बरेली: गाय को लेकर बवाल, मेयर उमेश गौतम समेत 50 लोगों पर मुकदमा दर्ज

मेयर उमेश गौतम ने नगर स्वास्थ्य अधिकारी को 1500 रुपये जुर्माना लेकर छोड़ने के लिए कहा लेकिन नगर स्वास्थ्य अधिकारी ने 5000 रुपये जुर्माने की बात कही. इस पर मेयर भड़क गए और नगर आयुक्त के सामने ही नगर स्वास्थ्य अधिकारी से अभद्रता की.

यूपी में गौ आश्रय (फोटो-IANS)
aajtak.in
  • नई दिल्ली,
  • 16 जुलाई 2019,
  • अपडेटेड 11:23 AM IST

बरेली के मेयर उमेश गौतम और 25 पार्षदों समेत 50 लोगों पर मंगलवार को मुकदमा दर्ज हुआ. बरेली में नगर स्वास्थ्य अधिकारी संजीव प्रधान ने सरकारी कार्य में बाधा डालने, सरकारी आदेश पर जबरन साईन कराने और अभद्रता करने का आरोप लगाकर मुकदमा दर्ज कराया.

दरअसल, सोमवार को नगर निगम ने एक गाय को पकड़ लिया था. इस पर मेयर उमेश गौतम ने नगर स्वास्थ्य अधिकारी को 1500 रुपये जुर्माना लेकर छोड़ने के लिए कहा लेकिन नगर स्वास्थ्य अधिकारी ने 5000 रुपये जुर्माने की बात कही. इस पर मेयर भड़क गए और नगर आयुक्त के सामने ही नगर स्वास्थ्य अधिकारी से अभद्रता की. इसके बाद मेयर उमेश गौतम ने नगर आयुक्त सैम्युल पाल को भी खरी खोटी सुनाई. इससे नाराज अधिकारियों ने मेयर और 25 पार्षदों समेत 50 लोगों पर बरेली कोतवाली में सोमवार रात को मुकदमा दर्ज कराया है.

प्रदेश के मुख्यमंत्री ने हाल ही में अयोध्या, हरदोई, रायबरेली, मिजार्पुर, प्रयागराज और सीतापुर समेत कई जिलों में गायों की मौत पर सभी डीएम के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग कर एक कार्रवाई की और कई अधिकारियोंको सस्पेंड कर दिया. मुख्यमंत्री ने चेतावनी दी है कि लापरवाह लोगों पर गोवध अधिनियम और पशु क्रूरता निवारण के तहत कार्रवाई होगी.

मुख्यमंत्री ने गोशालाओं में उचित इंतजाम न होने के कारण अधिकारियों को आड़े हाथों लिया. उन्होंने कहा कि गोशाला के संचालन, निरीक्षण और देखभाल की जिम्मेदारी डीएम और सीडीओ की होगी. योगी ने सभी जिलों के डीएम से कहा है कि वे गोशालाओं का निरीक्षण कर व्यवस्था दुरुस्त करें. जो गौ पालक दूध निकाल कर पशुओं को सड़कों पर छोड़ देते हैं, उनके खिलाफ जुर्माने और दंड की कार्रवाई होगी. वहीं बेसहारा गोवंश रखने पर गौ पालकों को 900 रुपए प्रतिमाह दिए जाएंगे.

Read more!

RECOMMENDED