बंगाल में डायनिंग हॉल विवाद: विजयवर्गीय बोले-बच्चों को धर्म की अफीम से दूर रखो

बंगाल सरकार की दलील है कि ये तो स्कूलों में इंफ्रास्ट्रक्चर के विकास के लिए लाई गई स्कीम है. पैसा अल्पसंख्यक कल्याण मंत्रालय देगा इसलिए अल्पसंख्यक बहुल स्कूलों में ये डाइनिंग हॉल बनवाए जाएंगे.

बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय (IANS)
aajtak.in
  • नई दिल्ली,
  • 29 जून 2019,
  • अपडेटेड 3:58 AM IST

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के महासचिव और बंगाल प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर निशाना साधा और कहा कि ममता राज में धर्म की खाई बढ़ गई है और बंगाल में अब मुस्लिम बहुल इलाकों में सरकारी स्कूलों में अलग डायनिंग हॉल बनाने की तैयारी है.

कैलाश विजयवर्गीय ने ट्वीट में लिखा, 'ममता राज में स्कूलों में धर्म की खाई!!! पश्चिम बंगाल में अब मुस्लिम बहुल इलाकों के सरकारी स्कूलों में अलग डाइनिंग हॉल बनेंगे! ममता सरकार के इस आदेश से शिक्षा के मंदिरों में धार्मिक विभेद पनपने का खतरा पैदा हो गया है! बच्चों को तो धर्म की अफीम से दूर रखो! गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल सरकार 70 फीसदी से अधिक अल्पसंख्यक छात्रों वाले स्कूलों में डाइनिंग हॉल बनवाने का फैसला किया है. इससे ममता सरकार पर मिड डे मील के लिए बच्चों में बंटवारा करने का आरोप लग रहा है.

उधर ममता बनर्जी ने शुक्रवार को कहा कि मिड डे मील से जुड़े सर्कुलर में केंद्र सरकार के गाइडलाइन का पालन किया जा रहा है. सर्कुलर में साफ कहा गया है कि जिन स्कूलों में अल्पसंख्यक बच्चों की संख्या 70 फीसदी से अधिक होगी, वहां अल्पसंख्यक कल्याण विभाग की ओर से फंड भेजा जाएगा. यह पूरी तरह से टेक्निकल मामला है. इस पर बीजेपी का आरोप है कि ये मुसलमान बच्चों की बहुतायत वाले स्कूलों में मिड डे मील के बंटवारे का प्लान है.

बीजेपी ने बंगाल सरकार के इस आदेश पर सवाल उठाया है. बंगाल यूनिट के बीजेपी अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा कि एक बार फिर बंगाल को बांटने की राजनीति की जा रही है. धर्म के आधार पर लोगों को बांटा जा रहा है. ममता बनर्जी का ये कदम ठीक नहीं है. दूसरी ओर घेरे में आई बंगाल सरकार की दलील है कि ये तो स्कूलों में इंफ्रास्ट्रक्चर के विकास के लिए लाई गई स्कीम है. पैसा अल्पसंख्यक कल्याण मंत्रालय देगा इसलिए अल्पसंख्यक बहुल स्कूलों में ये डाइनिंग हॉल बनवाए जाएंगे.

For latest update on mobile SMS to 52424 for Airtel, Vodafone and idea users. Premium charges apply!!

Read more!

RECOMMENDED