राजस्थान कांग्रेस की अंदरूनी खींचतान पर बीजेपी ने साधा निशाना

राजस्थान विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद से ही मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के बीच खींचतान के कयास लगाए जाने लगे थे. पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की पुण्यतिथि पर गहलोत और पायलट ने जो कहा, उससे दोनों के बीच सब कुछ ठीक नहीं होने का संकेत मिला.

राजस्थान बीजेपी अध्यक्ष सतीश पूनिया (IANS)
देव अंकुर
  • जयपुर,
  • 26 सितंबर 2019,
  • अपडेटेड 9:09 PM IST

राजस्थान कांग्रेस में शीर्ष स्तर पर कथित खींचतान को लेकर राज्य में मुख्य विपक्षी पार्टी बीजेपी ने निशाना साधना शुरू कर दिया है. बीजेपी के राजस्थान प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने दावा किया है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के बीच अंदरूनी तनातनी का नुकसान राज्य की जनता को उठाना पड़ रहा है.  

पूनिया ने कहा, 'राजस्थान में कांग्रेस सरकार गलती से आई और गलती कर रही है. राजस्थान में जो अब हालात हैं उनमें बुनियादी विकास थम गया है, कानून और व्यवस्था की स्थिति आप से छुपी नहीं है. अंदरूनी तनातनी और अंदरूनी विरोध का नुकसान राज्य के लोगों को उठाना पड़ रहा है.'

क्या अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच सब ठीक?

राजस्थान विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद से ही मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के बीच खींचतान के कयास लगाए जाने लगे थे. पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की पुण्यतिथि पर गहलोत और पायलट ने जो कहा, उससे दोनों के बीच सब कुछ ठीक नहीं होने का संकेत मिला.

इस मौके पर गहलोत ने बताया कि किस तरह राजस्थान में बाढ़ आने पर उन्होंने राजीव गांधी को मदद के लिए तैयार किया था. गहलोत के बाद जब पायलट की बोलने की बारी आई तो उन्होंने कहा कि जिस तरह राजीव गांधी ने उनकी (गहलोत) बात सुनी उसी तरह उन्हें भी विधायकों की बात सुननी चाहिए.

पहले भी कई मौकों पर गहलोत और पायलट के बीच रिश्तों की कड़वाहट सामने आती रही है. विधानसभा चुनाव नतीजे आने के बाद स्थिति और ख़राब हो गई. कांग्रेस को बीजेपी से अधिक सीटों पर जीत मिलने के बाद गहलोत और पायलट दोनों की ओर से ही मुख्यमंत्री पद पर दावेदारी की गई. आखिरकार कांग्रेस आलाकमान ने गहलोत के लंबे अनुभव को देखते हुए मुख्यमंत्री के लिए उनके नाम पर मुहर लगाई.

खुली बाहों से करेंगे स्पीकर के फैसले का स्वागत- सचिन पायलट

विधानसभा चुनाव के कुछ ही महीने बाद लोकसभा चुनाव हुए तो कांग्रेस को बीजेपी के सामने करारी शिकस्त का सामना करना पड़ा. बीजेपी गठबंधन ने राजस्थान की सभी 25 सीटों पर जीत हासिल की. कांग्रेस की इस करारी हार के लिए खेमेबंदी को भी जिम्मेदार माना गया. अभी बीएसपी को छोड़ कर जिन विधायकों ने कांग्रेस का हाथ थामा है, उन्हें मंत्री पद दिया जाए या नहीं, इसको लेकर भी कांग्रेस में अलग अलग राय बताई जा रही है.

उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने इस मुद्दे पर कहा, 'फैसला स्पीकर की ओर से किया जाएगा और जहां तक हमारा संबंध है, हम खुली बाहों से हर उस शख्स का स्वागत करेंगे जो सरकार को मजबूत करेगा. और जैसा कि मैंने आपसे कहा, वो पहले ही ऑन रिकॉर्ड कह चुके हैं कि उन्होंने (बीएसपी से आए विधायकों) बिना किसी शर्त ये फैसला किया है, बिना कोई सरकार में पद के लिए कहे या मंत्री बनने की इच्छा जताए. जो उन्होंने कहा वो बहुत सम्मानजनक है. जाहिर है कि हम उनका स्वागत करने पर बहुत खुश होंगे.'

Read more!

RECOMMENDED