गोरक्षा के नाम पर गुंडागर्दी, भुवनेश्वर और मालेगांव में सामने आए पिटाई के मामले

बजरंग दल के कार्यकर्ताओं की हिंसा में दोनों लोगों को काफी चोटें आई हैं. हैरानी की बात ये है कि दोनों कर्मचारी बहुसंख्यक समुदाय के थे. दोनों के पास गायों की बिक्री के सभी वैध दस्तावेज भी मौजूद थे

गोरक्षा के नाम पर गुंडागर्दी
लव रघुवंशी
  • भुवनेश्वर/मालेगांव,
  • 28 मई 2017,
  • अपडेटेड 10:25 AM IST

गोरक्षा के नाम पर हिंसा का सिलसिला जारी है. ओडिशा के भुवनेश्वर में बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने गायों की तस्करी के आरोप में 2 लोगों को बेरहमी से पीटा तो महाराष्ट्र के मालेगांव में भी एक शख्स कथित गोरक्षकों का शिकार बना.

भुवनेश्वर में बजरंग दल की गुंडागर्दी शनिवार को भुवनेश्वर रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्म पर करीब 15 से 20 बजरंग दल कार्यकर्ताओं ने 2 निहत्थे लोगों को निशाना बनाया. पीड़ित नोएडा के एक डेयरी फार्म में काम करते हैं और कोचुवेली गुवाहाटी एक्सप्रेस से 20 गायों को गुवाहाटी लेकर आए थे. तमिलनाडु के सेलम से खरीदी गई इन जर्सी गायों को गुवाहाटी से मेघालय भेजा जाना था. यहां इन्हें मेघालय सरकार के पशुपालन विभाग को सौंपा जाना था.

वैध कागजात के बावजूद पिटाई बजरंग दल के कार्यकर्ताओं की हिंसा में दोनों लोगों को काफी चोटें आई हैं. हैरानी की बात ये है कि दोनों कर्मचारी बहुसंख्यक समुदाय के थे. दोनों के पास गायों की बिक्री के सभी वैध दस्तावेज भी मौजूद थे. फिर भी गोरक्षा के बहाने बजरंग दल के गुंडों की दरिंदगी ने मानवता को शर्मसार किया. करीब 1 घंटे की पिटाई के बाद रेलवे सुरक्षा बल ने पीड़ितों को बजरंग दल कार्यकर्ताओं के हाथों से छुड़ाया. इसके बाद 25 अज्ञात लोगों को आरोपी बनाया गया है. लेकिन अब तक कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है.

मालेगांव में भी गोरक्षा के नाम पर गुंडागर्दी वहीं महाराष्ट्र के मालेगांव में भी कथित गोरक्षकों ने एक शख्स को सिर्फ इसलिए पीटा क्योंकि उस पर गोमांस बेचने का आरोप था. हालांकि पीड़ित शख्स का कहना था कि उसके पास गाय का नहीं बल्कि भैंस का मीट है. पिटने वाले शख्स के साथ दो बुजुर्ग भी मौजूद थे. उन्हें कोई नुकसान नहीं पहुंचाया गया. पुलिस ने पिटाई के मामले में 7 लोगों को गिरफ्तार किया है. लेकिन मांस बेचने वाले 2 कारोबारियों को भी पकड़ा है. बरामद मांस को जांच के लिए नागपुर की प्रयोगशाला भेजा गया है.

Read more!

RECOMMENDED