विश्व

प्लेन जब्त होने से हुई पाकिस्तान की बेइज्जती, मजबूरी में उठाया ये कदम

aajtak.in
  • नई दिल्ली,
  • 25 जनवरी 2021,
  • अपडेटेड 2:27 PM IST
  • 1/7

मलेशिया ने पिछले हफ्ते पाकिस्तान का पैसेंजर प्लेन बोइंग-777 जब्त कर लिया था जिससे पाकिस्तान को काफी शर्मिंदगी झेलनी पड़ी थी. दरअसल, पाकिस्तान ने वियतनामी कंपनी पेरेग्रीन एविएशन चार्ली लिमिटेड से लीज पर प्लेन लिए थे जिसका भुगतान ना करने की वजह से 15 जनवरी को मलेशिया में बोइंग-777 प्लेन जब्त कर लिया गया था. फजीहत होने के बाद पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइन्स ने अब लीज पर लिए प्लेन की बाकी रकम अदा करने का फैसला किया है. पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइन्स (पीआईए) ने पेरेग्रीन एविएशन चार्ली लिमिटेड के साथ कोर्ट के बाहर सुलह कर ली है.

  • 2/7

पाकिस्तान के उड्डयन मंत्री गुलाम सरवर खान ने रविवार को इसकी पुष्टि की है. केंद्रीय मंत्री ने कहा कि प्लेन से जुड़े विवाद पर लंदन कोर्ट में अगली सुनवाई 22 जनवरी को होगी और उन्हें उम्मीद है कि ये मुद्दा सुलझ जाएगा.  

  • 3/7

पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइन्स को लीज पर लिए गए प्लेन की मेंटीनेंस फीस 1.4 करोड़ डॉलर ( करीब 1.02 अरब रुपये) का भुगतान नहीं किया था. इसके बाद मलेशिया की अदालत के आदेश के बाद प्लेन को कुआलालंपुर एयरपोर्ट पर जब्त कर लिया गया था. उस वक्त प्लेन में क्रू मेंबर्स और 172 यात्री भी मौजूद थे. बाद में, मलेशिया में फंसे यात्रियों को यूएई और कतर की फ्लाइट्स से रविवार को इस्लामाबाद लाया गया. यात्रियों ने बताया था कि पीआईए और पाकिस्तानी दूतावास के स्टाफ ने उनके खाने-रहने तक का प्रबंध नहीं कराया था. उन्हें दो दिनों तक कुआलालंपुर एयरपोर्ट की फर्श पर ही सोना पड़ा.

  • 4/7

केंद्रीय मंत्री ने कहा था कि कोरोना महामारी की वजह से प्लेन का भुगतान नहीं किया जा सका. उन्होंने ये भी कहा था कि मलेशिया की कोर्ट ने पीआईए का पक्ष जाने बिना ही एकतरफा फैसला सुना दिया था जिससे यात्रियों को भी भारी असुविधा का सामना करना पड़ा. 

  • 5/7

केंद्रीय मंत्री ने संकेत दिए कि बाकी रकम का भुगतान होने के बाद बोइंग-777 पाकिस्तान आ जाएगा. उन्होंने महंगे लीज पर प्लेन लेने के लिए पूर्ववर्ती सरकार को भी कसूरवार ठहराया.  

  • 6/7

पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइन्स पर मंडरा रहे आर्थिक संकट को लेकर पाकिस्तान के केंद्रीय मंत्री गुलाम सरवर ने कहा कि फर्जी डिग्रियों वाले पायलटों की भर्ती की गई जिससे पूरी एयरलाइन बर्बादी के कगार पर पहुंच गई है. उन्होंने इससे पहले संसद में भी कहा था कि एयरलाइन के अधिकतर पायलटों के पास फर्जी डिग्रियां हैं. इस खुलासे के बाद दुनिया के कई देशों ने पाकिस्तानी पायलटों पर बैन लगा दिया था.

  • 7/7

पाकिस्तान की सिविल एविएशन अथॉरिटी ने भी एयरलाइन के गैर-जिम्मेदाराना रवैये को लेकर फटकार लगाई थी. सिविल एविएशन अथॉरिटी ने कहा था कि पीआईए अंतरराष्ट्रीय लीज कानून से अनजान लगती है और उसका बर्ताव बेहद गैर-जिम्मेदाराना है. सीएए ने कहा, जब एयरलाइन को पता था कि बोइंग-777 प्लेन का मामला कोर्ट में लंबित है तो फिर इस एयरक्राफ्ट को विदेश में उड़ाने की इजाजत क्यों दी गई? क्या पीआईए को ये नहीं पता था कि उड़ान से जुड़े अंतरराष्ट्रीय कानूनों का उल्लंघन करने से देश की कितनी बेइज्जती होगी?

 

 

लेटेस्ट फोटो