वैज्ञानिकों ने विकसित की इलेक्ट्रॉनिक स्किन, अपने आप भर जाएंगे घाव

यह कृत्रिम त्वचा 3,400 फीसदी से अधिक लचीली है, और यह तुरंत अपने मूल रूप में वापस आ जाती है और छूने के प्रति यह संवेदनशील है. इसका प्रयोग हृदय, गुर्दे और यकृत के लिए भी किया जा सकेगा.

फोटो: Getty
रोहित
  • नई दिल्ली,
  • 17 जून 2018,
  • अपडेटेड 8:51 AM IST

वैज्ञानिकों ने एक इलेक्ट्रॉनिक स्किन विकसित की है, जो खुद को महसूस कर सकती है और खुद का इलाज कर सकती है. इसका प्रयोग प्रोस्टेटिक्स, घाव भरने के लिए दवा युक्त पट्टी और पहनावा प्रौद्योगिकी में किया जा सकता है.

यह कृत्रिम त्वचा 3,400 फीसदी से अधिक लचीली है, और यह तुरंत अपने मूल रूप में वापस आ जाती है और छूने के प्रति यह संवेदनशील है. इसका प्रयोग हृदय, गुर्दे और यकृत के लिए भी किया जा सकेगा.

मोटापे से पाएं छुटकारा, करें ये योगासन

शोधकर्ताओं ने कहा कि इसका निर्माण हाइड्रोजेल और धातु कार्बाइड से किया गया है तथा यह विभिन्न सतहों पर चिपक सकती है. जब इसे टुकड़ों में काटा जाता है तो यह तुरंत जुड़कर खुद की मरम्मत कर लेता है.

सऊदी अरब के तुवाल स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी (केएयूएसटी) के प्रोफेसर हुसम अलशरीफ ने बताया, "हमारी सामग्री ने पहले के सभी हाइड्रोजेल को पीछे छोड़ दिया है और नई कार्यक्षमताओं का प्रदर्शन किया है."

माइग्रेन के लिए किसी दवा से कम नहीं है ये योगासन, ऐसे करें

शोध के मुख्य लेखक और यूनिवर्सिटी के पोस्टडॉक्टोरल छात्र यिझोऊ झांग ने कहा, "इस सामग्री की खींचने और जुड़ने की अलग-अलग संवेदनशीलता एक सफल खोज है, जो हाइड्रोजेल की संवेदनशीलता क्षमता में एक नया आयाम जोड़ता है."

Read more!

RECOMMENDED