बंगाल हिंसा: विजयवर्गीय ने कहा, हालात नहीं बदले तो राष्ट्रपति शासन लगे

आजतक से बातचीत में बीजेपी प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने कहा है कि अगर पश्चिम बंगाल में इसी प्रकार से हिंसा होती रही तो केंद्र सरकार से धारा 356 लगाने की मांग करेंगे. साथ ही उन्होंने पश्चिम बंगाल में हिंसा के लिए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को जिम्मेदार बताया.

बंगाल बीजेपी प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय (फाइल फोटो)
अशोक सिंघल
  • कोलकाता,
  • 10 जून 2019,
  • अपडेटेड 1:40 PM IST

पश्चिम बंगाल में भारतीय जनता पार्टी और तृणमूल कांग्रेस के बीच सियासी घमासान जारी है. बंगाल हिंसा के मुद्दे को उठाते हुए बीजेपी के बंगाल प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने बड़ा बयान दिया है. उन्होंने आजतक से बातचीत में कहा है कि अगर पश्चिम बंगाल में इसी प्रकार हिंसा चलती रही तो केंद्र सरकार से धारा 356 लगाने की मांग करेंगे. साथ ही उन्होंने बंगाल में हिंसा के लिए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को जिम्मेदार बताया.

कैलाश विजयवर्गीय ने ममता बनर्जी पर बड़ा आरोप लगाया है. आजतक से उन्होंने कहा, ‘पश्चिम बंगाल में हो रही लगातार हिंसा के लिए ममता बनर्जी जिम्मेदार हैं, वो लोगों को भड़का रही हैं और अपने कार्यकर्ताओं से कह रही हैं कि जिस बूथ से बीजेपी जीती है वहां उसके कार्यकर्ताओं को नेस्तनाबूद कर दो.’ साथ ही उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल में हिंसा के लिए टीएमसी के गुंडे जिम्मेदार हैं क्योंकि वो नहीं चाहते कि बीजेपी सत्ता में आए.

बीजेपी प्रभारी विजयवर्गीय का कहना है, ‘आज पश्चिम बंगाल जिस दिशा में बढ़ रहा है. ममता बनर्जी जैसा व्यवहार कर रही हैं. उसे देखकर हमें आगे की रणनीति पर सोचना पड़ेगा. अगर बंगाल में इसी प्रकार से हिंसा होती रही तो हम केंद्र सरकार से हस्तक्षेप की मांग करेंगे. हो सकता है कि धारा 356 भी लागू हो, लेकिन हम इसका समर्थन नहीं करते हैं. अभी बीजेपी राष्ट्रपति शासन का समर्थन नहीं कर रही लेकिन अगर हिंसा बढ़ती रहेगी तो फिर जरूर करेंगे.’ 

इससे पहले, ममता सरकार ने राज्य में कानून और व्यवस्था की स्थिति नियंत्रण में होने की बात को दोहराते हुए केंद्र सरकार से कहा है कि राज्य में मतदान के बाद हुई छिट-पुट झड़पों के खिलाफ कड़ी और उचित कार्रवाई की गई है. गृह मंत्रालय द्वारा रविवार को जारी दिशानिर्देश के जवाब में राज्य के मुख्य सचिव मलय कुमार डे द्वारा हस्ताक्षरित पत्र में दावा किया गया कि झड़पों को 'कुछ असामाजिक तत्वों द्वारा अंजाम दिया गया.

Read more!

RECOMMENDED