कर्नाटक: कर्ज से परेशान था व्यापारी, परिवार के 4 सदस्यों को गोली मार की खुदकुशी

कर्नाटक में एक शख्स ने अपने परिवार के 4 सदस्यों को गोली मारने के बाद खुदकुशी कर ली. यह मामला चामराजनगर में गुंडलुपेट के पास का है. पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई है.

कर्नाटक में एक ही परिवार के 5 सदस्यों ने की खुदकुशी (फोटो क्रेडिट- नागार्जुन)
नागार्जुन
  • बेंगलुरु,
  • 16 अगस्त 2019,
  • अपडेटेड 11:34 AM IST

कर्नाटक के चामराजनगर में गुंडलुपेट के पास एक शख्स ने अपने परिवार के 4 सदस्यों को गोली मारने के बाद खुदकुशी कर ली. प्रारंभिक जांच में पता चला है कि यह परिवार बिजनेस चलाता था, जिसे इस साल बहुत ज्यादा घाटा हो गया था. हालांकि पुलिस को मौके से कोई सुसाइड नोट बरामद नहीं हुआ है. पुलिस ने शवों को कब्जे में लेकर मामले की जांच शुरू कर दी है.

मिली जानकारी के मुताबिक पहले शख्स ने अपने परिवार के सदस्यों को गोली मारी, उसके बाद खुद को गोली मार ली. स्थानीय पुलिस के मुताबिक परिवार की वित्तीय हालत और बढ़ते कर्ज का दबाव भी आत्महत्या के कारणों में से एक हो सकता है.

पुलिस ने घटनास्थल से 33 वर्षीय ओंकार प्रसाद के पास से बंदूक भी बरामद की है. पुलिस को शक है कि उसने अपने अभिभावकों को मारा है. शख्स ने पहले अपने 60 वर्षीय नागराज भट्टाचार्य को मारा. फिर उसने मां को भी मौत के घाट उतार दिया.

शख्स की मां का नाम हेमलता, पत्नी का नाम निकिता(27 वर्ष), बेटे का नाम आर्यकृष्ण( वर्ष) है. अपने परिजनों की हत्या करने के बाद शख्स ने खुद को उसी बंदूक से गोली मार ली. यह मामला गुंडलुपेट कस्बे से थोड़ी दूर का है.

यह परिवार पिछले कुछ दिनों से मैसूर स्थित अपने घर से बाहर था. परिवार के सभी सदस्य नंदी लॉज में ठहरने से पहले बांदीपुर के जंगल के पास बसे येलाचेत्ति गांव स्थित एक फॉर्म हाउस में ठहरे हुए थे. आत्महत्या करने से पहले उन्होंने अपने ड्राइवर को वहां से बाहर भेज दिया था. ड्राइवर के जाने से पहले उन्होंने एक होटल में चेकइन भी किया था.

देशभर में एकल परिवारों की खुदकुशी का मामला सामने आ रहा है. दिल्ली में ऐसे कई परिवार खत्म हो गए, जिन्हें सामूहिक आत्महत्या करनी पड़ी. जांच में कहीं जादू और टोना-टोटका तो कहीं कर्ज के बोझ की बात सामने आई.

इससे पहले 26 जुलाई को दिल्ली के आईआईटी कैम्पस में रहने वाले एक लैब टेक्नीशियन ने अपनी पत्नी और मां के साथ खुदकुशी कर ली थी. यहां भी पुलिस को मौके से कोई सुसाइड नोट बरामद नहीं हुआ था.

1 जुलाई को गुरुग्राम की पॉश उप्पल साउथएंड सोसायटी से भी 4 लोगों की लाश बरामद की गई थी. बंद मकान से 2 बच्चों समेत माता-पिता की खून से सनी लाश मिली थी. इनमें मां और बच्चों का कत्ल धारदार हथियार किया गया था, जबकि परिवार के मुखिया की लाश ड्राइंग रूम में पंखे से लटकी हुई मिली थी. मौके से कोई सुसाइड नोट बरामद नहीं हुआ था.

5 जुलाई को गाजियाबाद के न्यू शताब्दीपुरम कॉलोनी के 5 लोगों के परिवार की रहस्यमयी हालत में मौत हुई थी. बच्चों के मुंह पर टेप चिपका कर कत्ल कर दिया गया था वहीं बच्चों के पिता ने भी इसी तरह से आत्महत्या की थी. कमरे में बच्चों की मां की लाश मिली थी. उस पर हथौड़े से वार किया गया था.

Read more!

RECOMMENDED