scorecardresearch
 

बाबरी मस्जिद-रामजन्मभूमि विवाद के जनक बाबर की आज हुई थी ताजपोशी

27 अप्रैल यानी आज ही के दिन 1526 में बाबर के नाम का खुतबा पढ़ा गया. यानी आज ही के दिन उसकी भारत में ताजपोशी हुई और इसके साथ ही वह दिल्ली का शासक बन गया. 

babar coronation babar coronation

27 अप्रैल यानी आज ही के दिन 1526 में बाबर के नाम का खुतबा पढ़ा गया और वह दिल्ली का शासक बना. इस तरह भारत में मुगल वंश की शुरुआत हुई. बाबर को लोग भारत में मुगल सल्तनत का संस्थापक भी कहते हैं. कुछ लोग बाबर को आक्रमणकारी कहते हैं और कुछ अयोध्या में बाबरी मस्जिद-रामजन्मभूमि विवाद के लिए उन्हें जिम्मेदार भी ठहराते हैं.

प्रेम दिवस यानी कि वेलेंटाइन डे 14 फरवरी 1483 के दिन जन्म लेने वाले बाबर की मातृ भूमि अन्द‍िजान थी. जो फिलहाल उज्बेकिस्तान में है.

अतीत के झरोखे से...तस्वीरों में देखिए बाबरी ढांचा विध्‍वंस

मीडिया रिपोर्ट्स में आई इतिहासकार हरबंस मुखिया के एक बयान के अनुसार बाबर का व्यक्तित्व संस्कृति, साहसिक उतार-चढ़ाव और सैन्य प्रतिभा जैसी ख़ूबियों से भरा हुआ था. भाषा, संगीत, चित्रकला, वास्तुकला, कपड़े और भोजन के मामलों में मुगल योगदान को नकारा नहीं जा सकता.

बाबरी मस्ज‍िद-रामजन्मभूमि को लेकर विवादों के लिए भले ही लोग बाबर को जिम्मेदार मानते हों, पर इतिहासकार हरबंस ऐसा नहीं मानते. उनके अनुसार बाबरी मस्ज‍िद का जिक्र बाबर के जिंदा रहने तक या उसके मरने के कई सौ साल तक कहीं नहीं मिलता.

बाबर ने 1526 में पानीपत की लड़ाई जीती और इसी जीत की खुशी में उसने वहां एक मस्ज‍िद बनाई, जो आज भी वहां मौजूद है. उसने 1526 ई से 1530 ई तक शासन किया. वह अपने पिता की ओर से तैमूर का पांचवा एवं माता की ओर से चंगेज खान का चौदहवां वंशज था.

बाबर के पिता उमरशेख मिर्जा फरगाना नाम के छोटे से राज्य के शासक थे. उसकी मातृभाषा चग़ताई भाषा थी, लेकिन फारसी में भी बाबर को महारत हासिल थी. उसने चगताई में बाबरनामा के नाम से अपनी जीवनी लिखी थी, जिसमें उसकी विफलताओं, खामियों और सफलताओं का भरपूर जिक्र है.

1526 ई. में पानीपत के प्रथम युद्ध में दिल्ली सल्तनत के अंतिम वंश (लोदी वंश) के सुल्तान इब्राहीम लोदी की पराजय के साथ ही भारत में मुगल वंश की स्थापना हो गई. इस वंश का संस्थापक 'ज़हीरुद्दीन मुहम्मद बाबर' था. केवल 22 साल की उम्र में काबुल पर अधिकार कर अफ़ग़ानिस्तान में राज्य कायम किया था.

जानें मुगल वंश के संस्‍थापक बाबर के बारे में

- बाबर ने भारत पर पांच बार आक्रमण किया. उसको भारत पर आक्रमण करने का निमंत्रण पंजाब के शासक दौलत खान लोदी और मेवाड़ के शासक राणा सांगा ने दिया था.

बाबर द्वारा लड़े गए प्रमुख युद्ध थे:
(i) पानीपत का प्रथम युद्ध 21 अप्रैल, 1526 ई. को इब्राहिम लोदी और बाबर के बीच हुआ, जिसमें बाबर की जीत हुई.
(ii) खनवा का युद्ध 17 मार्च 1527 ई में राणा सांगा और बाबर के बीच हुआ, जिसमें बाबर की जीत हुई.
(iii) चंदेरी का युद्ध 29 मार्च 1528 ई में मेदनी राय और बाबर के बीच हुआ, जिसमें बाबर की जीत हुई.
(iv) घाघरा का युद्ध 6 मई 1529 ई में अफगानो और बाबर के बीच हुआ, जिसमें बाबर की जीत हुई.

पानीपत के प्रथम युद्ध में बाबर ने पहली बार तुगल्लमा युद्ध नीति का इस्तेमाल किया. उस्ताद अली और मुस्तफा बाबर के दो निशानेबाज थे, जिसने पानीपत के प्रथम युद्ध में भाग लिया था.

पानीपत के युद्ध में लूटे गए धन को बाबर ने अपने सैनिक अधिकारियों, नौकरों एवं सगे सम्बन्धियों में बांट दिया. इस बंटवारे में हुमायूं को वह कोहिनूर हीरा प्राप्त हुआ, जिसे ग्वालियर नरेश ‘राजा विक्रमजीत’ से छीना गया था. इस हीरे की क़ीमत के बारे में यह माना जाता है कि इसके मूल्य द्वारा पूरे संसार का आधे दिन का ख़र्च पूरा किया जा सकता था.

भारत विजय के ही उपलक्ष्य में बाबर ने प्रत्येक क़ाबुल निवासी को एक-एक चांदी का सिक्का उपहार स्वरूप प्रदान किया था. अपनी इसी उदारता के कारण उसे ‘कलन्दर’ की उपाधि दी गई .

खानवा के युद्ध में जीत के बाद बाबर को गाजी की उपाधि दी गई. 48 साल में 27 सितंबर में 1530 ई को आगरा में बाबर की मृत्यु हो गई.

बाबर के शव को पहले आगरा के आरामबाग में दफनाया गया, बाद में काबुल में उसके द्वारा चुने गए स्थान पर दफनाया गया. जहां उसका मकबरा बना हुआ है. उसके बाद उसका ज्येष्ठ पुत्र हुमायूं मुग़ल बादशाह बना.

बाबर ने अपनी आत्मकथा 'बाबरनामे' की रचना की थी, जिसका अनुवाद बाद में अब्दुल रहीम खानखाना ने किया. बाबर को मुबईयान नाम की पद्द शैली का जन्मदाता भी कहते हैं.

बाबर का उत्तराधिकारी हुमायूं हुआ.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें