विश्व

अमेरिका के बयान से गुस्से में बांग्लादेश, कहा- बिना सबूत के ना बोले

  • 1/9

बांग्लादेश ने अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो के हालिया बयान को लेकर कड़ा ऐतराज जताया है. अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने मंगलवार को बांग्लादेश को आतंकवादी संगठन अल-कायदा का संभावित गढ़ बताया था. बांग्लादेश के विदेश मंत्रालय ने बुधवार को पोम्पियो की टिप्पणी को 'दुर्भाग्यपूर्ण' और 'अस्वीकार्य' बताया है. बांग्लादेश ने अमेरिका को हिदायत दी कि वो बिना सबूतों के ऐसे आरोप ना लगाए.

  • 2/9

माइक पोम्पियो ने कहा था कि अल-कायदा बांग्लादेश से हमलों को अंजाम दे रहा है और भविष्य में इस तरह के कई और हमले कर सकता है. बांग्लादेश के विदेश मंत्रालय ने बुधवार को जारी किए बयान में कहा, "एक शीर्ष नेता की ओर से ऐसी गैर-जिम्मेदाराना टिप्पणी बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण और अस्वीकार्य है. बांग्लादेश ऐसे आधारहीन और गलत टिप्पणियों को पूरी तरह खारिज करता है. बांग्लादेश में अल-कायदा की मौजूदगी के कोई सबूत नहीं है."

  • 3/9

बांग्लादेश के विदेश मंत्रालय ने कहा, "प्रधानमंत्री शेख हसीना के साहसिक नेतृत्व में बांग्लादेश ने आतंकवाद और हिंसक अतिवाद के हर रूप के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाई है. आतंकवाद के खतरे को लेकर सरकार ने हर जरूरी कदम उठाया है."

  • 4/9

बांग्लादेश के विदेश मंत्रालय ने कहा, "आतंकवाद के खिलाफ हमारे ट्रैक रिकॉर्ड की वजह से हमें पूरी दुनिया में सराहना मिल रही है. आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में अपनी प्रतिबद्धता को पूरा करते हुए हम सभी 14 इंटरनेशनल काउंटर-टेररिजम कन्वेंशन का हिस्सा बन चुके हैं. हम आतंकवाद को काउंटर करने के लिए हर अंतरराष्ट्रीय पहल में सक्रिय रूप से अपनी भूमिका अदा कर रहे हैं."  

  • 5/9

बांग्लादेश के विदेश मंत्रालय ने बयान में कहा, "अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो का बांग्लादेश को अल-कायदा के ऑपरेशन के लिए संभावित जगह बताना तथ्यों से परे हैं और इसकी पुष्टि के लिए कोई साक्ष्य मौजूद नहीं है. अगर सबूतों के साथ इस दावे की पुष्टि होती है तो बांग्लादेश सरकार बेहिचक ऐसी गतिविधियों के खिलाफ जरूरी कदम उठाएगी."

  • 6/9

बांग्लादेश के विदेश मंत्रालय ने अपने बयान में कहा, अगर ऐसे बयान सिर्फ कयासों पर आधारित हैं तो बांग्लादेश इसे बेहद दुर्भाग्यपूर्ण मानता है, खासकर जब दोनों मित्र देशों के द्विपक्षीय संबंध साझा हितों और साझा उद्देश्यों के तहत लगातार मजबूत हो रहे हैं.

  • 7/9

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने ईरान को भी अल-कायदा का नया गढ़ बताया था. हालांकि, अमेरिकी विदेश मंत्री ने अपने आरोपों के पक्ष में कोई ठोस सबूत नहीं दिए. माइक पोम्पियो ने अल-कायदा सरगना अयमान अल जवाहिरी के कमांडर के तेहरान में छिपे होने की भी बात कही.  

  • 8/9

पोम्पियो ने कहा, "अल-कायदा का नया ठिकाना इस्‍लामिक गणराज्‍य ईरान है. मैं कहूंगा कि ईरान वास्‍तव में एक नया अफगानिस्‍तान है जो अल-कायदा का भौगोलिक केंद्र रहा है लेकिन ईरान वास्तव में इससे ज्‍यादा खराब है. अफगानिस्तान में अल-कायदा पहाड़ों में छिपा हुआ था लेकिन ईरान में अल-कायदा वहां के शासकों की पनाह में सक्रिय है."

  • 9/9

ईरान ने पोम्पियो के आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया. ईरान के विदेश मंत्री जवाद जरीफ ने एक ट्वीट में कहा, "क्यूबा पर आतंकवाद को बढ़ावा देने के आरोप से लेकर ईरान को लेकर गोपनीय दस्तावेज जारी करने तक और अल-कायदा से जुड़ा दावा...मिस्टर पोम्पियो युद्ध भड़काने के लिए लगातार झूठ बोल रहे हैं. यहां कोई मूर्ख नहीं है. सभी को पता है कि 9/11 के सभी आतंकवादी अमेरिका के पसंदीदा देशों (सऊदी अरब) से ही थे, ईरान से कोई नहीं था."

लेटेस्ट फोटो