वेदांती बोले- राम मंदिर का शुरुआती ढांचा बनाने में लग सकते हैं 4 साल, 2024 से पहले होगा तैयार

रामजन्मभूमि न्यास के कार्यकारी अध्यक्ष रामविलास वेदांती का कहना है कि भगवान राम के भव्य मंदिर का बुनियादी हिस्सा 2024 तक तैयार हो सकता है. दिल्ली हिंसा पर वेदांती ने कहा कि सोनिया गांधी और अरविंद केजरीवाल इसके लिए जिम्मेदार हैं और मामले की सीबीआई जांच हो.

रामजन्मभूमि न्यास के कार्यकारी अध्यक्ष रामविलास वेदांती (फाइल-ANI)
aajtak.in
  • इंदौर,
  • 02 मार्च 2020,
  • अपडेटेड 11:01 AM IST

  • 'अयोध्या में भव्य राम मंदिर के लिए कम पड़ेगी जमीन'
  • दिल्ली हिंसा में AAP और कांग्रेस की भूमिकाः वेदांती

विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) के रामजन्मभूमि न्यास के कार्यकारी अध्यक्ष रामविलास वेदांती का कहना है कि अगले लोकसभा चुनाव से पहले भगवान राम के भव्य मंदिर का बुनियादी हिस्सा बनकर तैयार हो जाएगा. 2024 में अगला लोकसभा चुनाव होना है और इससे पहले भगवान राम का मंदिर बन जाने की संभावना है.

रामजन्मभूमि न्यास के कार्यकारी अध्यक्ष रामविलास वेदांती ने रविवार को इंदौर में एक कार्यक्रम में अनुमान जताया कि 2024 के अगले लोकसभा चुनाव से पहले अयोध्या में भगवान राम के भव्य मंदिर का बुनियादी हिस्सा बनकर तैयार हो जाएगा.

राम विलास वेदांती ने कहा कि केंद्र सरकार की ओर से ट्रस्ट (श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास) के गठन के बाद अयोध्या में भगवान राम के भव्य मंदिर के निर्माण की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है. मुझे लगता है कि वर्ष 2024 के आम चुनाव से पहले इस मंदिर का बुनियादी ढांचा खड़ा हो जाएगा.

उन्होंने आगे कहा कि यह मंदिर दुनिया का सबसे बड़ा मंदिर और अंतरराष्ट्रीय पर्यटन स्थल बनेगा, इसलिए इसके निर्माण में राम जन्मभूमि परिसर की 67 एकड़ की जमीन कम पड़ेगी. हो सकता है कि सरकार की ओर से गठित ट्रस्ट को भव्य मंदिर के निर्माण के लिए इस परिसर के आस-पास की भूमि का अधिग्रहण करना पड़े.

ट्रस्ट में क्यों नहीं हुए शामिल?

पूर्व बीजेपी सांसद राम विलास वेदांती ने दोहराया कि साधु-संतों की इच्छा के मुताबिक अयोध्या में 1,111 फुट ऊंचा राम मंदिर बनाया जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि अयोध्या में बनने वाले राम मंदिर की ऊंचाई इतनी होनी चाहिए कि मंदिर इस्लामाबाद, कोलंबो और काठमांडू से भी दिखाई दे.

सबसे ऊंचे मंदिर के निर्माण को लेकर वेदांती ने कहा कि हमारी इस इच्छा के अनुरूप केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भगवान राम की जन्मभूमि पर गगनचुंबी मंदिर बनाने की घोषणा की है.

सरकार की ओर से गठित श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास में वेदांती और राम जन्मभूमि आंदोलन के अन्य दिग्गज नेताओं को शामिल नहीं किया गया. इस बारे में पूछे जाने पर वेदांती ने कहा, 'जिन लोगों के कोर्ट में मामले विचाराधीन हैं या जो दलगत राजनीति में शामिल होकर चुनाव लड़ चुके हैं, उन्हें इस ट्रस्ट में नहीं रखा गया है. मैं खुद दो बार लोकसभा सांसद रह चुका हूं.'

इसे भी पढ़ें--- 70 साल बाद नवरात्रों में रामलला अपने जन्मस्थान से थोड़ी दूर विराजेंगे!

इसे भी पढ़ें--- राम मंदिर निर्माण में शामिल रहेगी लार्सन एंड टुब्रो, जिम्मेदारी तय करेगा ट्रस्ट

'सोनिया-केजरीवाल पर हो सीबीआई जांच'

रामजन्मभूमि न्यास के कार्यकारी अध्यक्ष राम विलास वेदांती ने कहा, 'केंद्र सरकार ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर एक अच्छा ट्रस्ट बनाया है. ट्रस्ट में शामिल लोग हमारी भावनाओं के मुताबिक ही मंदिर निर्माण कराना चाहते हैं.

इसे भी पढ़ें--- दिल्ली हिंसाः मुस्तफाबाद में था अकेला हिंदू परिवार, मुस्लिमों ने हिफाजत कर पेश की मिसाल

विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) के कार्यकारी अध्यक्ष वेदांती ने पिछले दिनों दिल्ली में हुई हिंसा में कांग्रेस और आम आदमी पार्टी की भूमिका होने का आरोप लगाते हुए कहा कि सोनिया गांधी, राहुल गांधी, प्रियंका गांधी वाड्रा और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के खिलाफ सीबीआई जांच कराई जानी चाहिए.

Read more!

RECOMMENDED