ब्रिटेन चुनाव: जॉनसन की पार्टी जीती, बोले- ब्रेक्जिट को मिला जनादेश

ब्रिटेन में 650 सीटों वाली संसद में कंजरवेटिव पार्टी ने बहुमत के लिए आवश्यक 326 सीटों का आंकड़ा पार कर लिया है. रुझान बता रहे हैं कि प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन के खाते में 363 सीटें आ सकती हैं. वहीं विपक्षी लेबर पार्टी अपनी कई पारंपरिक सीटें गंवा चुकी है. पीएम बोरिस जॉनसन ने कहा है कि उन्हें अब एक नया जनादेश मिला है जिससे वह ब्रिटेन को यूरोपीय यूनियन से अलग करने वाली ब्रेक्जिट को लागू कर सकेंगे. एग्जिट पोल के मुताबिक, कंजरवेटिव पार्टी को 338 और लेबर पार्टी को 191 सीटें मिल सकती हैं.

कंजरवेटिव पार्टी के बोरिस जॉनसन को बहुमत मिलता दिख रहा (फोटो-PTI)
लवीना टंडन
  • लंदन,
  • 13 दिसंबर 2019,
  • अपडेटेड 9:17 AM IST

  • पूरे ब्रिटेन में गुरुवार को हुआ था मतदान
  • एग्जिट पोल में कंजरवेटिव पार्टी को बहुमत

ब्रिटेन में 650 सीटों वाली संसद में कंजरवेटिव पार्टी ने बहुमत के लिए आवश्यक 326 सीटों का आंकड़ा पार कर लिया है. रुझान बता रहे हैं कि प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन के खाते में 363 सीटें आ सकती हैं. वहीं विपक्षी लेबर पार्टी अपनी कई पारंपरिक सीटें गंवा चुकी है. पीएम बोरिस जॉनसन ने कहा है कि उन्हें अब एक नया जनादेश मिला है जिससे वह ब्रिटेन को यूरोपीय यूनियन से अलग करने वाली ब्रेक्जिट को लागू कर सकेंगे. एग्जिट पोल के मुताबिक, कंजरवेटिव पार्टी को 338 और लेबर पार्टी को 191 सीटें मिल सकती हैं. नतीजों के मद्देनजर लेबर पार्टी के जेरेमी कॉर्बिन ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है.

पूरे ब्रिटेन में गुरुवार को मतदाताओं ने देश के एक ऐतिहासिक और निर्णायक आम चुनाव के लिए मतदान किया. यूरोपीय संघ (ईयू) से बाहर निकलने के बाद देश का भविष्य कैसा होगा? इस विषय पर होने वाली कार्रवाई का निर्धारण भी इसी चुनाव के माध्यम से होगा. हालांकि, एग्जिट पोल के अनुसार बोरिस जॉनसन की कंजरवेटिव पार्टी को स्पष्ट बहुमत मिलता हुआ दिख रहा है.

एग्जिट पोल- कंजरवेटिव पार्टी को 368 सीटें

एग्जिट पोल के मुताबकि, 650 सीटों वाली संसद में कंजरवेटिव पार्टी को 338, लेबर पार्टी को 191, स्कॉटिश नेशनल पार्टी (एसएनपी) को 55, लिबरल डेमोक्रेट्स को 13 सीट मिलती दिख रही है. 

वहीं, पिछले चुनाव के एग्जिट पोल पर गौर करें तो अनुमान से नतीजे अलग थे. 2015 के चुनाव में एग्जिट पोल ने त्रिशंकु संसद की भविष्यवाणी की थी, हालांकि, तब कंजरवेटिव पार्टी ने बहुमत हासिल किया था. उस समय कंजरवेटिव पार्टी ने अनुमान से 14 अधिक सीटें थीं.

पांच साल में तीसरी बार आम चुनाव

‘ब्रेक्जिट’ यानी यूरोपियन संघ से अलग होने के मुद्दे पर 2016 में हुए जनमत संग्रह के बाद से देश की राजनीति शिथिल पड़ गई है. पांच साल से कम समय में तीसरी बार आम चुनाव हो रहे हैं. इसके साथ ही 1923 के बाद पहली बाद सर्दियों के महीने दिसंबर में चुनाव कराए गए.

बहरहाल बता दें कि मुकाबला सत्तारूढ़ कंजरवेटिव पार्टी के नेता और प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन और विपक्षी लेबर पार्टी के नेता जेरेमी कॉर्बिन के बीच है. इंग्लैंड, वेल्स, स्कॉटलैंड और नॉर्दर्न आयरलैंड के सभी निर्वाचन क्षेत्रों में मतदान केंद्र अंतरराष्ट्रीय समयानुसार सुबह सात बजे शुरू हो गए.

Read more!

RECOMMENDED