हैदराबाद गैंगरेप के खिलाफ सड़कों पर उतरे लोग, पुलिस पर फेंकी चप्पल

गैंगरेप मामले में विरोध प्रदर्शन के दौरान हैदराबाद के शादनगर थाना क्षेत्र में क्षेत्रीय नागरिकों ने एक पुलिसकर्मी पर चप्पल भी फेंकी. लोगों का आक्रोश बढ़ता देख पुलिस ने हालात को नियंत्रित करने के लिए लाठीचार्ज किया. प्रदर्शनकारी गिरफ्तार आरोपियों को जनता के हवाले करने की मांग कर रहे थे.

गैंगरेप की घटना के खिलाफ प्रदर्शन (फोटोः पीटीआई)
aajtak.in
  • हैदराबाद,
  • 01 दिसंबर 2019,
  • अपडेटेड 12:29 PM IST

  • पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर किया लाठीचार्ज
  • चिलकुर बालाजी मंदिर में हुआ महा प्रदक्षिणम
 

हैदराबाद में महिला पशु चिकित्सक के साथ हुई हैवानियत से पूरे देश में आक्रोश है. शनिवार को जनता का आक्रोश सड़क पर नजर आया. और तेलंगाना के विभिन्न हिस्सों में लोगों ने सड़क पर उतर कर प्रदर्शन किए. प्रदर्शन में दोषियों को कड़ी सजा, महिला चिकित्सक को न्याय देने की मांग की गई.

विरोध- प्रदर्शन के दौरान हैदराबाद के शादनगर थाना क्षेत्र में क्षेत्रीय नागरिकों ने एक पुलिसकर्मी पर चप्पल भी फेंकी. लोगों का आक्रोश भड़कता देख पुलिस ने हालात को नियंत्रित करने के लिए लाठीचार्ज किया. प्रदर्शनकारी गिरफ्तार आरोपियों को जनता के हवाले करने की मांग कर रहे थे.

चिलकुर बालाजी मंदिर में सांकेतिक विरोध

आम नागरिकों ने जहां सड़क पर उतरकर प्रदर्शन किया, वहीं चिलकुर बालाजी मंदिर में भी सांकेतिक विरोध हुआ. मंदिर में लगभग 20 मिनट के लिए श्रद्धालुओं की एंट्री रोक दी गई. सभी श्रद्धालु और पुजारी मंदिर के बाहर खड़े रहे. इस दौरान महा प्रदक्षिणम की गई. महा प्रदक्षिणम महिलाओं और लड़कियों की सुरक्षा के लिए की जाने वाली प्रार्थना है.  

क्या है पूरा मामला

बुधरात रात ड्यूटी से लौट रही एक महिला डॉक्टर की स्कूटी रास्ते में पंक्चर हो गई थी. महिला डॉक्टर ने अपनी बहन को फोन कर इस बात की जानकारी देते हुए यह भी कहा था कि उसे डर लग रहा है. मदद के बहाने महिला डॉक्टर के साथ गैंग रेप किया गया और उसे जला दिया गया था. अगले दिन महिला डॉक्टर का जला शव बेंगलुरु हैदराबाद राष्ट्रीय राजमार्ग पर अंडरपास के करीब मिला था.

बता दें कि पुलिस ने इस मामले में चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है, जिनके नाम मोहम्मद आरिफ, जोल्लू शिवा, जोल्लू नवीन और चिंतकुंता चेन्नाकेशवुलु हैं. पुलिस ने आरोपियों को कोर्ट में पेश किया, जहां से उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया.

Read more!

RECOMMENDED