प्रेग्नेंट हैं और प्लास्ट‍िक बोतल से पानी पीती हैं तो इसे जरूर पढ़ें...

अगर आप प्रेग्नेंट हैं और प्ला‍स्ट‍िक की बोतल से पानी पीती हैं, तो क्या आप ये जानती हैं कि यह आपको और आपके बच्चों को कितना नुकसान पहुंचा सकता है...

Pregnancy
वंदना भारती
  • नई दिल्ली,
  • 11 अक्टूबर 2017,
  • अपडेटेड 11:57 AM IST

एक हालिया अध्ययन में दावा किया गया है प्रेग्नेंसी के दौरान खराब क्वालिटी या BPA युक्त प्लास्ट‍िक बोतल में पानी पीने वाली महिलाओं से जन्म लेने वाले बच्चों को आगे जीवन में पेट से संबंधि‍त बीमारियां हो सकती हैं.

प्लास्ट‍िक में पाया जाने वाले BPA रसायन के कारण पेट में मौजूद अच्छे और बुरे जीवाणुओं का संतुलन बिगड़ जाता है. यह लीवर में दर्द और कोलोन में सूजन का कारण बन सकता है.

यह अध्ययन अमेरिकन सोसाइटी फॉर माइक्रोबायोलॉजी के शोधकर्ताओं ने किया है.

शोधकर्ताओं का दावा है कि जन्म से पहले गर्भ में रहने के दौरान ही बच्चे खतरनाक रसायनों के संपर्क में आ सकते हैं. यहां तक कि जन्म के ठीक बाद भी मां के दूध से उनमें खतरनाक रसायन जा सकते हैं.

अध्ययनकर्ताओं के अनुसार जन्म लेने के ठीक बाद मां के दूध से रसायनों के संपर्क में आए बच्चों को आगे की लाइफ में पेट से संबंध‍ित परेशानियां हो सकती हैं.

दरअसल, BPA के नाम से प्रचलित बिस्फेनॉल ए एक तरह का औद्योगिक रासायन है, जिसे साल 1960 से प्लास्ट‍िक बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है.

BPA प्लास्ट‍िक के कई कंटेनरों और बोतलों में पाया जाता है. खासतौर सस्ते और खराब क्वालिटी वाले बोतलों में इसका मिलना आम है. शोध में दावा किया गया है कि ऐसे ऐसे प्लास्ट‍िक के बर्तनों में रखा गया खाना आसानी से बीपीए रसायन को सोख लेता है.

अध्ययनकर्ताओं ने यह अध्ययन खरगोशों पर किया है.

अध्ययन के दौरान पाया गया कि जो खरगोश प्रेग्नेंसी के दौरान बीपीए रसायन के संपर्क में रहे या बीपीए से दूष‍ित खाने व पानी का सेवन किया, उनके बच्चों में जन्म लेने के 7 दिनों बाद से ही पेट से संबंध‍ित परेशानियां उत्पन्न होने लगीं.

शोधकर्ताओं ने अध्ययन से निष्कर्ष निकाला कि बीपीए एक्सपोज होने वाले बच्चों में गट बैक्टीरियल डिसबायोसिस विकसित हो जाता है, जिसके कारण उनके लीवर में दर्द, कोलोन सूजन आदि होता है.

इसलिए शोधकताओं ने प्रेग्नेंट महिलाओं को सुझाव दिया है कि वो खाना या पानी रखने के लिए ऐसी कंटेनर या बोतल का ही इस्तेमाल करें जो बीपीए फ्री हों.

Read more!

RECOMMENDED