आजम खान ने उड़ाया मोहसिन रज़ा का मजाक, बोले-हादसे से बन गए मंत्री

सपा नेता आजम खान ने यूपी के वक्फ राज्य मंत्री मोहसिन रज़ा को हादसे से बना मंत्री बताया है. आजतक से खास बातचीत में आजम खान ने अपने ऊपर लगे भ्रष्टाचार के सभी आरोपों को झूठा बताते हुए कहा कि यूपी के चार नकवी नेता मुस्लिम कौम को बांटना चाहते हैं.

सपा नेता आजम खान
अहमद अजीम
  • नई दिल्ली ,
  • 04 अप्रैल 2017,
  • अपडेटेड 7:17 PM IST

सपा नेता आजम खान ने यूपी के वक्फ राज्य मंत्री मोहसिन रज़ा को हादसे से बना मंत्री बताया है. आजतक से खास बातचीत में आजम खान ने अपने ऊपर लगे भ्रष्टाचार के सभी आरोपों को झूठा बताते हुए कहा कि यूपी के चार नकवी नेता मुस्लिम कौम को बांटना चाहते हैं. आजम खान ने अपने ऊपर लगे सभी आरोपों और अन्य मसलों पर खुलकर बात की. पेश है उनसे बातचीत का अंश:

सवाल: मौलाना कल्बे जव्वाद ने आप पर संगीन आरोप लगाएं हैं कि आपने वक़्फ़ की प्रॉपर्टी में करोड़ों रुपयों का हेरफेर किया है?

जवाब: मौलाना कल्बे जव्वाद जिस ज़बान इस्तेमाल करते हैं वह किसी आलिम को शोभा नहीं देती. अल्हमदुलिल्लाह, मेरा दामन बिलकुल पाक साफ है. मेरे दुश्मन भी ये नहीं कह सकते की मैं बेईमान हूं. मुझे शर्म आ रही है और मैं शर्म से इस आरसीसी की फर्श के अंदर गड़ा जा रहा हूं की एक शिया आलिमे दीन ने काज़िब यानी झूठे होने की सारी हदें पार कर दी हैं. अगर इलज़ाम..इलज़ाम की हद तक भी साबित हो जाएं तो मैं कोई भी सज़ा भुगतने को तैयार हुं. लेकिन अगर इलज़ाम साबित न हुए तो उन्हें चुल्लू भर पानी में डूब कर मर जाना होगा.

सवाल: लेकिन वो तो कह रहे हैं उनके पास सबूत हैं. अकेले सहारनपुर में वक़्फ़ की 400 करोड़ की संपत्ति में हेरफेर का इल्जाम लगा रहे हैं.

जवाब: अल्लाह से डरिये. कम से कम आप तो अल्लाह से डरिये. मौलाना कल्बे जव्वाद अपने दामाद को वक़्फ़ बोर्ड का चेयरमैन बनवाना चाहते थे. मैंने मना कर दिया. उसी का बदला निकाल रहे हैं.

सवाल: तो आखिर ये आरोप आप पर ही क्यों?

जवाब: हर आने वाली सरकार जाने वाली सरकार का काम देखती है, लेकिन उसका कोई तरीका होता है. मुझे तनहा निशाना बनाया गया है. चुनाव से पहले एक बड़े चैनल ने मुझे कहा कि मैं देशद्रोही हूं. आज हमने कहा है कि उन्हें साबित करना होगा वरना हम अदालत जाएंगे उनके खिलाफ. वक़्फ़ की संपत्ति का इससे अच्छा इस्तेमाल और क्या हो सकता है कि उन पर मुसलमानों के लिए एजुकेशनल इदारे खोले जाएं. मैंने यही किया.

सवाल: उत्तर प्रदेश के मंत्री मोहसिन रज़ा कह रहे हैं कि जिसके हस्ताक्षर हुए हैं उन सबके खिलाफ जांच होगी! आप हों या कोई और...

जवाब: मोहसिन रज़ा नक़वी एक हादसे के नतीजे में मंत्री बन गए हैं. उनको पता ही नहीं कि मंत्री का काम कैसे होता है, मंत्री किन फाइलों पर दस्तखत करता है. वक़्फ़ के मंत्री का कोई रोल नहीं होता. जांच होगी तो शिया और सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड की होगी. जिस शख्स को यही नहीं मालूम की शिया वक़्फ़ और सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड की कोई भी फाइल मंत्री तक आती ही नहीं, जिस मंत्री को इतना भी न पता हो उसके बारे में क्या कहूं आपसे. वो सिर्फ राज्य मंत्री हैं, जो बस मोटर और लाल बत्ती पा लेता है. उसके पास कोई फाइल नहीं आती. दोनों बोर्ड इंडिपेंडेंट हैं. इलेक्शन से बोर्ड बनता है. अध्यक्ष फैसला लेता है. मंत्री का इसमें कोई रोल नहीं होता.

सवाल: तो क्या आप किसी भी जांच के लिए तैयार हैं?

जवाब: सीबीआई ही क्यों इंटरनेशनल एजेंसी से जांच कराएं...

सवाल: आपको क्या लगता है, क्यों हो रहा है ये सब?

जवाब: एक मुख़्तार अब्बास नकवी, दुसरे मोहसिन रजा नक़वी, तीसरे कल्बे जव्वाद नक़वी और चौथे हैं ऐजाज़ अब्बास नकवी. ये नक़वी साहेबान मुस्लिम क़ौम में बंटवारा करवाना चाहते हैं. ये चार नक़वी साहब हैं जो मेरे बच्चों का स्कूल बंद कराना चाहते हैं. इन लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करूंगा इंशाल्लाह. ये लोग मुसलमानों को और इंसानियत को बांटना चाहते हैं. ये नक़वी लोग हमारे बच्चों को अनपढ़ रखना चाहते हैं. मेरे बच्चे के स्कूलों की तरफ और मेरी यूनिवर्सिटी की तरफ जिन नक़वी साहेबान ने आंख उठायी है, उन्हें छोडूंगा नहीं. ये मुस्लिम क़ौम में अंग्रेजों के ख़िलाफ़ लड़ाई के मीर जाफर और मीर सादिक़ हैं.

सवाल: आप पर आरोप है कि आपने वक़्फ़ की ज़मीन पर अपने ट्रस्ट का स्कूल बनवाया, बापू मॉल वक़्फ़ की ज़मीन पर है, इस यूनिवर्सिटी में भी कुछ ज़मीन वक़्फ़ की आपने मिला ली?

जवाब: मैंने मंत्री रहते ये लिखा था कि कोई भी वक़्फ़ का मुतवल्ली तभी रहेगा, जब वो वक़्फ़ की संपत्ति पर शिक्षा के इदारे खोले. दामन फैला कर पैसा लाता हूं और वक़्फ़ की जगह पर यतीमखाना और स्कूल क़ायम करता हूं. गरीब बच्चों से फीस नहीं लेता. चुल्लू भर पानी में डूब कर ये लोग मर जाएं. नगर पालिका मालिक है बापू मॉल मार्किट की. यहां एक साहब हैं जो अपराधी हैं, उनकी एक दरख्वास्त पर ये सारा एक्शन हुआ है. मैंने अपराधियों को सज़ाएं दी हैं. अपराधियों के मैं नाम नहीं लेता.

सवाल: नवाब काज़िम अली ने आरोप लगाएं हैं आप पर.

जवाब: आखरी कील थी ताबूत में जो मैंने गाड़ी है अपने बेटे से काजिम अली को हरवा के. काज़िम अली ने वक़्फ़ की जमीनें यहां बेचीं. उनकी गिरफ्तारी पर सुप्रीम कोर्ट से अरेस्ट पर रोक है. मैं अदालत जाऊंगा उन लोगों के खिलाफ जिन्होंने मेरे खिलाफ आरोप लगाए हैं. उन चैनल्स के खिलाफ भी. कैसे बिना तथ्यों के खबर चलाई.

Read more!

RECOMMENDED