बर्थडे स्पेशल: टेस्ट का यह महारथी बन गया टीम इंडिया की नई दीवार

पुजारा ने अपनी भरोसेमंद बल्लेबाजी की बदौलत कई बार भारतीय टीम को मुश्किल परिस्थितियों से निकाला है.

चेतेश्वर पुजारा
विश्व मोहन मिश्र
  • जोहानिसबर्ग,
  • 25 जनवरी 2018,
  • अपडेटेड 1:41 PM IST

राहुल द्रविड़ के बाद टीम इंडिया की नई दीवार कहे जाने वाले टेस्ट के महारथी चेतेश्वर पुजारा आज यानी 25 जनवरी को अपना 30वां जन्मदिन मना रहे हैं. पुजारा ने अपनी भरोसेमंद बल्लेबाजी की बदौलत कई बार भारतीय टीम को मुश्किल परिस्थितियों से निकाला है.

पिता और चाचा भी खेल चुके हैं क्रिकेट

25 जनवरी 1988 को गुजरात के राजकोट में जन्में चेतेश्वर पुजारा के टैलेंट को पहचानते हुए उनके पिता अरविंद पुजारा और मां रीमा ने उन्हें बचपन से ही क्रिकेट खेलने के लिए मोटीवेट किया. आपको बता दें कि पुजारा के पिता अरविंद पुजारा सौराष्ट्र के लिए रणजी खेल चुके हैं.

पुजारा बोले- जोहानिसबर्ग की पिच पर 187 का स्कोर 300 रन जैसा

चेतेश्वर के चाचा बिपिन पुजारा भी सौराष्ट्र के लिए रणजी खेल चुके हैं. पुजारा को क्रिकेट की शुरुआती कोचिंग उनके पिता से ही मिली थी. पुजारा जब 17 साल के थे तब उनकी मां का निधन हो गया था. मजबूत बल्लेबाजी तकनीक वाले चेतेश्वर पुजारा ने साल 2010 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बेंगलुरु में अपना टेस्ट डेब्यू किया था.

द्रविड़ के बाद बने टीम इंडिया की दीवार

साल 2012 में राहुल द्रविड़ के इंटरनेशनल क्रिकेट से संन्यास के बाद पुजारा को टेस्ट में नंबर 3 पर बल्लेबाजी का जिम्मा मिला. उसी साल जब न्यूजीलैंड की टीम टेस्ट मैच खेलने भारत आई तो पुजारा ने अपनी बल्लेबाजी का लोहा मनवाते हुए अपना पहला टेस्ट शतक जड़ दिया. न्यूजीलैंड के खिलाफ हैदराबाद टेस्ट में पुजारा ने 159 रनों की शानदार पारी खेली.

13 फरवरी 2013 को पुजारा ने अपनी दोस्त पूजा पाबरी से शादी की थी. वाइफ पूजा का लेडी लक पुजारा के साथ ऐसे जुड़ा कि उन्होंने फिर कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा. पुजारा अब तक 57 टेस्ट मैचों में 51.08 की औसत से 4495 रन बना चुके हैं. उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ अहमदाबाद में अपने टेस्ट करियर की बेस्ट 206 रनों पारी खेली थी. पुजारा के नाम टेस्ट क्रिकेट में 14 शतक और 17 अर्धशतक हैं.

Read more!

RECOMMENDED