AAP से नाता तोड़ सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद कांग्रेस में शामिल हुईं अलका लांबा

आम आदमी पार्टी से इस्तीफा देने के बाद अलका लांबा ने कांग्रेस पार्टी का दामन थाम लिया है. अलका ने पहले ट्वीट कर कांग्रेस में शामिल होने के बारे में ऐलान किया था और शुक्रवार शाम को सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद कांग्रेस में शामिल भी हो गईं.

AAP पार्टी की पूर्व नेता अलका लांबा कांग्रेस में शामिल होंगी (फोटो-ट्विटर)
aajtak.in
  • नई दिल्ली,
  • 06 सितंबर 2019,
  • अपडेटेड 8:18 PM IST

आम आदमी पार्टी से इस्तीफा देने के बाद अलका लांबा ने अब कांग्रेस पार्टी का दामन थाम लिया है. उन्होंने पहले ट्वीट कर कांग्रेस में शामिल होने के बारे में ऐलान किया था और शुक्रवार शाम को सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद वह कांग्रेस में शामिल भी हो गईं. चांदनी चौक से विधायक अलका लांबा शाम को कांग्रेस के अंतरिम अध्यक्ष सोनिया से मिलने गईं और वहीं पर पार्टी की प्राथमिक सदस्यता ग्रहण कर लिया.

इससे पहले अलका लांबा ने ट्वीट करके इस बात की जानकारी दी और कहा, 'आज शाम 6 बजे, 10 जनपथ पहुंच कर, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता ग्रहण करुंगी.'

इससे पहले दिल्ली के चांदनी चौक से विधायक अलका लांबा ने आज सुबह आम आदमी पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा देने का ऐलान करते हुए ट्विटर पर लिखा, 'AAP को गुड बाय कहने का समय आ गया है. पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया. पिछले 6 साल की यात्रा मेरे लिए काफी सिखाने वाली रही.'

पिछले दिनों मंगलवार को अलका लांबा ने कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की थी. तभी से यह कयास लगने लगा था कि अलका लांबा जल्द ही कांग्रेस में शामिल हो सकती हैं.

अलका लांबा पिछले कुछ महीनों से आम आदमी पार्टी के साथ कई मुद्दों पर खुलकर भिड़ती नजर आ रही थीं. पिछले महीने लांबा ने कहा था कि उन्होंने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा देने का फैसला किया है और वह एक स्वतंत्र उम्मीदवार के तौर पर आगामी विधानसभा चुनाव लड़ेंगी.

लांबा के जवाब में आम आदमी पार्टी ने कहा था कि वह उनका इस्तीफा स्वीकार करने के लिए तैयार है.

हाल ही में हुए लोकसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी के निराशाजनक प्रदर्शन के बाद अलका लांबा ने पार्टी की कड़ी आलोचना की थी. उन्होंने पार्टी प्रमुख और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से हार के लिए जवाबदेही मांगी थी, जिसके बाद उन्हें पार्टी सदस्यों के आधिकारिक व्हाट्सएप ग्रुप से हटा दिया गया था.

Read more!

RECOMMENDED