकारियों ने 150 करोड़ रुपये से अधिक नकद बरामद किया.

X
पीयूष जैन के यहां छापेमारी के दौरान बरामद कैश पीयूष जैन के यहां छापेमारी के दौरान बरामद कैश
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कानपुर के व्यापारी पीयूष जैन के घर छापेमारी
  • नोटों की गिनती जारी, 2 और मशीनें मंगाई गई

यूपी में कानपुर के कारोबारी पीयूष जैन के घर पर छापेमारी करके जीएसटी इंटेलिजेंस महानिदेशालय (डीजीजीआई) के अधिकारियों ने 150 करोड़ रुपये से अधिक नकद बरामद किया. इस छापेमारी में डीजीजीआई के अलावा आयकर विभाग की टीम भी हिस्सा ले रही है. नोटों को गिनने के लिए एसबीआई के अफसरों की मदद ली जा रही है.

गौरतलब है कि गुरुवार को जीएसटी (गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स) इंटेलिजेंस की अहमदाबाद इकाई ने कानपुर के त्रिमूर्ति फ्रैग्रेंस प्राइवेट लिमिटेड (शिखर ब्रांड पान मसाला और तंबाकू उत्पादों के निर्माता) के गोदाम और कारखानों के अलावा गणपति रोड कैरियर्स के कार्यालय पर तलाशी अभियान शुरू किया था.

अधिकारियों के अनुसार, ट्रांसपोर्टर माल ले जाने के दौरान ई-वे बिलों को बनाने से बचने के लिए फर्जी कंपनियों के नाम पर बिल बनाता था. बिल की रकम 50 हजार रुपये से कम होती थी, ताकि ई-वे बिल की जरुरत ही न पड़े. डीजीजीआई ने कहा, 'ट्रांसपोर्टर इस तरह फर्जीवाड़ा करके नकद एकत्र कर रहा था और इसे निर्माता को सौंप रहा था.'

ये भी पढ़ें: वायरल हुई कारोबारी के नोटों से भरे घर की तस्वीर, BJP के दिग्गजों ने सपा को घेरा 

अधिकारियों ने कथित तौर पर फैक्ट्री परिसर के बाहर ऐसे चार ट्रकों को रोका और जब्त किया, जिन्हें बिना इनवॉइस और ई-वे बिल के फैक्ट्री से ले जाया जा रहा था. ट्रांसपोर्टर गणपति रोड कैरियर के दफ्तर में अधिकारियों को बिना जीएसटी भुगतान के माल के परिवहन के लिए इस्तेमाल किए गए 200 से अधिक नकली चालान भी मिला.

ट्रांसपोर्टर के कब्जे से कथित तौर पर 1.01 करोड़ रुपये की नकदी जब्त की गई. इसके बाद डीजीजीआई ने कानपुर में व्यवसायी पीयूष जैन (उत्तर प्रदेश के कन्नौज में ओडोकेम इंडस्ट्रीज के भागीदार) के आवासीय परिसर पर छापेमारी की. पीयूष जैन पर आरोप है कि वह नकद पैसे लेकर परफ्यूमरी कंपाउंड की आपूर्ति कर रहे थे.

पीयूष जैन के घर पर छापेमारी के दौरान कागज में लिपटे भारी मात्रा में नकदी बरामद हुए. डीजीजीआई के मुताबिक, भारतीय स्टेट बैंक, कानपुर के अधिकारियों की मदद से नकदी की गिनती की प्रक्रिया शुरू की गई है, जो आज शाम तक जारी रह सकती है, नकदी की कुल राशि 150 करोड़ रुपये से अधिक होने की उम्मीद है.

पढ़ें: कानपुर के जिस कारोबारी के घर पड़ी IT रेड, उसका सपा MLC से क्या है संबंध? 

डीजीजीआई ने कहा कि टैक्स बकाया के रूप में अब तक 3.09 करोड़ रुपये की वसूली की जा चुकी है. 

8 मशीनों से नोटों की गिनती जारी

इस छापेमारी को 24 घंटे से ज्यादा बीत गए हैं. घर के अंदर टीम बैठकर नोट गिनने का काम कर रही है. गुरुवार को नोट गिनने की 6 मशीनें बुलाई गई थीं, लेकिन यहां नोटों के बंडल इतने हैं कि मशीनें कम पड़ गई. इसके बाद दो और मशीनें बुलाईं गईं. 8 मशीनों की मदद से टीम नोट गिनने का काम कर रही है, लेकिन अब तक गिनती जारी है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें