प्रेग्नेंसी में ना हो एनीमिया की शिकायत, डाइट में शामिल करें ये चीजें

भारत में 10 में से छह गर्भवती महिलाओं में एनीमिया है. गर्भवती महिलाओं को सामान्य से अधिक आयरन की जरूरत होती है ताकि बढ़ते शिशु के लिए शरीर में खून बनता रहे.

गर्भवती महिलाओं को सामान्य से अधिक आयरन की जरूरत होती है
aajtak.in
  • नई दिल्ली,
  • 09 जनवरी 2020,
  • अपडेटेड 5:13 PM IST

खून में हीमोग्लोबिन का स्तर सामान्य से कम हो जाने पर एनीमिया की शिकायत होने लगती है. पर्याप्त मात्रा में आयरन ना मिलने पर हीमोग्लोबिन का स्तर कम होने लगता है. गर्भावस्था में आयरन की कमी से होने वाला एनीमिया सबसे आम है. खून में पर्याप्त हीमोग्लोबिन न होने से शरीर को सामान्य से कम ऑक्सीजन मिलता है जो गर्भस्थ शिशु के लिए सही नहीं है.

भारतीय महिलाओं में आयरन की कमी वाला एनीमिया दुनिया भर में सबसे ज्यादा है. बहुत सी महिलाओं में गर्भवती होने से पहले से ही आयरन की कमी होती है. शोध बताते हैं कि भारत में 10 में से छह गर्भवती महिलाओं में एनीमिया है. गर्भवती महिलाओं को सामान्य से अधिक आयरन की जरूरत होती है ताकि बढ़ते शिशु के लिए शरीर में खून बनता रहे.

ज्यादातर महिलाएं प्रेग्नेंसी के दौरान आयरन की गोलियां खाती हैं पर इसके अलावा आपको अपने खान-पान में भी सुधार करना होगा. अगर कब्ज की समस्या है, तो साबुत अनाज, फल और सब्जियों के रूप में फाइबर युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करें.

आयरन खून की कमी और संक्रमण से बचाता है. यह बच्चे और उसके दिमाग के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. पूरे गर्भावस्था के दौरान और अतिरिक्त रूप से 760 मिलीग्राम आयरन की जरूरत होती है.

स्किनलेश चिकन, मछली, अच्छी तरह से पके अंडे, दाल, हरे पत्तीदार सब्जियां, फलियां, मेवा और अनाज आयरन के अच्छे स्रोत हैं. प्रेग्नेंट महिलाओं को आयरन से भरपूर सब्जियां जैसे हरी गोभी, सूतमूली, टमाटर, मशरूम, चुकंदर, कद्दू, शकरकंदी, सिंहफली और कमल ककड़ी जरूर खानी चाहिए.

Read more!

RECOMMENDED