Apple AirDrop की तरह एंड्रॉयड स्मार्टफोन्स में दिया जा रहा ये खास फीचर

Google Nearby Share: कंपनी एंड्रॉयड यूजर्स के लिए Nearby Share फीचर ला रही है. ये फीचर आईफोन में दिए जाने वाले एयर ड्रॉप फीचर की तरह की काम करेगा.

Nearby Share
मुन्ज़िर अहमद
  • नई दिल्ली,
  • 05 अगस्त 2020,
  • अपडेटेड 3:26 PM IST

एंड्रॉयड यूज़र्स के लिए गूगल अब ऐपल के AirDrop जैसा फीचर्स लेकर आ रहा है. गूगल का Nearby Share फीचर थर्ड पार्टी फाइल ट्रांसफर ऐप्स के लिए खतरा साबित हो सकता है.

क्योंकि अब तक एंड्रॉयड में ब्लूटूथ के अलावा युनिफाइड नैटिव फाइल ट्रांसफर फीचर नहीं था जो ShareIt जितनी तेजी से एक से दूसरे स्मार्टफोन में फाइल्स, फोटोज और वीडियोज शेयर कर सके.

गूगल ने कन्फर्म किया है कि Nearby Share फीचर एंड्रॉयड स्मार्टफोन्स के लिए लाया जा रहा है. इस फीचर की बात करें तो ये काफी सिंपल और यूज करने में भी आसान होगा.

उदाहरण के तौर पर अगर आपको कोई फाइल या इमेज दूसरे एंड्रॉयड स्मार्टफ़ोन के साथ शेयर करना है, आपको फाइल, फ़ोटोज या दूसरे कॉन्टेंट को सेलेक्ट करके शेयर आइकॉन का यूज करना है.

Apple AirDrop जैसा फीचर

शेयर आइकॉन टैप करते ही आस पास के एंड्रॉयड स्मार्टफ़ोन को आपका फ़ोन सर्च करेगा. दूसरे फ़ोन में इसे ऑन करके ऐक्सेप्ट करने का ऑप्शन दिया जाएगा. ठीक इसी तरह का फ़ीचर Apple iPhone और मैकबुक में भी दिया जाता है.

ग़ौरतलब है कि इसके लिए गूगल कोई ख़ास ऐप नहीं लॉन्च करेगा, बल्कि ये अपडेट के साथ फ़ोन में इनबिल्ट फ़ीचर की तरह ही काम करेगा.

एक से दूसरे एंड्रॉयड स्मार्टफोन्स में फाइल ट्रांसफ़र करने के लिए गूगल का Nearby Sharing फीचर ब्लूटूथ, वाईफाई, लो एनर्जी ब्लूटूथ और वेबआरटीसी का यूज करेगा. ये डिपेंड करता है कि फाइल ट्रांसफर करने वाले स्मार्टफोन्स में औऱ फाइल ट्रांसफर करने के समय कौन सा ऑप्शन उपलब्ध है.

इस फ़ीचर में कुछ ऑप्शन्स भी दिए जाएंगे. इसके तहत आप इसे ऑन या ऑफ रख सकते हैं. अगर रीसिविंग ऑफ रखेंगे तो दूसरा एंड्रॉयड स्मार्टफोन्स आपके फ़ोन को डिस्कवरी नहीं कर पाएगा. ट्रांसफ़र करने के लिए इसे ऑन करना होगा और फाइल्स को ऐक्सेप्ट करना होगा.

यहां आपको हिडेन, विडिबल टु ऑल कॉन्टैक्ट्स के साथ विजिबल ऑनली टू कम कॉन्टैक्ट्स का ऑप्शन मिलेगा. इसे आप एंड्रॉयड स्मार्टफोन के क्विक सेटिंग्स से ही कंट्रोल कर सकेंगे.

गूगल ने कहा है कि ये फ़ीचर किसी भी Android 6 या इससे ऊपर के वर्जन पर चलने वाले स्मार्टफोन्स में काम करेगा. कंपनी के मुताबिक अभी के लिए ये फीचर चुनिंदा पिक्सल और सैमसंग स्मार्टफोन्स के लिए जारी किया जा रहा है.

आने वाले समय में दूसरे एंड्रॉयड बेस्ड स्मार्टफोन्स में भी ये फ़ीचर दिया जाएगा और इसके लिए गूगल दूसरे मोबाइल कंपनियों के साथ मिल कर काम बरही है.

Read more!

RECOMMENDED