scorecardresearch
 

मुंबई में बढ़ रहा है कोरोना वायरस का खतरा, बीएमसी ने सील की 1305 इमारतें

महाराष्ट्र में तीन महीने बाद पहली बार शुक्रवार को कोविड-19 के 6,000 नए मामले आए हैं. संक्रमण के 6112 नए मामलों में अधिकतर अकोला, पुणे और मुंबई खंड से आए हैं.

मुंबई में कई इमारतें सील (सांकेतिक फोटो) मुंबई में कई इमारतें सील (सांकेतिक फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • मुंबई में फिर फैल रहा है कोरोना का संक्रमण
  • बृहन्मुंबई महानगरपालिका ने सील की इमारतें

मुंबई में कोरोना का संक्रमण एक बार फिर तेजी से फैल रहा है. इसी वजह से बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) ने हजार से ज्यादा इमारतों को सील कर दिया है. महानगरपालिका ने 1305 इमारतों को सील कर दिया है. इन इमारतों में 71,838 परिवार रहते हैं. मुंबई में 2749 केस आने के बाद बीएमसी ने यह फैसला लिया है.

महाराष्ट्र में तीन महीने बाद पहली बार शुक्रवार को कोविड-19 के 6,000 नए मामले आए हैं. संक्रमण के 6112 नए मामलों में अधिकतर अकोला, पुणे और मुंबई खंड से आए हैं. इससे पहले राज्य में 30 अक्टूबर को एक दिन में 6,000 से ज्यादा मामले आए थे और उसके बाद मामलों की संख्या घटने लगी थी.

संक्रमण के नए मामलों के साथ संक्रमितों की संख्या 20,87,632 हो गई जबकि 44 और लोगों की मौत होने से मृतक संख्या 51,713 हो गई है. इन 44 मौतों में 19 लोगों की मौत पिछले 48 घंटे में हुई, 10 की मौत पिछले सप्ताह हुई जबकि 15 की मौत उससे पहले हुई थी.

बीएमसी ने गुरुवार को बढ़ते कोरोना वायरस के मामलों के बीच मुंबई के लिए नई गाइडलाइन जारी की थी. इसमें कहा गया था कि यदि किसी बिल्डिंग में पांच या उससे ज्यादा कोरोना के मामले मिलते हैं तो फिर पूरी बिल्डिंग को सील कर दिया जाएगा. इसके अलावा, अगर मरीज होम क्वारंटाइन में रहना पसंद करता है तो फिर उसके हाथों में स्टैंप लगाया जाएगा.

महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमितों की तादाद बढ़ती जा रही है. मुंबई समेत राज्य के अलग-अलग जिलों में तेजी से बढ़ रहे मामलों को लेकर अब सत्ताधारी महा विकास अघाड़ी (एमवीए) की सरकार का नेतृत्व कर रही शिवसेना के मुखपत्र सामना में लिखा है कि हम एक बार फिर लॉकडाउन की दिशा में बढ़ रहे हैं क्या? ऐसी आशंका उत्पन्न होने लगी है. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने बार-बार स्पष्ट किया है कि फिर लॉकडाउन नहीं होगा. 

सामना ने लिखा है कि फिर से लॉकडाउन नहीं होगा तो नियमों का सख्ती से पालन करो! लेकिन लोग लापरवाही बरत रहे हैं. मास्क लगाए बगैर घूम रहे हैं, उत्सव मना रहे हैं. मुंबई के जुहू चौपाटी पर 14 तारीख को युवा पीढ़ी ‘वेलेंटाइन डे’ मनाने के लिए ऐसे उमड़ पड़ी कि मास्क लगाए बगैर शारीरिक दूरी का खयाल भी नहीं रहा. भीड़ को लेकर तंज करते हुए सामना में लिखा है कि उन प्रेमी जीवों की भीड़ में मानो कोरोना का विषाणु भी स्वर्गवासी हो गया.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें