Gaurav Chandel Murder Case: रंग लाई परिजनों की IG से गुहार, 6 पुलिसकर्मी सस्पेंड

नोएडा में गौरव चंदेल हत्याकांड को लेकर आईजी मेरठ रेंज अलोक कुमार और मेरठ मंडल कमिश्नर अनीता मेश्राम पीड़ित परिवार से शुक्रवार को मिलने पहुंचे. पीड़ित परिवार ने स्थानीय पुलिस के रवैये पर सवाल उठाया है. पीड़ित परिवार ने प्रशासन से एक व्यक्ति को नौकरी, मुआवजा के साथ उनके बच्चे के लिए फ्री एजुकेशन की मांग की है. साथ ही यहां के निवासियों ने गौर सिटी और आसपास के इलाके में स्ट्रीट लाइट लगवाने की मांग की है.

गौरव चंदेल (फाइल फोटो-फेसबुक)
पुनीत शर्मा
  • ग्रेटर नोएडा,
  • 11 जनवरी 2020,
  • अपडेटेड 7:48 AM IST

  • आईजी मेरठ रेंज अलोक कुमार परिजनों से मिले
  • परिजनों ने बच्चों के लिए फी एजुकेशन की मांग की

नोएडा में गौरव चंदेल हत्याकांड को लेकर आईजी मेरठ रेंज अलोक कुमार और मेरठ मंडल कमिश्नर अनीता मेश्राम पीड़ित परिवार से शुक्रवार को मिलने पहुंचे. पीड़ित परिवार ने स्थानीय पुलिस के रवैये पर सवाल उठाया. पीड़ित परिवार ने प्रशासन से एक व्यक्ति को नौकरी, मुआवजा के साथ उनके बच्चे के लिए फ्री एजुकेशन की मांग की. साथ ही यहां के निवासियों ने गौर सिटी और आसपास के इलाके में स्ट्रीट लाइट लगवाने की मांग की.

गौरव के परिजनों की आईजी से मुलाकात के चंद घंटों बाद ही इसका असर नजर आया और बिसरख थाने के इंस्पेक्टर मनोज पाठक समेत 6 पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया गया. एक पुलिसकर्मी को लाइन हाजिर किया गया है. आईजी ने ग्रेटर नोएडा के सीओ राजीव कुमार सिंह को जांच सौंप रिपोर्ट मांगी थी. राजीव की रिपोर्ट के आधार पर ही इन पुलिसकर्मियों के खिलाफ यह कार्रवाई की गई है.

सीओ ने अपनी रिपोर्ट में चेरी कंटी पुलिस चौकी के प्रभारी, पुलिस चौकी गौर सिटी के व्यवहार को गौरव के परिवार के प्रति उचित नहीं पाया. इस वजह से उन्हें लाइन हाजिर कर दिया गया है. जांच में सब इंस्पेक्टर मानसिंह, सब इंस्पेक्टर वीरपाल सिंह तोमर को घटना को गंभीरता से न लेने और नाइट ड्यूटी सब इंस्पेक्टर राजेंद्र कुमार और प्रभारी निरीक्षक मनोज पाठक को सूचना मिलने के बावजूद घटना को गंभीरता से नहीं लेने का दोषी पाया गया. सीओ राजीव कुमार सिंह ने थानाध्यक्ष मनोज पाठक को सस्पेंड करने की संस्तुति की थी, जिसके आधार पर तत्काल प्रभाव से यह कार्रवाई की गई है.

ये भी पढ़े: दो दिन बाद भी पुलिस के हाथ खाली, पत्नी ने की सुरक्षा और नौकरी की मांग

बीते 6 जनवरी की देर रात थाना फेस-3 क्षेत्र में पर्थला चौक से आगे नाले के पास सर्विस रोड पर गौर सिटी निवासी गौरव चंदेल के मिले शव की घटना के बाद पुलिस की लापरवाही सामने आई है. बाद में मामले का संज्ञान उच्च अधिकारियों को लेना पड़ा. इसी कड़ी में शुक्रवार को पीड़ित परिवार से आईजी मेरठ रेंज अलोक कुमार और मेरठ मंडल कमिश्नर अनीता मेश्राम ने मुलाकात की. अधिकारियों ने पीड़ित परिवार को सुना और उनकी मांगों को प्रशासन तक पहुंचाने की बात कही.

मेरठ मंडल कमिश्नर अनीता मेश्राम ने बताया कि हम जांच और कार्रवाई कर रहे हैं. पीड़ित परिवार ने आर्थिक सहायता, परिवार के एक व्यक्ति को नौकरी, और उनके छोटे बेटे को फ्री एजुकेशन की मांग की है. आईजी मेरठ रेंज अलोक कुमार ने बताया कि जिले में नए थानों की मांग शासन ने स्वीकार की है. स्थानीय लोगों ने स्ट्रीट लाइट और पब्लिक लाइट की मांग की है.

ये भी पढ़ें: ग्रेटर नोएडा- गौरव चंदेल मर्डर: जांच के लिए पुलिस की 3 टीमें गठित, सिर पर लगी थी गोली

बता दें कि चंदेल गुरुग्राम स्थित एक निजी कंपनी में रीजनल मैनेजर के तौर पर कार्यरत थे. जब वह ऑफिस से घर जा रहे थे तो कथित तौर पर मंगलवार को लूट के बाद उनकी हत्या कर दी गई थी. हिंडन विहार स्टेडियम के पास सर्विस लेन पर उनका शव मिला था.

परिजनों का कहना है कि दोषियों को जल्द गिरफ्तार किया जाए और परिवार की सुरक्षा बढ़ाई जाए. इसके अलावा उन्होंने कहा कि हत्या जैसे गंभीर मामले पर स्थानीय नेताओं को भी हस्तक्षेप करना चाहिए और परिवार की सुरक्षा सुनिश्चित करने चाहिए. परिजनों ने पुलिस पर समय पर कार्रवाई नहीं करने का आरोप भी लगाया.

Read more!

RECOMMENDED