मणिपुर की राजधानी इंफाल में बम धमाका, 4 पुलिसकर्मी घायल

मणिपुर की राजधानी इंफाल में मंगलवार सुबह धमाका हुआ. थगल बाजार में हुए इस बम धमाके में 4 पुलिसकर्मी घायल हैं. इस हमले में एक नागरिक भी घायल हो गया है.

ब्लास्ट के बाद तैनात सुरक्षाबल
मनोज्ञा लोइवाल
  • इंफाल,
  • 05 नवंबर 2019,
  • अपडेटेड 11:30 AM IST

  • इंफाल में बम ब्लास्ट, 4 पुलिसकर्मी गंभीर रूप से घायल
  • ब्लास्ट में एक नागरिक भी घायल, जांच जारी
  • पुलिस ने दर्ज किया मामला, घायल अस्पताल में भर्ती

मणिपुर की राजधानी इंफाल में मंगलवार सुबह हुए बम धमाके में 4 पुलिसकर्मी गंभीर रूप से घायल हो गए हैं. आतंकी हमले में घायल हुए जवानों को नजीदी अस्पताल में भर्ती कराया गया है. पुलिस ने पूरे इलाके को खाली करा लिया है, साथ ही हमलावरों की तलाशी तेज कर दी गई है.

पुलिस ने सुरक्षा व्यवस्था के मद्देनजर आस पास के लोगों को घटनास्थल से हटा दिया है. हमला पुलिस को ही निशाना बनाकर किया गया है, लेकिन इस हमले में एक शख्स भी गंभीर रूप से घायल हो गया है.

इंफाल शहर में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था होने के बावजूद यह धमाका हुआ है. अज्ञात उग्रवादियों ने बम प्लांट किया था. मणिपुर पुलिस एसपी इंफाल की अगुवाई में संदिग्धों की तलाशी कर रही है. अब तक किसी अंडरग्राउंड आउटफिट की जानकारी सामने नहीं आई है.

हैरान करने वाली बात यह है कि यह घटना वहां हुई है जहां से पुलिस स्टेशन महज 150 मीटर की दूरी पर है. ब्लास्ट के एक घंटे के भीतर ही मुख्यमंत्री एन बीरेन शाह ब्लास्ट वाली जगह का दौरा किया. उन्होंने हमले को कायरतापूर्ण करार दिया है. उन्होंने इस हमले की निंदा करते हुए कहा है कि जो भी इसके दोषी होंगे, उन्हें कड़ी से कड़ी सजा दी जाएगी.

सुरक्षा और फोरेंसिक विभाग के ऑपरेशन की वजह से इलाके को पूरी तरह सील कर दिया है. पुलिस के मुताबिक घायलों के नाम लामबाम अमरजित, थोंगम देवान, निंगथोजम इबोतोंबा सिंह, खुराइजम बोनी, हुइरंगबम बोबे और कृष्ण गुरुंग हैं.

जिस इलाके में यह ब्लास्ट हुआ है, वहां बिहार के लोग ज्यादा संख्या में हैं. इस मामले में पुलिस ने केस दर्ज मामले की जांच शुरू कर दी है. अब तक किसी भी उग्रवादी समूह ने इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है.

ब्लास्ट के बाद जांच के लिए पहुंचा दल

उत्तर-पूर्वी राज्यों में मणिपुर राज्य में उग्रवाद अपने चरम पर है. हालांकि सुरक्षाबलों और स्थानीय पुलिस की सक्रियता से यहां स्थितियां सामान्य हैं . लेकिन आए दिन कोई न कोई उग्रवादी संगठन यहां पांव पसारने की कोशिश करता है. घटना के विस्तृत ब्यौरे की प्रतीक्षा है.

(जित निंगोंबा के इनपुट के साथ)

Read more!

RECOMMENDED