मणिपुर के इस बाजार में चलती है महिलाओं की हुकूमत

कहा जाता है कि एक महिला अपने परिवार को अकेले नहीं चला सकती और बाहर जाकर काम करना उनके बस की बात नहीं लेकिन इंफाल की इन महिला व्यापारियों ने इन सब बातों को गलत साबित कर दिया है.

इमा मार्केट दुनिया का पहला महिला दुकानदारों का बाजार है
वन्‍दना यादव
  • नई दिल्ली,
  • 01 मई 2016,
  • अपडेटेड 3:59 PM IST

नारी शक्ति का कमाल देखना है तो एकबार इंफाल के इमा मार्केट जाकर जरूर देखें. यह भारत का अकेला ऐसा बाजार है जहां महिलाओं का वर्चस्व कायम है. यह एक ऐतिहासिक बाजार है और यहां की हर दुकान में महिला व्यापारी देखी जा सकती हैं. इस बाजार में मर्दों को काम नहीं करने दिया जाता है.

इमा बाजार का अर्थ है 'मां का बाजार' और इसे नुपी कीथल के नाम से भी जाना जाता है. इस बाजार में तकरीबन 4000 महिला व्यापारी काम करती हैं. यहां सब्जी-फल से लेकर हर घरेलू सामान मिलता है.

यह बाजार 1786 में बना था और इसके संचालन का जिम्मा महिलाओं ने उठाया था क्योंकि उस समय मणिपुर के सारे मर्द चीन और बर्मा की सेनाओं से युद्ध में उलझे हुए थे. परिवार की जिम्मेदारी महिलाओं के कंधे पर आ गई थी और तब से लेकर आज तक इस बाजार की कमान महिलाओं के हाथ में है.

Read more!

RECOMMENDED