दंगल: पुलिस का एनकाउंटर, हैदराबाद में न्याय या अनर्थ?